पृष्ठ : मधेपुरा अबतक

मोदी ने शरद पर कुछ यूँ किया कटाक्ष

भाजपा के वरिष्ठ नेता व बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने शनिवार को लोकतांत्रिक जनता दल के संस्थापक व मधेपुरा के पूर्व सांसद शरद यादव को आड़े हाथों लिया। शरद यादव पर पर कटाक्ष करते हुए कहा उन्होंने कहा कि पूर्व जदयू प्रमुख को राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के परिवार की कथित बेनामी संपत्ति में कुछ भी गलत नहीं लगता है। गौरतलब है कि मोदी की यह टिप्पणी चारा घोटाला मामले में सजा काट रहे लालू से जेल जाकर मुलाकात करने की पृष्ठभूमि में आई है।

सुशील कुमार मोदी ने ट्विटर पर लिखा, ‘‘शरद यादव को लालू परिवार की बेनामी सम्पत्ति जायज लगती है, इसलिए वे जदयू से बगावत कर राजद का साथ देने लगे’’ उपमुख्यमंत्री मोदी ने ‘‘राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे पर अमर्यादित टिप्पणी करने, लेकिन गांधी परिवार को लाभ पहुंचाने वाले अगस्ता वेस्टलैंड हेलीकाप्टर घोटाला में बिचौलिए क्रिश्चियन मिशेल को दुबई से पकड़ कर लाने में उनकी चुप्पी’’ की भी आलोचना की।

बता दें कि तेजी से बदलते राजनीतिक समीकरणों के बीच शरद नई संभावनाएं तलाशने में जुटे हैं। कयास लगाए जा रहे हैं कि एनडीए से असंतुष्ट चल रहे केन्द्रीय मंत्री व रालोसपा नेता उपेन्द्र कुशवाहा के साथ मिलकर वे महागठबंधन में अपनी उपस्थिति और असरदार बनाना चाहते हैं।

सम्बंधित खबरें


राष्ट्रकवि दिनकर के सिमरिया में सजेगा साप्ताहिक साहित्य महाकुंभ

राष्ट्रकवि रामधारी सिंह दिनकर के सिमरिया में दिसंबर 2 से 9 तक : जहाँ सजेगा सप्ताहिक साहित्य महाकुंभ वहीं अन्य दो सत्रों में सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ-साथ मुरारी बापू के रामकथा से सियाराममय होयेगा सिमरिया……! इस साहित्य महाकुंभ में देश के विभिन्न प्रांतों के साहित्यकार होंगे शामिल। इस प्रेममय साहित्य यज्ञ में सर्वाधिक लोगों के बैठने की क्षमता वाले पंडाल में छः दर्जन एलसीडी भी लगाये गये हैं। दिनकर की भूमि पर राम कथा, साहित्य और संगीत का 10 दिवसीय समागम इसे संपूर्णता में गौरवान्वित करने जा रहा है।

बता दें कि मिथिलांचल की पवित्र तीर्थनगरी तथा राष्ट्रकवि रामधारी सिंह दिनकर की जन्म भूमि पर मिथिला की प्रसिद्ध लोक गायिका रंजना झा के स्वागत गान की प्रस्तुति के साथ सिमरिया स्वर्ग लोक में तब्दील हो गया है। साहित्य महाकुंभ एवं राम कथा की पूरी व्यवस्था पर ड्रोन कैमरे की भी नजर रहेगी……।

यह भी जानिए कि इस साहित्य महाकुंभ के आयोजन स्थल पर लगभग दो लाख लोगों के बैठने की व्यवस्था की जा रही है। इसके लिए 300 एकड़ जमीन पर स्विस कॉटेज, मंच, भोजन के पांडाल आदि बनाये जा रहे हैं। कुल मिलाकर लगभग पांच लाख वर्ग फीट का पंडाल बनाया गया है। सुलभ इंटरनेशनल द्वारा 300 के आसपास शौचालय बनाये जा रहे हैं। आयोजन स्थल पर प्रवेश के लिए 2 वीआईपी द्वार समेत पांच अन्य बड़े-बड़े द्वारों का निर्माण भी किया गया है।

