पृष्ठ : दुनिया अबतक

फीफा वर्ल्ड कप 2018 का शानदार आगाज

मॉस्को के लुजनिकी स्टेडियम में रंगारंग प्रस्तुति के साथ ‘पैरों के जादूगरों’ के महाकुंभ फीफा वर्ल्ड कप का शानदार आगाज हुआ। उद्घाटन समारोह में सबसे पहले स्पेन के पूर्व कप्तान और गोलकीपर इकर कासिलास और मॉडल नतालिया वोडियानोवा विश्व कप ट्रोफी को लेकर मैदान पर आए। इसके कुछ देर बाद ब्राजील के महान फुटबॉलर रोनाल्डो का आगमन हुआ। उन्होंने बॉल को मस्कट (विश्वकप का शुभंकर) की ओर पास किया, जिसे उनके साथ आए एक बच्चे ने किक लगाकर बॉल पिच (परंपरागत तरीके से कार्यक्रम का आगाज) किया।

रंगारंग कार्यक्रम की शुरुआत ब्रिटिश गायक रॉबी विलियम्स ने ‘आय नो’ गाना गाकर की। उनके बाद रूस की गायिका एइडा गारिफुलिना ने अपनी प्रस्तुति दी। दोनों गायकों ने मिलकर मैदान पर मौजूद दर्शकों का भरपूर मनोरंजन किया। रॉबी ने ‘लेट मी एंटरटेन यू’, ‘फील’ और ‘बर्ड-काइट्स’, सहित अपने हिट्स गानों पर जोरदार प्रस्तुति दी। इन दोनों की प्रस्तुति के दौरान 32 जोड़े विश्व कप में हिस्सा ले रहे सभी देशों की पोशक में उनके झंडे के मार्च करते दिखे। दोनों गायकों की प्रस्तुति खत्म होने के बाद मैच की आधिकारिक गेंद को लेकर मॉडल विक्टोरिया लोपरेया उतरीं।

उद्घाटन समारोह खत्म होने के बाद रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने भाषण दिया और कहा, ‘हम विश्व कप की मेजबानी कर बेहद खुश हैं। फुटबॉल को यहां बहुत प्यार किया जाता है। हमारी जो भी संस्कृति हो, लेकिन फुटबाल हमें एक साथ लेकर आता है। मैं सभी टीम को शुभकामनाएं देता हूं और उम्मीद करता हूं कि आपका अनुभव यादगार रहेगा।’ पुतिन के बाद फीफी के अध्यक्ष गियानी इन्फेंटीनो ने भी सभी टीमों को शुभकामनाएं दीं और विश्व कप के सफल आयोजन की कामना की। उद्घाटन समारोह के लिए अर्मेनिया, अजरबेजान, बेलारूस, बोलीविया, उत्तरी कोरिया, काजाकिस्तान, किर्गिस्तान, लेबनान, मोलड़ोवा, पैराग्वे, पनामा, सऊदी अरब जैसे देशों ने खास तौर पर अपने प्रतिनिधि भेजे थे।

फुटबॉल प्रेमियों को बता दें कि विश्व कप का आयोजन 14 जून से 15 जुलाई तक होगा। यह फीफा का 21वां वर्ल्ड कप है। टूर्नामेंट में 8 पूल की 32 टीमें खिताब के लिए जोर लगा रही हैं और अगले एक महीने तक 11 शहरों के 12 मैदान पर कुल 64 मैच खेले जाएंगे। यह भी जानें कि इस टूर्नामेंट का मौजूदा चैंपियन जर्मनी, जबकि रनरअप अर्जेंटीना है।

फीफा विश्वकप के आठों पूल और उनमें खेलने वाली 32 टीमें इस प्रकार हैं: पूल A: रूस, उरुग्वे, मिस्र, सउदी अरब;  पूल B: पुर्तगाल, स्पेन, ईरान, मोरक्को; पूल C: फ्रांस, पेरू, डेनमार्क, ऑस्ट्रेलिया; पूल D: अर्जेंटीना, आइसलैंड, क्रोएशिया, नाइजीरिया; पूल E: ब्राजील, सर्बिया, कोस्टारिका, स्विट्जरलैंड; पूल F: जर्मनी, मेक्सिको, स्वीडन, साउथ कोरिया; पूल G: इंग्लैंड, बेल्जियम, ट्यूनिशिया, पनामा और पूल H: कोलंबिया, पोलैंड, जापान, सेनेगल।

