Tag Archives: madhepura

मधेपुरा बनेगा बाल विवाह व दहेज मुक्त जिला- डीएम

मधेपुरा के डायनेमिक डीएम मो.सोहैल ने अपने समस्त अधिकारियों-पदाधिकारियों के साथ दोनों अनुमंडलों मधेपुरा सदर एवं उदाकिशुनगंज में आयोजित एक दिवसीय कार्यशाला में बाल विवाह व दहेज प्रथा उन्मूलन हेतु अपने-अपने अनुमंडल के सभी प्रखंड क्षेत्रों के पंचायतों के पूर्व व वर्तमान सभी प्रकार के जनप्रतिनिधियों को संबोधित करते हुए कहा कि दहेज प्रथा कानूनी जुर्म ही नहीं बल्कि सामाजिक बुराई भी है | मो.सोहैल ने इन कुरीतियों को समाज के लिए अभिशाप बताते हुए कहा कि महज कानून से ये दोनों खत्म होने वाला नहीं है बल्कि इसके लिए सबों को जागरुक होना सर्वाधिक जरूरी है |

बता दें कि दोनों अनुमंडलों के कार्यशालाओं को अलग-अलग संबोधित करते हुए डीएम मो.सोहैल (भा.प्र.से.) ने यही कहा कि इनसे मुक्ति पाने के लिए पंचायत प्रतिनिधिगण अपने-अपने क्षेत्रों में बालिका शिक्षा को बढ़ावा दे तथा शिक्षा पूरी होने यानि 21 वर्ष से अधिक उम्र होने के बाद ही बालिकाओं को पारिवारिक जिम्मेवारी देने की बातें बताएं |

आगे इस्लाम में भी दहेज को अपराध बताते हुए डीएम मो.सोहैल ने कार्यशाला में उपस्थित पदाधिकारियों, पंचायत जनप्रतिनिधियों एवं समाजसेवियों को आधे दर्जन से अधिक बहुमूल्य टिप्स देते हुए यही कहा-

  1. बाल विवाह व दहेज उन्मूलन को लेकर वार्ड, पंचायत, प्रखंड, अनुमंडल व जिला स्तर पर निगरानी समिति का गठन किया जायेगा |
  2. प्रत्येक स्तर पर छह सदस्यीय निगरानी समिति गठित की जायेगी |
  3. बाल विवाह और दहेज प्रथा को लेकर निगरानी समिति की सूचना पर प्रशासन त्वरित कार्यवाई करेगी ||
  4. स्कूलों में लड़के और लड़कियों के लिए क्रमशः बालसखा व बालसखी बने, जो कहीं भी जाकर लोगों को नशाबंदी, बाल विवाह व दहेज प्रथा को लेकर जागरूक करे जिसके लिए बाल सखाओं को एक सौ नम्बर अतिरिक्त मिलेगा ||
  5. जिले में शुरू किये गये “बन्धन ऐप” को मोबाइल पर डाउनलोड करने वाले को ₹100 मिलेगा |
  6. अब तक बाल विवाह व दहेज को लेकर जिले के 46,000 बच्चों ने घोषणा पत्र दिया है |
  7. केशव कन्या उच्च विद्यालय की करीब 300 छात्राओं ने शादी की उम्र कम से कम 21 वर्ष निर्धारित करने को लेकर हस्ताक्षर अभियान चलाया है, क्योंकि उच्च शिक्षा पूरी होने में कम से कम 21 वर्ष लग ही जाते हैं |

यह भी जानिए कि जहाँ भूपेन्द्र कला भवन मधेपुरा के कार्यशाला में उपस्थित एसपी विकास कुमार, डीडीसी मुकेश कुमार, एसडीएम संजय कुमार निराला, डीईओ उग्रेश प्रसाद मंडल सहित पंचायत प्रतिनिधि स्वदेश कुमार, मनोज साह, अरुण कुमार यादव, अनिल अनल, राज किशोर यादव आदि ने कहा कि बाल विवाह व दहेज प्रथा जैसे सामाजिक बुराइयों को सामाजिक जागृति से ही खत्म किया जा सकता है वहीं उदाकिशुनगंज के कार्यशाला में एसडीएम एसजेड हसन, कार्यपालक दण्डाधिकरी अनिल कुमार, सीआई निजामुल हक आदि पदाधिकारीगण सहित समाजसेवी जय प्रकाश सिंह, विकास चंद्र यादव आदि ने सामाजिक कुरीतियों से मुक्ति पाने के लिए सामाजिक चेतना जागृत करने की जरूरत पर बल दिया |

अंत में डीएम मो.सोहैल ने कहा कि विगत वर्ष 21 जनवरी को नशाबंदी को लेकर किये गये मानव श्रृंखला में अपने जिले को सूबे में प्रथम पंक्ति में जगह मिली थी……… इस बार प्रथम स्थान पाने के लिए हम सबों का प्रयास जारी रहेगा……!!

सम्बंधित खबरें


नशा मुक्ति दिवस पर जाग उठा जज्बाती जिला मधेपुरा !