बिहार में पहली बार आयोजित किया गया है- राष्ट्रकवि रामधारी सिंह दिनकर की धरती पर श्रद्धा एवं साहित्य का संगम। यह पहला आयोजन है जिसमें विश्वभर से पधारे साहित्यकारों, कलाकारों एवं सांस्कृतिक कर्मियों का होगा विचार मंथन। व्यवस्थाएँ जितनी बेहतरीन है, विचार भी उतना ही विशाल। तभी तो दलित बच्चों से स्वागत-आरती कराकर दिनकर की धरती से समरसता का संदेश दिया जा रहा है। सभी धर्मों व संप्रदायों के 10 लाख लोग रोजाना करेंगे भोजन जिसके लिए समस्तीपुर, मुजफ्फरपुर, बेगूसराय आदि आसपास के जिलों से बुलाये गये हैं 5 हज़ार हलवाई। इसके अतिरिक्त कोलकाता एवं गुजरात से भी कारीगरों को मंगाये गये हैं।

चलते-चलते यह भी बता दें कि राष्ट्रकवि दिनकर की भूमि पर ‘संस्कृति के चार अध्याय’- धर्म, साहित्य, संस्कृति और समाज का अद्भुत संगम है….. सिमरिया का यह साहित्यिक महाकुंभ…….। 9 दिसंबर से पूर्व एक बार तो इस साहित्यिक महाकुंभ में स्नान करने के लिए आईए…..।

सम्बंधित खबरें


बड़ी दूर से आए हैं… गीत गाकर हमसे दूर चले गए मो.अजीज

अभी-अभी 20 नवंबर की ही तो बात है, मधेपुरा (बिहार) में गोपाष्टमी महोत्सव के समापन के अवसर पर बॉलीवुड के लोकप्रिय प्लेबैक सिंगर मोहम्मद अजीज के इस गीत (‘बड़ी दूर से आए हैं’) ने खूब तालियां बटोरी थीं… और सप्ताह भी नहीं बीता कि हमसे बहुत दूर चले गए हर दिल अजीज मो. अजीज। अब भारतरत्न लता मंगेशकर से लेकर गायक-गायिकाओं की आज तक की पीढ़ी की आवाज से आवाज मिलाने वाले मो. अजीज को कोई देख ना पाएगा..!

 

Dr.Bhupendra Madhepuri presenting his book "Chhota Lakshya Ek Apradh Hai" to Md.Aziz.
Dr.Bhupendra Madhepuri presenting his book “Chhota Lakshya Ek Apradh Hai” to Md.Aziz.

मधेपुरा में समाजसेवी-साहित्यकार डॉ. मधेपुरी की मो. अजीज से लंबी बातचीत हुई थी। डॉ. मधेपुरी ने उन्हें पूर्व राष्ट्रपति डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम के ऊपर लिखी अपनी चर्चित किताब ‘छोटा लक्ष्य एक अपराध है’ भेंट करते हुए उनके साथ के संस्मरणों को उनसे साझा किया था। संयोगवश मो. अजीज के भी कलाम साहब से निकट संबंध थे। फिर क्या था, दोनों लोगों के बीच कलाम साहब जैसे ‘पुल’ हों तो बातों का सिलसिला चल पड़ना लाजिमी ही था।

मो. अजीज ने बातचीत के दौरान डॉ. मधेपुरी से अपनी कुछ पंक्तियां सुनाने का आग्रह किया था, जिसे डॉ. मधेपुरी टाल ना पाए और उन्हें अपनी कुछ पंक्तियां सुनाईं जो ये थीं:
कहाँ जन्मे सुनो हम नहीं जानते
कब मरेंगे कहाँ हम नहीं जानते
काम करना है, रुकना नहीं है यहाँ
कब छुटेगा जहाँ हम नहीं जानते।
मो. अजीज को डॉ. मधेपुरी की पंक्तियां कुछ इस कदर भाईं कि वो तत्काल उसे गुनगुनाने भी लगे। शायद वो इन पंक्तियों को अपना स्वर देना चाहते थे। उन्होंने डॉ. मधेपुरी को मुंबई बुलाया। डॉ. मधेपुरी मुंबई गए भी। लेकिन मुलाकात नहीं होनी थी, सो नहीं हुई… कहाँ जन्मे सुनो हम नहीं जानते… कब मरेंगे कहाँ हम नहीं जानते..!