चलते-चलते यह भी बता दें कि उद्घाटन मैच में मेजबान रूस ने सऊदी अरब पर 5-0 से शानदार जीत दर्ज की। इस मैच में रूस ने पहले हाफ में दो और दूसरे हाफ में तीन गोल किए। टूर्नमेंट का पहला गोल मैच के 12वें मिनट में दागा गया और यह गोल रहा यूरी गाजिंस्की के नाम।

सम्बंधित खबरें


मिले ट्रंप और किम, पूरी दुनिया ने ली चैन की सांस

कभी एक दूसरे का मजाक उड़ाने वाले और कट्टर विरोधी रहे अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप व उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन के बीच मंगलवार को सिंगापुर में ऐतिहासिक शिखर वार्ता हुई। किम ने जहां पूर्ण परमाणु निरस्त्रीकरण का वादा किया है, वहीं ट्रंप ने कहा है कि अमेरिका अब दक्षिण कोरिया में सैन्य अभ्यास नहीं करेगा। अगर दोनों देश अपने वादों पर खरे उतरे तो यह विश्व शांति की दिशा में निश्चित तौर पर मील का पत्थर साबित होगा।

दोनों नेताओं की बहुप्रतीक्षित शिखर वार्ता पर पूरी दुनिया की निगाह किस कदर टिकी हुई थी इसका अंदाजा इस बात से भी लगाया जा सकता है कि इस ऐतिहासिक पल को कवर करने के लिए दुनिया भर से 3000 पत्रकार सिंगापुर पहुंचे थे। ट्रंप और किम ने भी निराश नहीं किया। दोनों नेताओं ने मुलाकात को लेकर जैसी गंभीरता और इस दौरान एक-दूसरे के प्रति जैसी गर्मजोशी दिखाई वह निश्चित तौर पर स्वागत योग्य है।

समिट के अंत में दस्तावेजों पर हस्ताक्षर करने के बाद अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि हमलोगों ने बेहद अहम डॉक्युमेंट पर हस्ताक्षर किए हैं। यह बहुत व्यापक डॉक्युमेंट है। यही नहीं ट्रंप ने किम जोंग-उन को अत्यंत प्रतिभाशाली बताया और कहा कि हम कई बार मिलेंगे। ट्रंप ने यह भी कहा कि वह निश्चित तौर पर किम को वाइट हाउस बुलाएंगे। उधर ऐतिहासिक डॉक्युमेंट पर हस्ताक्षर करने के बाद नॉर्थ कोरिया के नेता किम जोंग-उन ने कहा कि हमने इतिहास को पीछे छोड़ने का फैसला किया। किम ने कहा कि दुनिया बड़े बदलाव देखेगी। उन्होंने इस बैठक के लिए ट्रंप का शुक्रिया कहा।

ट्रंप और किम जोंग-उन की समिट की वजह से चीन के चिंतित होने की खबरें आ रहीं थीं लेकिन बैठक के बाद इसके सुर बदल गए। चीन ने कहा कि इस समिट ने इतिहास बनाया है। यहां तक कि दक्षिण कोरिया ने भी ट्रंप और किम की मीटिंग को ‘सदी की बातचीत’ कहकर इसकी तारीफ की है। इस मुलाकात के बाद नि:संदेह पूरी दुनिया ने चैन की सांस ली है। विश्व-शांति के लिए सचमुच यह एक बड़ा दिन था।

सम्बंधित खबरें


स्पेन के मंत्रिमंडल में दो तिहाई महिलाएं

स्‍पेन में हाल ही में नई (समाजवादी) सरकार आई है और इसके मुखिया हैं 46 वर्षीय पैड्रो सांचेज। बुधवार को प्रधानमंत्री सांचेज ने अपनी 17 सदस्यीय कैबिनेट का ऐलान किया जिसमें 11 यानि लगभग दो तिहाई महिलाएं हैं। स्पेन और यूरोपीय देशों के इतिहास में यह पहला मौका है, जब किसी सरकार में महिलाओं को इतनी बड़ी भागीदारी दी गई हो। सांचेज ने अपने मंत्रियों के नाम की घोषणा मोनक्लोआ पैलेस से की और गुरुवार को स्पेन के राजा फिलिप-6 ने इन सभी को शपथ दिलाई गई।