मधेपुरा जिला मुख्यालय सहित सभी सदर प्रखंडो एवं उदाकिसुनगंज अनुमंडल के आलमनगर, चौसा, पुरैनी, बिहारीगंज, ग्वालपाड़ा व अन्य प्रखंडों में नशामुक्ति दिवस (26 नवंबर) सर्वाधिक उत्साह एवं संकल्प के साथ सवेरे से देर शाम तक यानि दिनभर संकल्पित भाव के साथ मनाया गया |

शहर के उर्दू मध्य विद्यालय, कन्या मध्य विद्यालय से लेकर टी.पी.कॉलेजिएट, SNPM, रास बिहारी, केशव कन्या उच्च माध्यमिक +2 विद्यालयों सहित अन्य सरकारी व प्राइवेट विद्यालयों- कौनवेटों के छात्र-छात्राओं द्वारा बी.एन.मंडल स्टेडियम से रंगारंग ‘नशा मुक्ति दिवस’ के बैनरों एवं नारों के साथ प्रभात फेरी निकाली गई | स्कूली बच्चों ने ‘नशा मुक्ति अभियान’ में बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया तथा शहर के बी.पी.मंडल चौक, भूपेन्द्र चौक, मस्जिद चौक, थाना चौक, शिवनंदन चौक, सुभाष चौक, कर्पूरी चौक का भ्रमण करते हुए नशा के खिलाफ नारे लगा-लगाकर लोगों को जागरुक किया |

बता दें कि समाजसेवी साहित्यकार डॉ.भूपेन्द्र मधेपुरी सहित पदाधिकारियों एएसपी राजेश कुमार, एसडीएम संजय कुमार निराला, डीएसपी रहमत अली, शौकत अली, नरेश पासवान, अशोक चौधरी आदि की उपस्थिति में जिले के उच्चाधिकारी द्वय डीएम मो.सोहैल एवं एसपी विकास कुमार ने संयुक्त रुप से हरी झंडी दिखाकर स्कूली बच्चों की प्रभात फेरी को रवाना किया |

DM Md.Sohail showing green flag to the students at B.N. Mandal Stadium Madhepura.
DM Md.Sohail showing green flag to the students at B.N. Mandal Stadium Madhepura.

फिर दिन में जिला उत्पाद विभाग के अधीक्षक शैलेन्द्र मिश्रा एवं उत्पाद निरीक्षक राजू मिश्रा की देख-रेख में स्थानीय भूपेन्द्र कला भवन में ‘नशामुक्ति से संबंधित विषयों’ पर आधारित निबंध एवं चित्रकला प्रतियोगिता में प्रथम-द्वितीय एवं तृतीय आये प्रतियोगियों क्रमशः निशा कुमारी- आनंद कुमार- कुशल आनंद एवं रूमा कुमारी- आनंद कुमार- मो.मौशिम जिया को डीएम मो.सोहैल एवं एसपी विकास कुमार ने पुरस्कृत किया |

यह भी जानिये कि कार्यक्रम के दौरान टीवी के जरिये जिले के वरीय पदाधिकारियों सहित शहर के गणमान्यों ने सीएम, डिप्टी सीएम एवं मुख्यसचिव आदि के सारगर्भित भाषणों को सुना और बाद में मधेपुरा के डायनेमिक डीएम मो.सोहैल (भा.प्र.से.) ने अपने संबोधन में यही कहा-

‘नशामुक्ति से समाज में अमन शांति व स्थिरता कायम होने के साथ-साथ विकास का मार्ग भी प्रशस्त हुआ है | नशा मुक्ति से बहुत बड़े पैमाने पर सामाजिक बदलाव हुए हैं- शराब में खर्च होने वाली राशि अब घर-परिवार संभालने में और बच्चे-बच्चियों की शिक्षा पर खर्च होने लगे हैं, जो सूबे के लिए सुखद संकेत है…….!’

इसके अलावे एसपी विकास कुमार ने जहां यह कहा कि शराबबंदी सहित अन्य नशा पर अंकुश लगने से अब रोड दुर्घटनाओं के साथ-साथ अपराधों की दर में कमी आई है वहीं एसडीएम संजय कुमार निराला ने अपने संबोधन में यही कहा कि नशामुक्त समाज बनाने में सरकार ही नहीं आम लोगों का सहयोग भी जरूरी है | इस अवसर पर डीडीसी, एएसपी, उत्पाद अधीक्षक, डीपीआरओ सहित अन्य समाजसेवियों ने भी अपने-अपने विचार रखे |

अंत में शाम 5:00 बजे से भूपेन्द्र कला भवन मंच से कला जत्था एवं स्थानीय कलाकारों सहित नवाचार रंगमंडल के अमित अंशु, सुनीत साना सहित सभी कलाकारों द्वारा ‘बदल रहा है बिहार’ पर दी गई प्रस्तुति आरंभ से समापन तक तालियाँ बटोरती रही और डीएम, एसपी सहित सभी उच्चाधिकारियों व गणमान्यों द्वारा अंत तक कलाकारों का उत्साहवर्धन किया जाता रहा |

सम्बंधित खबरें


मधेपुरा के लिए अच्छी खबर- खुलेगा ट्रॉमा सेंटर

मधेपुरा के डायनेमिक डीएम मो.सोहैल ने बताया कि मधेपुरा सदर अस्पताल में कोसी क्षेत्र का पहला ‘ट्रॉमा सेंटर’ बनाने के लिए राज्य सरकार की ओर से स्वीकृति प्रदान कर दी गई है वहीं मधेपुरा के सिविल सर्जन डॉ.गदाधर प्रसाद पांडे ने यह जानकारी दी कि ट्रॉमा सेंटर निर्माण हेतु 4 करोड़ 44 लाख 95 हज़ार 643 रुपया बिहार चिकित्सा सेवाएं एवं आधारभूत संरचना निगम लिमिटेड को निर्गत कर दी गई है तथा प्रशासनिक स्वीकृति मिलते ही ट्रॉमा सेंटर निर्माण कार्य प्रारंभ कर दिया जायेगा |