बहरहाल, 80-90 के दशक में एक से बढ़कर एक हिट गानों को अपनी आवाज से नवाजने वाले मो. अजीज ने मंगलवार को 64 साल की उम्र में मुंबई के नानावटी अस्पताल में अंतिम सांस ली। उनका जन्म 2 जुलाई 1954 को पश्चिम बंगाल में हुआ था। प्राप्त जानकारी के मुताबिक कोलकाता से एक कार्यक्रम कर मंगलवार को मुंबई आने के क्रम में मुंबई एयरपोर्ट पर ही उनकी तबीयत खराब हुई। उन्हें वहां से सीधे नानावटी अस्पताल लाया गया। डॉक्टरों का कहना है कि उन्हें दिल का दौरा पड़ा था।

चलते-चलते बता दें कि अस्सी के दशक में मो. अजीज कई बड़े अभिनेताओं की आवाज बने जिनमें अमिताभ बच्चन, मिथुन चक्रवर्ती, ऋषि कपूर, सनी देओल और गोविंदा के नाम प्रमुख हैं। अमिताभ बच्चन के ऊपर फिल्माया गया गीत ‘तू मुझे कबूल’ (फिल्म ‘खुदा गवाह’) हो या गोविन्दा के ऊपर फिल्माया गया गीत ‘आपके आ जाने से’ (फिल्म ‘खुदगर्ज’), इन गीतों को भला कौन भूल सकता है..! उन्होंने हिन्दी के अलावे मराठी, बंगाली समेत कई भारतीय भाषाओं में गीत गाए थे। उन्हें ‘मधेपुरा अबतक’ की विनम्र श्रद्धांजलि..!

सम्बंधित खबरें


शेर बनो कभी कुत्ता मत बनना- वासवानी

मधेपुरा में साधु थांवरदास लीलाराम वासवानी जैसे देशभक्त स्वतंत्रता सेनानी की 140 वीं जयंती उनके परम श्रद्धालु शिष्य निर्मल-किरण की पूरी टीम द्वारा सर्वाधिक उत्साह पूर्वक मनाई गई। इस अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप में समाजसेवी साहित्यकार डॉ.भूपेन्द्र नारायण मधेपुरी ने सर्वप्रथम साधु टीएल वासवानी एवं उनके शिष्य दादा जेपी वासवानी की तस्वीरों पर पुष्पांजलि अर्पित की। डॉ.मधेपुरी ने कार्यक्रम का विधिवत उद्घाटन डीपीएस के निदेशक सुमित्र व निर्मल-किरण टीम के सदस्यों के साथ दीप प्रज्वलित कर किया।

बता दें कि आजादी से पूर्व हैदराबाद सिंध के रहने वाले और बाद में पुणे में ‘वासवानी मिशन’ स्थापित कर आध्यात्मिक गुरु साधु वासवानी एवं शिष्य जशन वासवानी द्वारा विश्व शांति के साथ-साथ शाकाहार एवं अबोल जानवरों के अधिकारों को लेकर दुनिया को जागरूक किया जाता रहा। सभी लोगों को अपने से नीचे वालों पर उपकार करने की बातें कही जाती रही।

उद्घाटनकर्ता के रूप में भौतिकी के यूनिवर्सिटी प्रोफेसर व मुख्य वक्ता डॉ मधेपुरी ने उपस्थित बच्चों एवं बुजुर्गों से यही कहा कि जब साधु वासवानी ने अपने शिष्य दादा जेपी वासवानी के भौतिकी प्रयोगशाला में एक्स-रे मशीन के उद्घाटन के बाद टेलीस्कोप दिखाते हुए सांस से लेंस को धुंधला कर दिया और एक बार फिर अपने शिष्य भौतिकी के गोल्ड मेडलिस्ट प्रोफेसर जे पी वासवानी को उसमें देखने को कहा तो इस बार शिष्य जेपी को कुछ दिखाई नहीं दिया इस पर साधु वासवानी ने यही कहा-