स्‍पेन के युवा प्रधानमंत्री ने अपने मंत्रियों के नाम की घोषणा करते हुए कहा कि उनकी नई सरकार ‘साफ तौर पर समानता के लिए प्रतिबद्ध है’ और स्‍पेन के समाज में होने वाले बदलावों को प्रदर्शित करना चाहती है। उन्होंने कहा कि स्‍पेन में सन् 1975 में जनरल फ्रांसिस्‍को फ्रैंकों की मौत के बाद जबसे लोकतंत्र की बहाली हुई है, यह पहली सरकार है जिसमें महिलाओं को बहुमत दिया गया है। बकौल सांचेज यह उच्‍च योग्‍यता वाली सरकार है, जो समाज में समानता का प्रतिनिधित्‍व करेगी और साथ ही यूरोप और दुनिया में एक नई शुरुआत करेगी। गौरतलब है कि स्‍पेन में लैंगिक समानता को लेकर आठ मार्च को महिलाओं ने हड़ताल की थी। उन्होंने इस दौरान इस हड़ताल का भी जिक्र किया।

स्‍पैनिश कैबिनेट में शामिल मंत्रियों की बात करें तो इसमें कारमन साल्‍वो को उपप्रधानमंत्री और समानता मंत्रालय का जिम्मा दिया गया है। वह पहले संस्कृति मंत्रालय की मुखिया थीं। इसके अलावा नादिया सैल्विनो को वित्‍त मंत्रालय का काम सौंपा गया है। नादिया इससे पहले यूरोपियन कमीशन में बजट डायरेक्‍टर जनरल का पद संभाल रही थीं। वहीं डोलोरेस डेलगाडो को देश का जस्टिस मंत्री बनाया गया है। उन्‍हें ह्यूमन राइट्स और आतंकवाद से जुड़े मामलों में महारत हासिल है। अन्य मंत्रियों में बार्सिलोना में जन्‍मीं मेरिटेक्सेल बैट स्पेन की टेरिटोरियल मिनिस्‍टर बनाई गई हैं और यूरोपियन संसद की अध्‍यक्ष रह चुकी जोसेफ बॉरेल देश की विदेश मंत्री हैं। स्पष्ट है कि स्‍पेन में सारे अहम विभाग महिलाओं को दिए गए हैं। उन्हें केवल खानापूरी के लिए कैबिनेट में शामिल नहीं किया गया है।

प्रधानमंत्री सांचेज ने बाकी विभागों के लिए भी मंत्रियों को सोच-समझ कर चुना है और उनकी विशेषज्ञता को तरजीह दी है। उदाहरण के तौर पर उनकी कैबिनेट में एक एस्‍ट्रोनॉट और एक जर्नलिस्‍ट को भी जगह दी गई है। जी हाँ, सांचेज ने दो स्पेस मिशन लीड कर चुके 55 वर्षीय पेड्रो ड्यूक को देश का साइंस और इनोवेशन मिनिस्‍टर बनाया है। उनके पास वहां की सारी यूनिवर्सिटी की भी जिम्‍मेदारी होगी। वहीं जर्नलिस्‍ट मैक्सिम ह्यूरेता को देश का नया संस्‍कृति और खेलकूद मंत्री बनाया गया है। स्वयं प्रधानमंत्री सांचेज युवा होने के साथ-साथ इकोनॉमिक्स में खासी योग्यता रखते हैं। वह इस विषय के प्रोफेसर रह चुके हैं। उन्‍होंने स्पेन में पिछले हफ्ते हुए चुनावों में कंज‍रवेटिव पार्टी के मारियानो राजो को हराया है।

चलते-चलते स्पेन की नई कैबिनेट से जुड़ी एक अहम बात और। स्पेन की यह कैबिनेट जहां अपने फेमिनिस्ट होने के कारण चर्चा में है वहीं इस बात के लिए भी कि स्पेन के इतिहास में यह पहली सरकार है, जिसने बाइबिल की जगह संविधान की शपथ ली। यानि हर तरह से एक नई शुरुआत।

सम्बंधित खबरें


जी हाँ, इंडोनेशिया के राष्ट्रपति ने अपने पोते का नाम ‘श्रीनरेन्द्र’ रखा है

इंडोनेशिया, मलयेशिया और सिंगापुर की यात्रा पर गए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी मंगलवार शाम को इंडोनेशिया की राजधानी जकार्ता पहुंचे, जहां स्वाभाविक तौर पर उनका भव्य स्वागत किया गया। बड़े ही आत्मीय माहौल में इंडोनेशिया के राष्ट्रपति जोको विदोदो और प्रधानमंत्री मोदी के बीच परस्पर हित की कई बातें हुईं और कई यादगार पल बीते। पर इस दौरान दो बातें ऐसी हुईं जो प्रधानमंत्री मोदी के लिए शायद कल्पनातीत थीं। चलिए जानते हैं, क्या हैं वे दो बातें।