बता दें कि मधेपुरा में कोसी का पहला ट्रॉमा सेंटर निर्माण की सरकारी स्वीकृति पर खुशी जाहिर करते हुए समाजसेवी डॉ.भूपेन्द्र मधेपुरी ने कहा कि कोसी के लोगों के लिए वरदान साबित होगा ट्रॉमा सेंटर | डॉ.मधेपुरी ने यह भी कहा कि कोसी प्रमंडल के तीनों जिलों में ट्रॉमा सेंटर नहीं होने के कारण सड़क दुर्घटना में गंभीर रुप से जख्मी मरीजों को पटना, पूर्णियाँ या दरभंगा….. आदि जगहों के लिए रेफर किया जाता है और अधिकतर मरीजों की जान अस्पताल पहुंचने से पूर्व ही हो जाती है | यहाँ ट्रॉमा सेंटर खुलने पर गंभीर रुप से जख्मी मरीजों को भी बाहर रेफ़र नहीं करना पड़ेगा | सर्वाधिक जख्मी मरीजों की जान बचाई जा सकेगी |

यह भी जानिए कि भीषण दुर्घटनाग्रस्त तथा गोली लगने पर गंभीर रुप से जख्मी मरीजों की जान, समय पर इलाज नहीं होने के कारण चली जाती है- वह अब नहीं होगा बल्कि बेहतर इलाज अब संभब हो पायेगा क्योंकि सिविल सर्जन डॉ.पांडे ने बताया कि ट्रॉमा सेंटर में मौजूद रहेगा- सी आर्म मशीन, सीटी स्कैन, भेंटीलेटर, एक्स-रे, आईसीयू, ओटी…… सहित जनरल सर्जन, ऑर्थोपेडिक सर्जन, न्यूरो सर्जन, जनरल फिजिशियन…….. एनेस्थिसियोलॉजी……. रेडियोलोजी सहित आपातकालीन चिकित्सा से संबंधित अन्य आवश्यक सभी सुविधाऍ |

यह भी बताया गया कि राज्य के 6 जिले- रोहतास, मुजफ्फरपुर, गया, दरभंगा, पूर्णिया और मधेपुरा में ट्रॉमा सेंटर स्थापित करने हेतु तकनीकी रूप से अनुमोदित प्राकुलन उपलब्ध कराये गये थे, परंतु सूबे के स्वास्थ समिति के उप सचिव आर.किशोर ने प्रस्तावित छह ट्रॉमा सेंटरों में से मात्र दो- दरभंगा मेडिकल कॉलेज एवं मधेपुरा सदर अस्पताल का निर्माण की स्वीकृति दी है |

चलते-चलते यह भी बता दें कि प्रशासनिक स्वीकृति मिलते ही ट्रॉमा सेंटर निर्माण कार्य निर्धारित 8 शर्तो सहित समय सीमा के अंदर पूरा कर लिया जाएगा | हाँ ! इसका निर्माण अग्नि आपदा से निपटने के लिए फायर सेफ्टी मानक संचालन प्रक्रिया के अनुसार किया जाएगा | कार्य के भौतिक सत्यापन एवं गुणवत्ता की जांच रिपोर्ट के बाद ही राज्य स्वास्थ्य समिति भुगतान करने की कार्यवाई हेतु निदेश जारी करेगी |

सम्बंधित खबरें


बीएनएमयू में हिन्दी-उर्दू एक विरासत पर हुआ राष्ट्रीय सेमिनार

मधेपुरा के बी.एन. मंडल विश्वविद्यालय स्नातकोत्तर उर्दू विभाग द्वारा आयोजित दो दिवसीय राष्ट्रीय सेमिनार के ‘हिन्दी-उर्दू एक विरासत’ विषय का उद्घाटन करते हुए माननीय कुलपति डॉ.अवध किशोर राय ने कहा कि हमारी सभी भाषाएं साझी संस्कृति का वाहक है तथा भारत की साझी संस्कृति अत्यन्त प्राचीन और समृद्ध है | सभी भाषाएं सगी बहनें जैसी हैं और एक दूसरे की पूरक भी हैं | डॉ.राय ने अपने संबोधन में बड़ी ही पवित्र बातें कहीं, वह यह कि जैसे कई नदियाँ मिलकर गंगा को समृद्ध करती हैं, वैसे ही सभी भारतीय भाषाएं मिलकर हिन्दी को समृद्ध करती हैं | उन्हें एक-दूसरे से अलग नहीं किया जा सकता है | सभी मिलकर हिन्दी को पूर्ण बनाती है, सभी भाषाएं हमारी साझी विरासत है | किसी भी भाषा का किसी से कोई बैर नहीं है बल्कि हरेक के बीच सुमधुर समन्वय है |

Vice-Chancellor Dr.AK Ray inaugurating seminar along with other officers at B.N. Mandal Auditorium Madhepura.
Vice-Chancellor Dr.A.K. Ray inaugurating Seminar along with other officers at B.N. Mandal Auditorium Madhepura.

