पीएम द्वारा बिहार के तेलिहार गांव से प्रवासी मजदूरों के लिए 20 जून को शुरू किया गया- गरीब कल्याण रोजगार मिशन

कोरोना के चलते लॉकडाउन के कारण प्रवासी मजदूर विभिन्न शहरों से अपने-अपने घर लौटे हैं। केंद्र सरकार इन्हें रोजगार मुहैया कराने के लिए बिहार के खगड़िया जिले के बेलदौर प्रखंड के तेलिहार गांव से 20 जून को “गरीब कल्याण रोजगार मिशन” का श्रीगणेश किया।

बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बिहार के सीएम नीतीश कुमार एवं डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी की मौजूदगी में वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए इस अभियान की शुरुआत की। बाद में पांच अन्य राज्यों के सीएम एवं संबंधित मंत्रालयों के केंद्रीय मंत्री भी इस वर्चुअल लांच में शिरकत करेंगे।

यह भी जानिए कि इस अभियान में बिहार के 32, यूपी के 31, एमपी के 24, राजस्थान के 22, उड़ीसा के 4 तथा झारखंड के 3 जिलों के प्रवासी मजदूरों को रोजगार मिलेगा। इन प्रवासी श्रमिकों को रोजगार देने के लिए विभिन्न प्रकार के 25 कार्यों को तेजी से कराया जाएगा। यह अभियान 12 विभिन्न मंत्रालयों का एक समन्वित प्रयास होगा।

चलते-चलते यह भी बता दें कि इस बाबत केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि भारत सरकार के 25 योजनाओं में 50 हजार करोड़ रुपए के काम होंगे। उन्होंने कहा कि इस योजना के तहत प्रवासी श्रमिकों को उनके कौशल के अनुसार काम दिया जाएगा, जिससे उन मजदूरों की रोजी-रोटी की व्यवस्था होगी। वित्त मंत्री ने बताया कि जिन छह राज्यों के 116 जिलों में बड़ी संख्या में श्रमिकों की वापसी हुई है तथा जिन लोगों के कौशल की सरकार ने मैपिंग कराई है…. उन्हें ही सर्वप्रथम इस मिशन से जोड़ा जाएगा।

सम्बंधित खबरें