शुरू करते हैं उस बात से जिसे सुनकर प्रधानमंत्री मोदी का चकित होना स्वाभाविक था। हुआ यों कि स्वागत के उपरान्त अनौपचारिक बातचीत के दौरान इंडोनेशिया के राष्ट्रपति जोको विदोदो ने प्रघानमंत्री मोदी को बताया कि उनके पोते का नाम प्रधानमंत्री मोदी के नाम पर ही श्रीनरेन्द्र रखा गया है। उन्होंने कहा कि उके बड़े बेटे गिबरान राकाबुमिंग के बेटे यानि उनके पोते का का जन्म जनवरी 2016 में हुआ था, जिसका नाम उन्होंने श्रीनरेन्द्र रखा है। निश्चित तौर पर यह बात ना केवल प्रधानमंत्री मोदी के लिए बल्कि पूरे देश के लिए हर्ष और सम्मान की बात है।

यह तो हुई पहली बात। दूसरी बात भी कम चौंकाने वाली नहीं थी। दरअसल इंडोनेशिया के राष्ट्रपति द्वारा आयोजित इस समारोह में प्रधानमंत्री मोदी के स्वागत के लिए इंडोनेशिया की मशहूर सिंगर फ्रायडा लुसिआना का कार्यक्रम भी रखा गया था। लुसिआना को उनके सिंगिंग के साथ-साथ उनके चैरिटी वर्क के लिए भी जाना जाता है। लुसिआना ने इस दौरान 1954 में आई हिन्दी फिल्म ‘जागृति’ का गाना ‘साबरमति के संत’ गाया। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को समर्पित यह गाना वहां के कलाकार से कुछ अलग अंदाज में पर उसी सम्मान और समर्पण के साथ सुनना सचमुच एक अलग अनुभूति से भरने वाला था।

बहरहाल, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने इंडोनेशियाई राष्ट्रपति से समुद्र, व्यापार और निवेश सहित विभिन्न मुद्दों पर द्विपक्षीय सहयोग के संबंध में चर्चा की। उनकी इस यात्रा का उद्देश्य तीनों दक्षिण पूर्व एशियाई देशों – इंडोनेशिया, मलयेशिया और सिंगापुर – के साथ भारत के संबंध को बढ़ाना है। कहने की जरूरत नहीं कि यह उनकी एक्ट ईस्ट नीति का हिस्सा है।

सम्बंधित खबरें


20 मई 1570 को मिला था दुनिया को पहला एटलस

बहुत खास दिन है 20 मई। क्यों खास है, यह जानने के लिए आज से लगभग 450 साल पहले की कल्पना कीजिए। दुनिया का कोई मुकम्मल नक्शा नहीं था तब। पृथ्वी की भौगोलिक बनावट को समझ पाना कितना कठिन रहा होगा उस समय। ऐसे में एटलस की परिकल्पना करना और उसे साकार कर देना असंभव-सा प्रतीत होता है, पर 1570 ई. में आज ही के दिन यानि 20 मई को अब्राहम ऑर्टेलियस ने दुनिया का पहला आधुनिक एटलस प्रकाशित किया और इसे बड़ा सही नाम दिया – Theatrum Orbis Terrarum यानि Theatre of the World अर्थात् दुनिया का रंगमंच। सच्चे अर्थों में दुनिया का रंगमंच ही था वो। इसमें उन्होंने कई कार्टोग्राफर के काम को उनकी व्याख्या और स्रोतों के साथ समाहित किया था। कुछ खामियों और सीमाओं के बावजूद ऑर्टेलियस के इसी एटलस ने व्यवहार में लाए जाने वाले आज के सभी एटलस की नींव रखी थी।