इस अवसर पर प्रतिकुलपति डॉ.फारुख अली ने कहा कि आजादी की लड़ाई में हिन्दी और उर्दू दोनों ने कंधे से कंधा मिलाकर काम किया | उन्होंने कहा कि हिन्दी और उर्दू जहाँ एक ओर भारत माता की दो खूबसूरत आंखें हैं वहीं दूसरी ओर सभी भाषाओं के चेहरे भले ही अलग-अलग हों लेकिन दिल एक है | मुख्य अतिथि मो.अली जौहर ने उर्दू को उपेक्षित बताते हुए सम्मान दिलाने की चर्चा की |

ज्ञातव्य हो कि वहीं बिहार सरकार उर्दू निदेशालय की ओर से जिले में उर्दू को बढ़ावा देने के लिए विविध प्रकार की प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जा रहा है | सभी प्रारंभिक विद्यालयों का नाम हिन्दी एवं उर्दू में लिखने का आदेश सभी प्रधानों एवं पदाधिकारियों को दिया जा रहा है |

बता दें कि इस आयोजन की अध्यक्षता डॉ.फसीह उद्दीन अहमद ने की और कार्यक्रम का संचालन विश्वविद्यालय ऑडिटोरियम में डॉ.अबुल फजल द्वारा शानदार तरीके से संपन्न किया गया | भारी संख्या में छात्र-शिक्षक एवं बुद्धिजीवियों की उपस्थिति अन्त तक बनी रही |

यह भी जानिये कि सेमिनार के दूसरे दिन विश्वविद्यालय के पी.जी. उर्दू विभाग एवं बिहार उर्दू अकादमी के संयुक्त तत्वावधान में तकनीकी सत्र के दरमियान अध्यक्षता करते हुए डॉ.एहसान ने जहाँ कहा कि उर्दू का भविष्य उज्जवल है, वहीं जामिया मिलिया इस्लामिया दिल्ली के डॉ.सैफुल्लाह सैफी ने कहा कि उर्दू सद्भावना की भाषा है |
सेमिनार में डॉ.प्रज्ञा प्रसाद, डॉ.अबुल फजल, सहनवाज आलम, मो.अशरफ, साहिल कौशर डॉ.के.सुल्ताना आदि ने अपने-अपने विचार व्यक्त किये |

सम्बंधित खबरें


मधेपुरा में दो दिवसीय युवा उत्सव बना संकल्प दिवस

बिहार सरकार के कला, संस्कृति व युवा विभाग और जिला प्रशासन मधेपुरा के संयुक्त तत्वावधान में स्थानीय बी.एन.मंडल स्टेडियम में दो दिवसीय (7-8 नवंबर) युवा-उत्सव का उद्घाटन जिले के डायनेमिक डीएम मो.सोहैल, समाजसेवी साहित्यकार डॉ.भूपेन्द्र मधेपुरी, निवर्तमान डीडीसी मिथिलेश कुमार, ADM अब्दुल रज्जाक, निवर्तमान एनडीसी मुकेश कुमार, डॉ.शान्ति यादव, जयकृष्ण यादव आदि ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्वलित कर किया |

बता दें कि जिले के समस्त युवा खिलाड़ियों, शिक्षकों, अभिभावकों एवं पदाधिकारियों सहित उपस्थित दर्शकों को संबोधित करते हुए डीएम मो.सोहैल ने कहा कि इसे आप सरकारी महोत्सव नहीं  बल्कि इसे आप अपना उत्सव मानें और इस युवा उत्सव को युवा संकल्प उत्सव के रूप में मनायें, क्योंकि मधेपुरा जिले की 48% आबादी युवा हैं | उन्होंने स्कूली छात्र-छात्राओं को संबोधित करते हुए कहा कि आप युवाओं की बदौलत ही मधेपुरा जिला को नई ऊंचाई तक पहुंचाया जा सकता है |

Dr.Bhupendra Madhepuri conferring medals to the winning students at B.N. Mandal Stadium, Madhepura.
Dr.Bhupendra Madhepuri conferring medals to the winning students at B.N. Mandal Stadium, Madhepura.

इस अवसर पर बाल विवाह एवं दहेज से तौबा करने की अपील करते हुए डीएम ने युवाओं से जिले को खुले में शौच मुक्त बनाने हेतु सहयोग करने के लिए बार-बार ध्यान आकृष्ट किया | उन्होंने कहा कि हम सभी मिलकर आज तीन संकल्प लें तो स्थिति बदल जायेगी- यही कि बाल विवाह नहीं करेंगे, दहेज नहीं लेंगे और ग्रेजुएशन व नौकरी के बाद ही शादी करेंगे | जिलाधिकारी ने खेल को मानवीय जीवन का अभिन्न अंग बताते हुए यह भी कहा कि महोत्सव में सांस्कृतिक कार्यक्रमों का भी आयोजन होना है | यहां के खिलाडी प्रतिभा संपन्न हैं जो जिले सहित प्रदेश और देश का नाम रोशन करने में लगे हैं |

कार्यक्रम के आरंभ में समाजसेवी-साहित्यकार डॉ.भूपेन्द्र नारायण मधेपुरी ने अपने संक्षिप्त संबोधन में कहा कि जिले के खिलाड़ियों, रंगकर्मियों, संगीत एवं कला को समर्पित छात्र-कलाकारों में उत्साह है, उमंग है, क्षमता है और लगन है जिसकी बदौलत उनकी श्रेष्ठता पर गर्व कर यह मधेपुरा जिला दिन-प्रतिदिन आगे बढ़ता जा रहा है…….. विगत वर्ष नवाचार रंगमंडल का प्रदर्शन बिहार के 38 जिलों में दूसरे नंबर पर रहा | उन्होंने जहाँ डायनेमिक DM Md.Sohail  की टीम द्वारा कई अवसर पर जिले को राज्य में प्रथम आने की सराहना की वहीं इस युवा उत्सव के दौरान डीडीसी एवं एनडीसी के ट्रांसफर को इस आयोजन में हल्की उदासी का कारण भी बताया |