“जैसे नमी की झीनी सी परत सारे सितारों को छिपा सकती है, इसी प्रकार अहंकार, घमंड व स्वार्थ के बादल हमें उस सर्वव्यापी ईश्वर को नहीं देखने देते…….. अपने आंतरिक नेत्रों के लेंसों को साफ करने पर तुम भी प्रभु से प्रत्यक्ष रूप में वार्तालाप करने लगोगे।”

यह भी जानिए कि कार्यक्रम में उपस्थित सारे बच्चों व बुजुर्गों द्वारा मधेपुरा के मुख्य मार्गों पर “शाकाहार दिवस” के नारों के साथ-साथ तख्तियों पर स्लोगन तथा टोपियों पर “सबों को जीने का अधिकार चाहिए”- वाली शांति यात्रा को डॉ.मधेपुरी ने हरी झंडी दिखा कर विदा किया।

नगर भ्रमण से लौटकर आए शांति यात्रियों से संदेश स्वरूप डॉ.मधेपुरी ने यही कहा कि शाकाहारी जीवन जीने वाले जेपी वासवानी सिंध के ऐसे पहले व्यक्ति रहे हैं जिन्होंने 19 वर्ष की अल्पायु में ही बम्बई यूनिवर्सिटी से भौतिकी में प्रथम श्रेणी में उत्तीर्णता प्राप्त की……. और जिन्होंने शोध के साथ अपनी मास्टर्स की डिग्री ही पूरी न की बल्कि विश्व विख्यात वैज्ञानिक डॉ.सीवी रमन ने जब इनके शोध को जांचा तो उसकी भूरि-भूरि प्रशंसा भी की। डॉ.मधेपुरी ने अंत में यही कहा- साधु वासवानी अपने शिष्यों से सदा यही कहा करते…. शेर बनो कभी कुत्ता मत बनना। कुत्ता हमेशा फेंके गए बाॅल की ओर दौड़ता है परंतु शेर फेंकने वाले को देखता है…. तुम भी सुख-दुख देने वाले ईश्वर की ओर देखो….. उन्हीं का चिंतन करो….. सुख-दुख की चिंता कभी मत करो।

अंत में निर्मल-किरण वासवानी की पूरी टीम द्वारा सबों को शाकाहार दिवस पर शाकाहारी भोजन कराया गया और प्रमोद कुमार द्वारा धन्यवाद ज्ञापित किया गया।

सम्बंधित खबरें


जदयू महिला समागम के तीन दिवसीय सम्मेलन का भव्य आगाज

अतिपिछड़ा, दलित-महादलित एवं अल्पसंख्यक सम्मेलनों के बाद शनिवार को जदयू महिला समागम के जिला सम्मेलनों का भव्य आगाज हुआ। तीन दिवसीय सम्मेलन के पहले दिन समस्तीपुर, मधेपुरा, पश्चिमी चम्पारण, सीतामढ़ी एवं शिवहर (संयुक्त), रोहतास, पूर्णिया, जहानाबाद एवं अरवल (संयुक्त), गोपालगंज, वैशाली एवं नवादा में सम्मेलन का आयोजन हुआ।

मधेपुरा में महिला समागम का सम्मेलन स्थानीय जीवन सदन में हुआ जिसमें बड़ी संख्या में महिलाओं ने भाग लिया। पूर्व मंत्री सह विधायक लेसी सिंह ने कार्यक्रम का उद्घाटन किया, वहीं पूर्व मंत्री सह विधायक नरेन्द्र नारायण यादव मुख्य अतिथि थे। जदयू मीडिया सेल के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. अमरदीप, विधायक निरंजन मेहता, प्रदेश प्रवक्ता निखिल मंडल तथा मधेपुरा जिला जदयू के प्रभारी भगवान चौधरी विशिष्ट अतिथि के तौर पर मौजूद रहे। लेसी सिंह के साथ जो नेत्रियां कार्यक्रम में शामिल हुईं, उनमें प्रमुख हैं मंजू देवी उर्फ गुड्डी जी, शगुफ्ता अजीम, ललिता देवी, स्मिता सिन्हा, ललिता जायसवाल, रेणु झा एवं मुन्नी देवी। कार्यक्रम की अध्यक्षता जदयू जिलाध्यक्ष बिजेन्द्र नारायण यादव ने किया, जबकि संचालन महिला जदयू की जिलाध्यक्ष मीना देवी ने किया।