4 अप्रैल 1527 को बेल्जियम के एंटवर्प में जन्मे अब्राहम ऑर्टेलियस पेशे से भूगोलविद और मानचित्र निर्माता थे। उन्होंने अपनी ज़िन्दगी में पहला मैप मिस्र का बनाया था। एशिया, स्पेन और रोमन साम्राज्य के नक्शे भी उन्होंने बनाए। 16वीं शताब्दी में प्रकाशित उनके एटलस में 53 मानचित्र थे। यह वो समय था जब दुनिया में नए-नए इलाके खोजे जा रहे थे। अमेरिका, अफ्रीका के कई देशों को इस सदी में दुनिया ने जाना। बता दें कि ऑस्ट्रेलिया और अंटार्कटिका के बारे में तब कोई जानकारी नहीं थी, इसलिए इस एटलस में पांच महाद्वीपों के ही नक्शे हैं।

ऑर्टेलियस के एटलस से दुनिया की खोज में निकले लोगों को अपनी मंजिल ढूंढ़ने में खासी मदद मिली, संचार में आसानी हुई और उनके नक्शों ने लोगों को पहली बार वैश्विक दृष्टिकोण का साक्षात्कार कराया। कॉन्टिनेन्टल ड्रिफ्ट थ्योरी, जिसमें कहा जाता है कि दुनिया के सारे द्वीप आपस में जुड़े हुए थे और धीरे-धीरे वे टूटना शुरू हुए, की प्रारंभिक जानकारी भी इस एटलस से मिलती है।

अब्राहम ऑर्टेलियस असाधारण प्रतिभा के धनी थे। उनका कई भाषाओं पर अधिकार था। वह बचपन से ही डच, ग्रीक, लैटिन, इटालियन, फ्रेंच, स्पैनिश और कुछ हद तक जर्मन और अंग्रेजी भी बोल सकते थे। उन्होंने क्लासिक साहित्य का अध्ययन किया और विज्ञान के विकास से भी लागातार अपने आप को जोड़े रखा। यह ऑर्टेलियस का ही भगीरथ प्रयत्न था कि दुनिया के ‘कैनवास’ को उसका सही विस्तार मिला। 1570 में अपने एटलस के प्रकाशन के बाद भी दुनिया को समझने और समझाने की उनकी ललक कम न हुई। यही कारण है कि 1622 में जब उनके एटलस का अंतिम संस्करण प्रकाशित हुआ तब उसमें 167 मैप थे। उनके इस अवदान की ऋणी पूरी मानव-सभ्यता है। इस महान शख्सियत की मृत्यु 71 वर्ष की आयु में 28 जून 1598 को हुई। उन्हें और दुनिया को उनके योगदान को हमारा नमन।

मधेपुरा अबतक के लिए डॉ. ए. दीप

सम्बंधित खबरें


मदर्स डे: कुछ अनुभूतियां

मां से छोटा
और ताकतवर
शब्द कोई और हो… तो बताना..!

गम को छिपाकर
वो कहां रखती है
गर तुम्हें मालूम हो… तो दिखाना..!

मौत के रास्ते हैं बहुत
ये मैंने, तुमने, सबने जाना
पर बात जब सृजन की हो
मां की कोख में ही होता है आना..!

मां अनपढ़ हो तब भी
गणित में बड़ी दिलदार होती है
दो रोटी मांग कर देखो
वो हरदम चार देती है..!

साल में एक दिन
मदर्स डे आता है
सब कहते हैं आज
मां का दिन है
कोई तो बतलाए
दिन कौन-सा मां के बिन है..!

ईश्वर ने सृष्टि को रचकर
उसे करीने से सजाया
पर हर बच्चे को पालने में
स्वयं को सक्षम नहीं पाया
तब हारकर उसने मां को बनाया..!

मां वो है
जो बच्चों के पथ में फूल बिछा
स्वयं कांटों पर चल लेती है
मां वो है
जो बच्चों के आज की खातिर
अपना सारा कल देती है..!

सोचो किस कदर वही मां
खून के आंसू रोती होगी
जब घर के बंटवारे में
छाती के टुकड़े ढोती होगी..!

धरा-आसमां बंट जाए सब
मां कब-कहां बंटती है
गोद इतनी विशाल उसकी
पूरी कायनात उसमें अंटती है..!