इस अवसर पर जहाँ निवर्तमान डीडीसी मिथिलेश कुमार ने खिलाड़ियों का उत्साहवर्धन किया वहीं प्रभारी एडीएम अब्दुल रज्जाक ने चीन के खिलाडियों का उदाहरण देते हुए युवाओं को प्रेरित भी किया | जिला के एसपी विकास कुमार सहित उपनिर्वाचन पदाधिकारी महेश पासवान, डॉ.शांति यादव, जिला जद(यू) अध्यक्ष प्रो.बिजेन्द्र नारायण यादव, शौकत अली, जय कृष्ण यादव, ध्यानी यादव आदि अंत तक उपस्थित रहे | जिला कबड्डी संघ के सचिव अरुण कुमार ने मंच संचालन किया |

कार्यक्रम के अंत में विजयी खिलाड़ियों को डॉ.मधेपुरी एवं जिला अल्पसंख्यक कल्याण पदाधिकारी सह प्रभारी एनडीसी रजनीश कुमार राय ने मेडल पहनाकर उत्साहवर्धन किया |

सम्बंधित खबरें


मधेपुरा में महाकवि विद्यापति की जयन्ती मनी

कौशिकी क्षेत्र हिन्दी साहित्य सम्मेलन संस्थान के अंबिका सभागार में वरिष्ठ साहित्यकार-इतिहासकार हरिशंकर श्रीवास्तव शलभ की अध्यक्षता में मैथिल कोकिल महाकवि विद्यापति की भावभीनी जयन्ती मनाई गई, जिसमें टी.पी.कॉलेज के मैथिली विभागाध्यक्ष एवं हिन्दी-मैथिली में “लोक जीवन में संस्कार गीतक महत्व” के रचनाकार डॉ.अमोल राय द्वारा- भक्ति, सौंदर्य एवं प्रेम के महान गायक विद्यापति पर मनभावन आलेख का पाठ किया गया |

इस अवसर पर जहाँ तिलकामांझी भागलपुर विश्वविद्यालय के पूर्व प्रतिकुलपति डॉ.के.के.मंडल ने डॉ.अमोल राय के आलेख की भरपूर प्रशंसा की तथा आशीर्वचन देते हुए कहा कि उनकी इस रचना पर BHU में शोधकार्य की भूमिका तैयार हो रही है….. वहीं सम्मेलन के सचिव डॉ.भूपेन्द्र मधेपुरी ने बीएनएमयू के सी.सी.डी.सी. रह चुके डॉ.अमोल राय को अंगवस्त्रम-पाग-बुके आदि से सम्मानित करते हुए महाकवि विद्यापति की शिवभक्ति पर कई मार्मिक प्रसंगों की चर्चाएं की | चर्चा को बढ़ाते हुए विदुषी डॉ.शांति यादव ने डॉ.राय के आलेख पाठ की विस्तृत चर्चा एवं सराहना करते हुए कहा कि महाकवि विद्यापति का यश अंतर्राष्ट्रीय सीमा को पार कर चुका है | इनके गीत बिहार, बंगाल, उड़ीसा………. आदि में ही नहीं बल्कि नेपाल, फीजी, मॉरिशस……. आदि देशों में रहनेवाले भारतीय मूल के लोग नित्यप्रति गाया करते हैं | इसी कड़ी में डॉ.विनय कुमार चौधरी, प्रो.शचीन्द्र महतो, प्रो.मणिभूषण, त्रिवेणीगंज से आये सुरेन्द्र भारती आदि ने भी अपने-अपने विचार व्यक्त किये |

Kaushiki Kshetra Hindi Sahitya Sammelan Sachiv Dr.Madhepuri felicitating Dr.Amol Rai with Angbastram-Bouquet-Paag at Ambika Sahitya Sabhagar, Madhepura.
Kaushiki Kshetra Hindi Sahitya Sammelan Sachiv Dr.Madhepuri felicitating Dr.Amol Rai with Angbastram-Bouquet-Paag at Ambika Sahitya Sabhagar, Madhepura.

अध्यक्षीय उद्बोधन में साहित्यकार शलभ ने कहा कि विद्यापति आदिकाल और वीरगाथा काल के प्रतिनिधि कवि थे | उन्होंने संस्कृत, अबहट और हिंदी साहित्य के आदिकाल पर वृहद प्रकाश डालते हुए कहा कि विद्यापति ने जहाँ आदिकाल के लिए ‘कीर्तिलता’, ‘कीर्तिपताका’ की रचना की वहीं भक्तिकाल के लिए ‘पदावली’ के अनेक भक्ति गीतों की, जहाँ उन्होंने रीतिकाल के लिए राधाकृष्ण के प्रेम-श्रृंगार के पद रचे वहीं आधुनिक काल के लिए उनकी सारी रचनाएं समीचीन हैं | कवि शलभ ने यहाँ तक कह डाला कि विद्यापति में संपूर्ण मिथिला की सांस्कृतिक विरासत सन्निहित है, जीवित है…….|

आयोजन के दूसरे सत्र में सुकवि तारानन्दन तरुण एवं गजलकार वसंत की स्मृति में कविगोष्ठी का सफल संचालन किया डॉ.विनय कुमार चौधरी ने और अपनी एक-एक प्रतिनिधि कविता का पाठ किया- डॉ.शांति यादव, सुरेन्द्र भारती (त्रिवेणीगंज), सम्मेलन के सचिव डॉ.मधेपुरी, अभिनंदन मंडल, आशीष मिश्रा, राकेश कुमार ‘द्विजराज’, संतोष सिन्हा, राजू भैया, मणिभूषण वर्मा, डॉ.आलोक कुमार, दशरथ प्रसाद सिंह ‘कुलिश’, डॉ.अरुण कुमार, सियाराम यादव ‘मयंक’, उल्लास मुखर्जी…….. आदि | सुधि श्रोता के रूप में भोला प्रसाद सिन्हा, बलभद्र यादव, प्राण मोहन, शिवजी साह, पारोजी, रघुनाथ प्रसाद यादव, तारा शरण……… आदि अंत तक रहे |