उधर जदयू के राष्ट्रीय महासचिव एवं संसदीय दल के नेता आरसीपी सिंह नवादा में विशेष रूप से उपस्थित रहे। वहीं महिला समागम के लिए गठित 12 टीमों की शेष नेत्रियों में कहकशां परवीन, सांसद समस्तीपुर में, डॉ. रंजू गीता, स.वि.स. पश्चिमी चम्पारण में, कविता सिंह, स.वि.स. सीतामढ़ी एवं शिवहर (संयुक्त) में, रेणु देवी, पूर्व स.वि.स. रोहतास में, प्रो. हरपाल कौर, पूर्व अध्यक्ष, महिला जदयू पूर्णिया में, अंजली सिन्हा, राज्य कार्यकारिणी सदस्य जहानाबाद एवं अरवल (संयुक्त) में, डॉ. भारती मेहता, प्रदेश प्रवक्ता गोपालगंज में, अंजुम आरा, प्रदेश प्रवक्ता वैशाली में एवं श्वेता विश्वास, प्रदेश प्रवक्ता नवादा में मौजूद रहीं।

नवादा में महिला समागम को संबोधित करते हुए आरसीपी सिंह ने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने आधी आबादी को वो स्थान और सम्मान दिया है जिसकी वो हकदार थी लेकिन उसे इससे वंचित रखा जाता था। स्वतंत्र भारत में किसी मुख्यमंत्री ने महिलाओं एवं बालिकाओं के उत्थान के लिए इतने कार्य नहीं किए जो बिहार में उनके शासनकाल के 13 वर्षों में देखने को मिले हैं।

गौरतलब है कि जिला महिला समागम में नेत्रियों ने जिन विषयों पर संवाद किया, वे हैं: सुशासन के कार्यक्रम, पूर्ण शराबबंदी, दहेजप्रथा-बालविवाह-भ्रूण-हत्या उन्मूलन, सात निश्चय, महिलाओं को रोजगार एवं शिक्षा और स्वास्थ्य। सभी नेत्रियों ने जहां एक ओर सरकार द्वारा चलाई जा रही कल्याणकारी योजनाओं की चर्चा की, वहीं सामाजिक सरोकार से जुड़े अभियानों के लिए महिलाओं को प्रेरित किया। चलते-चलते बता दें कि नीतीश कुमार के विकास कार्यों एवं सामाजिक सरोकार से जुड़े अभियानों में आस्था रखने वाली सभी महिलाएं समागम के सम्मेलन में भाग ले रही हैं एवं पंचायत, प्रखंड, जिला व प्रदेश स्तर पर पार्टी की सभी इकाइयां इसके लिए सक्रिय सहयोग कर रही हैं।