[डॉ. मधेपुरी की कविता]

 

सम्बंधित खबरें


साढ़े तीन अरब साल पहले सूख गईं मंगल की झीलें

कहना गलत ना होगा कि मंगल ग्रह दूसरे ग्रह पर जीवन की संभावनाएं तलाश रहे दुनिया भर के खगोलविदों के कौतूहल का केन्द्र बना हुआ है। हम और आप भी इस कौतूहल से बचे हुए नहीं हैं और ज्यों-ज्यों इसके बारे में जानकारियां हासिल होती जा रही हैं, कौतूहल भी उसी अनुपात में बढ़ता जा रहा है। आप जानते ही होंगे कि इस ग्रह को लेकर सर्वाधिक उत्सुकता इस बात की रही है कि वहां पानी की मौजूदगी है या नहीं? इस बाबत हुए गहन शोधों से यह स्पष्ट हो चुका है कि मंगल ग्रह का पर्यावरण कभी तरल पानी के अनुकूल था। पर यक्ष प्रश्न जो बच गया थो वो यह कि क्या वो पानी अब भी मौजूद है? और अगर वो वर्तमान में मौजूद नहीं तो अतीत में उसकी मौजूदगी वहां कब तक थी?

इस उत्सुकता को शांत करने के लिए मंगल ग्रह पर फैले नदियों के अवशेषों का अध्ययन किया गया जिससे इस बात की पुष्टि हुई है कि वहां करीब साढ़े तीन अरब साल पहले भारी मात्रा में पानी मौजूद था और फिर कालांतर में वहां की सभी झीलें सूख गईं। जी हाँ, अमेरिकी वैज्ञानिकों ने यह दावा लाल ग्रह की सतह पर मौजूद लंबी दरारों का अध्ययन करने के बाद किया है। इन दरारों की खोज अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के क्यूरियोसिटी रोवर ने 2017 की शुरुआत में की थी।

बता दें कि कैलिफोर्निया इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी के शोधकर्ताओं ने अपने अध्ययन में प्राचीन काल में पृथ्वी के पड़ोसी ग्रह के मौसम से जुड़ी जानकारियों पर से भी पर्दा उठाया है। वैज्ञानिक नैथनील स्टीन का कहना है कि किसी भी प्राकृतिक जलस्त्रोत की तलछट के हवा के संपर्क में आने से सूखी दरारों का निर्माण होता है। ये दरारें झीलों के किनारे की जगह उनके केंद्र के नजदीक स्थित हैं। इससे स्पष्ट है कि समय के साथ इन झीलों के स्तर में उतार-चढ़ाव भी होता था। जियोलॉजी जर्नल में छपे इस शोध के अनुसार पृथ्वी की तरह मंगल के झरने भी एक ही तरह के चक्र का पालन करते थे। इस अध्ययन से लाल ग्रह पर मौजूद झील की प्रणालियों के विषय में जानकारियां सामने आएंगी।

बहरहाल, इस अध्ययन को क्यूरियोसिटी रोवर के मिशन का दूसरा अध्याय कहा जा रहा है। अभी बहुत सी रोमांचक जानकारियों से पर्दा उठना बाकी है। तब तक हम और आप स्वतंत्र हैं अपनी रुचि और कल्पनाओं का लोक वहां बसाने के लिए।

सम्बंधित खबरें


कॉमनवेल्थ गेम्स में भारत 500 मेडल जीतने वाला पाँचवाँ देश बना

भारत के लिए इस 21वें कॉमनवेल्थ गेम्स का 10वाँ दिन वास्तव में सर्वाधिक शानदार रहा | भारत के लिए 88 साल के कॉमनवेल्थ गेम्स के इतिहास में विदेश में मेडल टेबुल में स्थान के लिहाज से सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन रहा |

जहाँ तीन बच्चों की माँ दिग्गज मुक्केबाज एमसी मैरीकॉम भारत की ध्वजावाहक बनी हो वहाँ भारत को अपने सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन से कौन रोकेगा | दशवें दिन आठ गोल्ड मेडल मिले भारत को जिसकी शुरुआत मेरी कॉम ने ही 48 किलोग्राम स्पर्धा वाले बॉक्सिंग में गोल्ड मेडल जीतकर की थी | उस दिन 14 अप्रैल को कुल 17 पदक जीतकर भारत ने मेडलों का अर्धशतक पूरा किया |

बता दें कि संसार के 53 ऐसे स्वतंत्र देशों का एक संघ, जो कॉमनवेल्थ कंट्रीज के नाम से जाना जाता है, का मुख्यालय लंदन में है | वे सभी कभी-न-कभी ब्रिटिश साम्राज्य का हिस्सा हुआ करता था | इन देशों की 2 वर्षों में एक बार लंदन में बैठक होती है | इन्हीं देशों के सम्मिलित खेलों को कॉमनवेल्थ गेम्स कहा जाता है |