कार्यक्रम की सफलता के लिए तुलसी पब्लिक स्कूल के निदेशक एवं सम्मेलन के उपसचिव श्यामल कुमार ‘सुमित्र’ सहित उपस्थित विद्वान एवं साहित्यनुरागियों को सचिव डॉ.मधेपुरी द्वारा धन्यवाद ज्ञापित कर अध्यक्ष के निदेशानुसार समारोह की समाप्ति की घोषणा की गई |

सम्बंधित खबरें


सूर्योपासना का चार दिवसीय महाछठ पर्व शुरू………..!

मधेपुरा सहित जिले के सभी प्रखंडों के मुख्यालय से लेकर सुदूर गाँवों तक सभी समुदाय के लोग सप्ताह भर से इस लोक आस्था के छठ महापर्व को लेकर जहाँ जोर-शोर से घर से घाट तक की सफाई व सजावट करने में लगे नजर आते रहे वहीं प्रदेश के मंत्री-मुख्यमंत्री से लेकर जिला प्रशासन के आलाधिकारी डीएम मो.सोहैल, एसपी विकास कुमार, एसडीएम संजय कुमार निराला की पूरी टीम विधि व्यवस्था से लेकर आपात स्थिति से निपटने तक के लिए नदी में गोताखोरों तथा तटों पर दमकल सहित एंबुलेंसों तक की व्यवस्था में जुटे रहे | इस बार घाटों पर सादे लिवास में पुलिस तैनात की जा रही है विस्फोटक पदार्थों पर भी नजर रखी जा रही है |

बता दें कि जहाँ नदी में खतरे के निशान को चिन्हित कर रस्सी से घेरा जा रहा है वहीं प्रत्येक घाट पर रोशनी की पर्याप्त व्यवस्था की जा रही है | यहाँ तक कि एंटी सबोटेज चेकिंग भी सुनिश्चित की गई है |

यह भी बता दें कि प्रशासन द्वारा छठ घाटों पर यदाकदा अगलगी की घटनाओं को रोकने के लिए इस वर्ष आतिशबाजी व पटाखे छोड़ने पर रोक लगा दी गई है | साथ ही मिलावटी खाद्य पदार्थों की सघन जांच एवं विधि संगत कार्रवाई करने हेतु निदेश भी दिया गया है |

छठ को लेकर सदर अस्पताल प्रशासन भी मुस्तैद है | सिविल सर्जन डॉ.गदाधर पांडे द्वारा अस्पताल में चौबीसो घंटे इमरजेंसी वार्ड को तैनात रहने का आदेश जारी कर दिया गया है | जीवन रक्षक दवाइयाँ भी उपलब्ध करा ली गई है | प्रखंड स्तर पर भी चाक-चौबंद व्यवस्था पूरी कर ली गई है | थानाध्यक्षों द्वारा शांति समिति की बैठकें की जा चुकी हैं | यहाँ तक कि सभी ग्राम पंचायतों के ग्राम-कचहरी के न्याय सचिव, पंचायत सचिव तथा राजस्व कर्मचारियों को निर्देशित किया गया है कि सभी कर्मचारी अपने-अपने पंचायत में छठ की शाम और सुबह में घाटों पर तैनात रहेंगे ताकि व्रतियों को कोई कठिनाई न हो | यदि कोई कमी नजर आये तो उसकी सूचना वरीय पदाधिकारी को तुरंत दें | शराबी या जुआरी कहीं भी नजर आये तो अविलम्ब उच्चाधिकारी को सूचित करें | डीएम मो.सोहैल ने कहा कि इस महाव्रत के दरमियान किसी भी कर्मचारी की लापरवाही कतई बर्दाश्त नहीं की जायेगी |

सम्बंधित खबरें


मधेपुरा में चित्रगुप्त पूजा उल्लास पूर्वक मनाया गया

न केवल मधेपुरा जिला मुख्यालय के लक्ष्मीपुर मुहल्ला के सामुदायिक चित्रगुप्त भवन में बल्कि बिहारीगंज, बभनगामा, गमैल……. सिंहेश्वर सहित अन्य जगहों पर भी विभिन्न लिपियों के आविष्कारक भगवान चित्रगुप्त की पूजा-अर्चना सर्वाधिक श्रद्धाभाव से उन बच्चों एवं बड़ों द्वारा कलम और दावात रखकर मन्नतें माँगते हुए की गई जिनकी आजीविका का माध्यम मूलरूप से उनकी कलम ही होती है |

बता दें कि अंग्रेजी एवं हिन्दी साहित्य के कलमजीवी विद्वानद्वय वयोवृद्ध राय बसंत कुमार सिन्हा एवं हरिशंकर श्रीवास्तव शलभ ने आनेवाली पीढ़ी को यह जानकारी दी-

“दीपावली के पाँच दिवसीय त्योहार का आखिरी दिन ‘यम द्वितीया’ के नाम से प्रचलित है | इस दिन भाई-बहन के प्रेम का पर्व ‘भैया दूज’ मनाने के साथ-साथ कलमजीवी कायस्थ समाज के लोग ब्रह्माजी के पुत्र भगवान चित्रगुप्त की प्रतिमा के समक्ष कलम-दावात रखकर उनकी पूजा करते हैं, मन्नतें मांगते हैं…..|”