सम्बंधित खबरें


बिहार के प्रत्येक कॉलेज में गठित होंगे रोड सेफ्टी दूत

वाहन ड्राइविंग करते हुए मोबाइल फोन का इस्तेमाल युवा वर्ग इस तरह करता है कि हादसे का खतरा 4 गुणा तक बढ़ जाता है। ये बातें मधेपुरा अबतक नहीं बल्कि वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन की रिपोर्ट में कही गई है।
बता दें कि यदि युवाओं द्वारा दो पहिए से लेकर 4 या अधिक पहिए वाली गाड़ियों के ड्राइविंग के वक्त फोन ना उठाए जाएं तो हर साल बच सकती है लगभग ढाई हजार जानें। भारत उन देशों में शामिल है जहाँ सेल्फी से प्रतिवर्ष सबसे ज्यादा जाानें जाती हैं। इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी की रिपोर्ट के अनुसार संसार में 2014 से 2018 फरवरी तक कुल 213 सेल्फी डेथ रिकॉर्ड की गई जिसमें 128 सेल्फी डेथ केवल भारत में हुई।
यह भी जानिए कि 2016 के अगस्त में भारत सरकार ने राज्यों को एडवाइजरी जारी कर यही सूचित किया कि प्रत्येक राज्य सेल्फी डेंजर जोन आईडेंटिफाई कर वैसी जगहों पर चेतावनी के बोर्ड लगाएँ। सड़क सुरक्षा की जानकारी दें।
और हाँ ! चलती गाड़ियों में ड्राइवर द्वारा फोन उठाने पर जहां आंध्र प्रदेश में 2014 में 20 बच्चे मारे गये वहीं उधमपुर में फोन उठाते ही बस खाई में गिरी और 14 बच्चे मारे गए और मोबाइल उठाने की वजह से ऐसे बड़े-बड़े हादसे आये दिन बराबर होते ही रहते हैं।
यही कारण है कि अब राज्य के प्रत्येक कॉलेज में रोड सेफ्टी दूत बनाए जाएंगे जिसके माध्यम से छात्रों के बीच सड़क सुरक्षा का अलख जगाये जाएगा। चयन हेतु प्रत्येक कॉलेज में प्राचार्य की अध्यक्षता में एक कमेटी गठित की जाएगी। इसके लिए परिवहन विभाग रोड सेफ्टी दूत के चयन के लिए प्रारूप तैयार कर रहा है जिसे सभी कालेजों में भेजा जाएगा।
सभी जानते हैं कि सड़क दुर्घटना में अधिकतर मौतें युवाओं की हो रही है जिसे सचेत करने के लिए प्रत्येक कॉलेज में स्वयंसेवक तैयार किये जा रहे हैं। साथ ही रोड सेफ्टी पर वीडियो भी दिखाया जाएगा। प्रशिक्षण के साथ-साथ सेफ्टी के बाबत स्लोगन प्रतियोगिता भी होगी और सड़क सुरक्षा को हाई स्कूल के सिलेबस में अगले शैक्षणिक सत्र में शामिल कर लिया जाएगा।

सम्बंधित खबरें


कोसी ने बताया कि बरकरार है नीतीश का आकर्षण

बुधवार, 21 नवंबर को सहरसा के पटेल मैदान में आयोजित जदयू के प्रमंडलीय अतिपिछड़ा सम्मेलन में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को सुनने की खातिर उमड़े जनसैलाब ने बहुत कुछ कह दिया। इस सम्मेलन ने स्पष्ट कर दिया कि ना केवल नीतीश कुमार का आकर्षण अब भी बरकरार है, बल्कि लोग उनके द्वारा किए गए कार्यों के प्रति सम्मान और भविष्य के लिए उनमें आस्था भी रखते हैं।

CM Nitish Kumar (on dias), Ministers Bijendra Prasad Yadav, Dinesh chandra Yadav, Ramesh Rishidev, Ex-MP & Founder VC Dr. RKY Ravi, EX-MP SN Yadav, Ex-Min & MLA NN Yadav, JDU Leader Sanjay Jha and others during Sammelan.
CM Nitish Kumar (on dias), Ministers Bijendra Prasad Yadav, Dinesh chandra Yadav, Ramesh Rishidev, Ex-MP & Founder VC Dr. RKY Ravi, EX-MP SN Yadav, Ex-Min & MLA NN Yadav, JDU Leader Sanjay Jha and others during Sammelan.