यह भी जानिए कि 2018 का कॉमनवेल्थ गेम्स ऑस्ट्रेलिया के गोल्ड कोस्ट स्थित कैरारा स्टेडियम में हजारों पुरुष-महिलाओं खिलाड़ियों एवं खेल पदाधिकारियों की उपस्थिति में 11 दिवसीय विभिन्न प्रतियोगिताओं के रूप में आयोजित किया गया जिसका समापन 15 अप्रैल (रविवार) को जश्न के साथ संपन्न हुआ | इस अवसर पर राष्ट्रमंडल खेल महासंघ की अध्यक्षा लुई मार्टिन ने कहा कि खिलाड़ियों की क्षमता की कोई सानी नहीं | इस बार 2018 में भारत 26 गोल्ड के साथ तीसरे स्थान पर रहा जबकि 2010 में दिल्ली में आयोजित कॉमनवेल्थ गेम्स में 38 गोल्ड जीतकर भारत दूसरे स्थान पर तिरंगा लहराया था | तभी तो हम कहते हैं कि कॉमनवेल्थ गेम्स के इतिहास में विदेश में भारत का दूसरा सर्वश्रेष्ठ और कुल मिलाकर तीसरा सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन रहा है इस बार |

हाँ | यह भी बता दें कि भारत के 115 पुरुष एवं 103 महिला खिलाड़ियों ने इस खेल में कुल 66 मेडल जीते जिसमें 26 गोल्ड, 20 सिल्वर एवं 20 ब्रांज | किसी मायने में महिलाएं पीछे नहीं रही हैं | पुरुष 13 गोल्ड जीते तो महिलाएं 12 गोल्ड हासिल की तथा एक गोल्ड मिक्स्ड टीम ने दिलाई | पुरुषों के साथ कदम से कदम मिलाकर चली महिलाएं |

यह भी जानिए कि भारत का कुश्ती में सक्सेस रेट 100% और बॉक्सिंग में 75% रहा है | भारत पहली बार बैडमिंटन में 6 मेडल जीते जिसमें 2 गोल्ड भी है | यह किसी भी कॉमनवेल्थ गेम्स में बैडमिंटन में सबसे अधिक गोल्ड और मेडल है | मणिका ने टेटे में 4 मेडल जीते यह क्या कम है |

भारत द्वारा इतिहास तब रचा गया जब बैडमिंटन में गोल्ड और सिल्वर के लिए दोनों तरफ से भारतीय महिला खिलाड़ी पीवी सिंधु और साइना संघर्ष कर रही थी | जहाँ पिछली बार ग्लासगो में इंग्लैंड ने सर्वाधिक पदक जीते थे वही इस बार ऑस्ट्रेलिया ने शानदार वापसी की |

और अंत में बिहार को गौरवान्वित करने और अपने स्वर्णिम प्रदर्शनों के बीच “गोल्डन गर्ल” बनी रहने के लिए श्रेयसी को शूटिंग में स्वर्ण दिलाने के लिए ‘मधेपुरा अबतक’ सलाम करता है |

सम्बंधित खबरें


कॉमनवेल्थ गेम्स 2018: बेटियों को सलाम

भारतीय महिला खिलाड़ियों ने कॉमनवेल्थ गेम्स में भारत की झोली में गोल्ड मेडल्स की बरसात कर दी है। इनमें से हालिया गोल्ड मेडल महिला टेबल टेनिस टीम ने जीता है। भारतीय टीम ने सिंगापुर को 3-1 से हराकर पहली बार इस इवेंट में गोल्ड मेडल हासिल किया है। लड़कियों के शानदार प्रदर्शन के कारण आज हर भारतीय इन लड़कियों पर गर्व कर रहा है। देशभर से उनको शुभकामनाएं मिल रही हैं।

कॉमनवेल्थ गेम्स 2018 में भारत के सुनहले सफर की शुरुआत वेटलिफ्टर मीराबाई चानू ने की। वेटलिफ्टर संजीता चानू ने इस सिलसिले को आगे बढ़ाया। वेटलिफ्टिंग में स्वर्ण का सफर यहीं नहीं रुका। सफलता की इस कहानी में अगला नाम जुड़ा वाराणसी शहर से करीब 7 किलोमीटर दूर बसे दादूपुर गांव में रहने वाली पूनम यादव का। कभी अभ्यास के बाद भूखे पेट सोने वाली पूनम यादव ने 69 किलोग्राम भार वर्ग में गोल्ड मेडल जीता। उधर निशानेबाजी में हरियाणा के झज्जर की बेटी मनु भाकर ने स्वर्णिम सफलता दिलाई तो महिला टेबल टेनिस के गोल्ड पर भी हमारी बेटियों ने कब्जा जमाया।