मौके पर उपस्थित मधेपुरा के जांबाज एसपी विकास कुमार, डॉ.के.एन.दास, डॉ.अरविंद श्रीवास्तव सहित वार्ड पार्षद अशोक सिन्हा…… आदि ने विचार व्यक्त करते हुए इस बात की पुष्टि की-

“धार्मिक मान्यताओं के अनुसार महाभारत काल में भीष्म पितामह ने भी चित्रगुप्त भगवान की पूजा की थी, जिससे प्रसन्न होकर चित्रगुप्त ने भीष्म पितामह को ‘इच्छामृत्यु’ का वरदान दिया था…….|”

Madhepura Hindustan Bureau Chief Shri Saroj Kumar giving the award of excellence to Miss Anushka and Kajal from Shashi Sarojini Saharsa in Kathak and Jat-Jatin Dance respectively.
Madhepura Hindustan Bureau Chief Shri Saroj Kumar giving the award of excellence to Miss Anushka and Kajal from Shashi Sarojini Saharsa in Kathak and Jat-Jatin Dance respectively.

यह भी जानिए कि चित्रगुप्त पूजनोत्सव के मौके पर मधेपुरा चित्रांश समिति के बैनर तले सुकवि सूरज की सरस्वती वंदना के साथ अखिल भारतीय कवि सम्मेलन में पधारे झारखंड से सुशील साहिल, सुपौल से अरविंद ठाकुर, सहरसा से स्वाति शाकंभरी, भागलपुर से फ़ैज़ रहमान फ़ैज़, रामनाथ शोधार्थी, समीर परिमल, अंजनी कुमार सुमन, रामावतार राही, संतोष सिन्हा आदि…… एवं बंदन ब्रदर्स द्वारा स्थापित शशि सरोजनी सांस्कृतिक रंगमंच के प्रभावी कलाकार द्वय काजल एवं अनुष्का ने देर रात तक दर्शकों की तालियां बटोरी |

अंत में कवि-शायर एवं शशि सरोजिनी के कलाकार द्वय को पूर्व मुख्य पार्षद डॉ.विशाल कुमार बबलू, उपाध्यक्ष अशोक यदुवंशी, पूर्व पार्षद ध्यानी यादव, गोपाल श्रीवास्तव, आशा श्रीवास्तव, लाला भूपेन्द्र, जनार्दन लाल दास, के.के.सिन्हा, प्रदीप श्रीवास्तव, निर्भय सिन्हा, नरेश सिन्हा……. आदि की उपस्थिति में संस्था की ओर से सम्मानित कर सहभोज सम्पन्नोपरांत सादर विदा किया गया |

सम्बंधित खबरें


मधेपुरा के लोहियावादियों ने मनाई डॉ.लोहिया की 51वीं पुण्यतिथि

मधेपुरा के शिवनन्दन प्रसाद मंडल विधि महाविद्यालय के सभागार में विश्व के महान समाजवादी चिंतक डॉ.राम मनोहर लोहिया की 51वीं पुण्यतिथि जद(यू) के बैनर तले काफी उत्साह व उमंग के साथ मनाई गई | यह आयोजन देर शाम तक जद(यू) जिलाध्यक्ष प्रो.बिजेन्द्र नारायण यादव एवं जिला महिला प्रकोष्ठ की अध्यक्षा श्रीमती मीना देवी की अध्यक्षता में संयुक्तरुप से गतिमान रहा |

बता दें कि जिले के सभी प्रखंडों से आई महिला सेल के सचिव व अध्यक्ष, विधि महाविद्यालय के कर्मियों सहित प्राचार्य प्रो.सत्यजीत यादव एवं जिले भर से आये लोहियावादियों ने डॉ.लोहिया के विशाल सिद्धांतवादी व्यक्तित्व की जमकर चर्चाएं की और हृदय से श्रद्धांजलि भी अर्पित की |

यह भी जानिए कि इस पुण्यतिथि समारोह के आरंभ में उद्घाटनकर्ता के रूप में पूर्व विधि मंत्री सह वर्तमान जनप्रिय विधायक नरेन्द्र नारायण यादव (आलमनगर), मुख्यवक्ता के रूप में समाजसेवी-शिक्षाविद डॉ.भूपेन्द्र नारायण मधेपुरी एवं जिला संगठन प्रभारी अमर कुमार चौधरी उर्फ़ भगवान चौधरी, नेत्री गुड्डी देवी, जिप सदस्या बुलबुल सिंह आदि सहित उपस्थित समस्त नर-नारियों द्वारा डॉ.लोहिया के तैल चित्र पर माल्यार्पण किया गया तथा पुष्पांजलि अर्पित की गई | साथ ही उपस्थित जनों को नीतीश सरकार के “बाल विवाह एवं दहेज” के विरुद्ध शपथ-ग्रहण भी कराया गया |

इस अवसर पर जहाँ उद्घाटनकर्ता नरेन्द्र नारायण यादव ने देर तक उद्गार व्यक्त करते हुए कहा कि डॉ.लोहिया राष्ट्रीय स्तर पर ही नहीं बल्कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी काले-गोरे के बीच की खाई को पाटने के लिए संघर्ष करते रहे वहीं मुख्य वक्ता डॉ.मधेपुरी ने विस्तार से लोहिया के समाजवाद की बारीकियों को मनीषी भूपेन्द्र नारायण मंडल को संदर्भित करते हुए विभिन्न उदाहरणों के साथ सबों को मंत्रमुग्ध कर देर तक बाँधे रखा | जहां संगठन प्रभारी भगवान चौधरी ने डॉ.लोहिया को स्पष्टवादिता, निर्भीकता एवं सीधे-सपाट तर्कपूर्ण विचारों का पुंज कहा वहीं व्यवसायिक प्रकोष्ठ के अध्यक्ष अशोक चौधरी एवं दलित  प्रकोष्ठ के अध्यक्ष नरेश पासवान ने बखूबी मंच संचालन किया और अंत में अल्पाहार के साथ धन्यवाद ज्ञापन करते हुए डॉ.नीलाकान्त ने समारोह के समाप्त होने की उद्घोषणा की |

सम्बंधित खबरें


डॉ.मधेपुरी ने स्काउट एण्ड गाइड के साथ मधेपुरा में स्वच्छ्ता अभियान का किया आगाज़ !

भारत स्वच्छ्ता मिशन कार्यक्रम के तहत भारत स्काउट एण्ड गाइड के मधेपुरा जिला प्रशिक्षण आयुक्त जय कृष्ण यादव ने विभिन्न विद्यालयों के लगभग सौ स्काउट छात्रों की कई टोलियाँ एक-एक नायक के साथ गठित की | दुर्गा पूजा एवं मुहर्रम के अवसर पर शहर के सभी चौक-चौराहों एवं सार्वजनिक स्थलों की सम्पूर्ण सफाई हेतु प्रशिक्षण आयुक्त जय कृष्ण यादव, सहयोगी स्काउट मास्टर रहमत अली एवं स्काउट की कई टोलियों की उपस्थिति में समाजसेवी डॉ.भूपेन्द्र नारायण मधेपुरी द्वारा शहर के बीच 117 वर्षों से निरन्तर होती चली आ रही बंगला स्कूल दुर्गा पूजा की समिति के अध्यक्ष प्रमोद अग्रवाल व सचिव त्रिदीप गांगुली उर्फ़ बुब्बुन की उपस्थिति में भारत स्वच्छता अभियान का आगाज़ किया गया और अपने संक्षिप्त सम्बोधन में डॉ.मधेपुरी ने उपस्थित जनों से यही कहा-

“पाण्डवों द्वारा आयोजित राजसूय यज्ञ की सफलता हेतु राजों-महाराजों के आतिथ्य-सत्कार का कार्य नहीं लेकर भगवान श्री कृष्ण ने अपने हिस्से में जूठी पत्तल उठाने तथा झाड़ू लगाकर चतुर्दिक स्वच्छता कायम करने का काम लिया था…………..!”

इस अवसर पर डॉ.मधेपुरी ने सभी टोलियों से कहा कि स्टेशन दुर्गा स्थान, बड़ी दुर्गा सहित कर्पूरी चौक, पूर्णिया गोला चौक (डॉ.लोहिया चौक), शहीद चुलहाय चौक, सुभाष चौक, शिवनंदन चौक, अस्पताल सहित मस्जिद चौक, भूपेन्द्र चौक, बी.पी.मंडल चौक, गाँधी पार्क, विश्वविद्यालय परिसर, श्रीकृष्ण मंदिर आदि स्थलों की सफाई मन से करना और अन्तर्मन में इस संकल्प को बार-बार दुहराते रहना व गुनगुनाते रहना-

“माँ कसम ! भारत को ना तो गन्दा करेंगे और ना किसी को गन्दा करने देंगे…….!!”

Hon'ble V.C. Dr.A.K. Roy, Educationist Dr.Bhupendra Madhepuri, S&G Ayukta Jaikrishna Yadav and others engaged in Swachhta Abhiyan at B.N. Mandal University Campus, Madhepura.
Hon’ble V.C. Dr.A.K. Roy, Educationist Dr.Bhupendra Madhepuri, S&G Ayukta Jaikrishna Yadav and others engaged in Swachhta Abhiyan at B.N. Mandal University Campus, Madhepura.

आगे चलते-चलते भू.ना. मंडल वि.वि. परिसर में स्काउट एण्ड गाइड को संबोधित करते हुए जहाँ वि.वि. की गन्दगी को साफ़ करने में लगे कुलपति डॉ.अवध किशोर राय ने स्वच्छता को देवत्व की संज्ञा देते हुए कहा कि प्रत्येक व्यक्ति को अपने शरीर, मन व आत्मा तीनों की स्वच्छता के साथ-साथ अपने घर-आँगन और आस-पास को भी स्वच्छ बनाने पर ध्यान देना चाहिए, वहीँ समाजसेवी डॉ.भूपेन्द्र मधेपुरी ने कहा कि भारत स्वच्छता अभियान की सफलता में समाज के अन्य सभी वर्गों के साथ-साथ शिक्षकों एवं छात्रों की सक्रिय भागीदारी तो चाहिए ही चाहिए |

इस अवसर पर अधिष्ठाता छात्र कल्याण डॉ.अनिल कान्त मिश्र, कुलानुशासक डॉ.अरविन्द कुमार, पीआरओ डॉ.सुधांशु शेखर, प्रशिक्षण आयुक्त जय कृष्ण यादव, स्काउट मास्टर मो.रहमत अली सहित स्काउट छात्र अमित, कुणाल…..आदि की पूरी टीम व शिक्षक सचिव परमेश्वरी प्रसाद यादव, निजी सहायक शम्भु नारायण यादव आदि उपस्थित थे |

सम्बंधित खबरें