क्या आम और क्या खास, भारत की इन बेटियों ने सभी का सीना चौड़ा किया है और यही वजह है कि सभी इनको दिल खेलकर बधाइयां दे रहे हैं। सदी के महानायक बच्चन ‘यूनाइटेड नेशन्स गर्ल चाइल्ड’ के ब्रैंड ऐंबेसडर अमिताभ बच्चन ने भी ट्विटर पर इन विजयी लड़कियों की तस्वीर शेयर की है और बधाई दी है। उन्होंने लिखा है, ‘खेल की महानता और महिला ऐथलीट्स का गौरव कमाल कर रहा है। वेट लिफ्टिंग, शूटिंग, टेबल टेनिस, स्क्वैश… अद्भुत। आप हम भारतीयों का गौरव हैं।’

भारत की इन बेटियों को ‘मधेपुरा अबतक’ का सलाम..! आइये, हम सभी इन बेटियों को बधाई दें और प्रण करें कि अपनी बेटियों की नैसर्गिक प्रतिभा को निखारने में कोई कसर नहीं रखेंगे। याद रखें, हमारी आज की मेहनत ही कल सोना बनकर दमकेगी।

सम्बंधित खबरें


खुद को संवारेंगे या संस्कृति को सहेजेंगे संसद सदस्य ?

भारत अपने आप में एक महत्वपूर्ण विश्व विरासत है | विश्व विरासत की सूची में सांस्कृतिक संपदा के क्षेत्र में अग्रणी राष्ट्र है भारत | भारत के लिए अपनी संस्कृति को हर हाल में सहेजकर तथा सम्मान के साथ बचाकर रखना अपेक्षित है | परंतु, भारतीय संसद के सदस्यगण अपनी संस्कृति को सहेजने के बजाय खुद को नाना प्रकार की सुविधाओं से लैस करने एवं सँवारने में लगे रहते हैं |

तभी तो प्रेम व भाईचारे वाले त्यौहार जिसे आम लोगों द्वारा भी उमंग के साथ खुशियाँ बांटने वाला पर्व ‘होली’ कहकर संबोधित किया जाता है तथा मथुरा-वरसाने की वह ‘होली’ जो परम को भी प्रिय है | बावजूद इसके हमारे संसद सदस्यों की अवहेलना के चलते केंद्रीय डाक विभाग द्वारा आजादी के बाद से आज तक कोई डाक टिकट ‘होली’ को लेकर जारी नहीं किया गया | जबकि दक्षिण अमेरिका का ‘गुयाना’ दुनिया का एकलौता ऐसा देश है जिसने ‘होली’ पर लगभग 50 वर्ष पूर्व (26 जनवरी 1969) ही चार डाक टिकटो का खूबसूरत सेट जारी किया था जिसमें राधा-कृष्ण को होली खेलते हुए तथा रंग-गुलाल से बचते-बचाते हुए दिखाया गया है |

बता दें कि यह कितनी अफसोस की बात है कि जो भी त्यौहार यानी ‘होली, ईद….. आदि हमारे देश में इतना अहम हैं, उन पर संसद-सदस्यों द्वारा अभी तक ध्यान नहीं दिये गये हैं और ना ही डाक टिकटें जारी किये गये हैं  | अलबत्ता एक दो के अलाबे सभी सांसद सदस्यगण वेतन-भत्ता व अन्य सारी सुविधाओं में बढ़ोतरी के लिए सदैव ‘कागचेष्टा वकोध्यानंम….’ को भी मात देने में लगे रहते हैं बल्कि संस्कृति भांड़ में जाय तो जाय…… उसकी कभी चिंता नहीं करते |

हाँ ! 10 वर्षों की सतत मांग के बाद ही भारत में दीपावली पर 7 अक्टूबर 2008 को तीन डाक टिकट जारी किए गये | इसमें भी गुयाना हमें पीछे छोड़ दिया | क्योंकि , गुयाना लगभग 30 वर्ष पूर्व ही दिपावली पर चार टिकट जारी कर दिये थे जिसमें महालक्ष्मी के साथ दीप दान का चित्र बना है |

सम्बंधित खबरें