जदयू के इस बड़े आयोजन के आकर्षण का केन्द्र स्वाभाविक तौर पर नीतीश कुमार थे। उनके साथ ही कोसी की जदयू की सभी बड़ी हस्तियां भी मंचस्थ थीं। मुख्यमंत्री के साथ मौजूद प्रमुख लोगों में ऊर्जा मंत्री बिजेन्द्र प्रसाद यादव, आपदा प्रबंधन मंत्री दिनेशचन्द्र यादव, अनुसूचित जाति एवं जनजाति कल्याण मंत्री रमेश ऋषिदेव, पूर्व सांसद एवं बीएनएमयू के संस्थापक कुलपति डॉ. रमेन्द्र कुमार यादव रवि, पूर्व सांसद सूर्यनारायण यादव, पूर्व मंत्री एवं विधायक नरेन्द्र नारायण यादव, विधानपार्षद ललन सर्राफ एवं जदयू मीडिया सेल के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. अमरदीप शामिल हैं। मंचासीन अन्य लोगों में विधायक निरंजन मेहता, विधायक रत्नेश सदा, विधायक अनिरुद्ध प्रसाद यादव, विधायक बीना भारती एवं प्रदेश प्रवक्ता निखिल मंडल उल्लेखनीय हैं। सम्मेलन की अध्यक्षता जहाँ सहरसा जिला जदयू अध्यक्ष चन्द्रदेव मुखिया ने की, वहीं मधेपुरा के जिला अध्यक्ष बिजेन्द्र प्रसाद यादव, सुपौल के जिलाध्यक्ष रामविलास कामत एवं तीनों जिला के अतिपिछड़ा प्रकोष्ठ के अध्यक्ष भी मंच पर विराजमान रहे।

 

JDU Media Cell President Dr. Amardeep having discussion with CM Nitish Kumar during Sammelan, Energy Minister Bijendra Prasad Yadav also in picture
JDU Media Cell President Dr. Amardeep having discussion with CM Nitish Kumar during Sammelan, Energy Minister Bijendra Prasad Yadav also in picture.

अपने संबोधन में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि आज राज्य में कोई ऐसा विभाग नहीं, जहां उत्थान की योजनाएं नहीं चल रहीं और कोई ऐसा वर्ग नहीं, जो सरकार की योजनाओं से अछूता है। सबके लिए समान रूप से काम हो रहा है। सरकार की उपलब्धियों की चर्चा करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि घर-घर बिजली पहुँचाने का लक्ष्य तीन माह पूर्व पूरा हो चुका है। एक साल के अंदर सभी जिलों एवं पंचायतों में कृषि के लिए अलग बिजली फीडर होगा। साथ ही राज्य के सभी जर्जर बिजली के तारों को बदल दिया जाएगा। कृषि के संबंध में उन्होंने कहा कि इस क्षेत्र में भी बिहार ने अभूतपूर्व सफलता हासिल की है। वर्ष 2005 में राज्य की उत्पादकता सबसे कम थी। लेकिन, आज हम सौ फीसदी के साथ राष्ट्रीय औसत को पछाड़ चुके हैं। उन्होंने कहा कि बिना उद्योग-धंधे वाले इस राज्य में निचले स्तर से विकास कार्यों को करते हुए बिहार का विकास दर आज दो अंकों से दस फीसदी पर पहुँच चुका है।

इससे पूर्व लोकसभा व राज्यसभा के पूर्व सदस्य एवं बीएनएमयू के संस्थापक कुलपति डॉ. रमेन्द्र कुमार यादव रवि ने अपने काव्यमय संबोधन से मुख्यमंत्री का स्वागत किया। उन्होंने कहा कि बिहार की तकदीर बदलने वाले नीतीश कुमार प्रशासक और समाज-सुधारक दोनों हैं। उनमें सरदार पटेल और राजा राममोहन राय की छवि एक साथ देखी जा सकती है। वहीं, बिहार सरकार के तीनों मंत्रियों – बिजेन्द्र प्रसाद यादव, दिनेशचन्द्र यादव एवं रमेश ऋषिदेव – ने नीतीश कुमार के नेतृत्व में चल रहे कार्यों एवं कल्याणकारी योजनाओं से जनसमूह को अवगत कराया और आह्वान किया कि 2019 और 2020 के चुनाव में अपार समर्थन देकर अपने नेता का मनोबल और बढ़ते बिहार की रफ्तार को बढ़ाएं।

सम्बंधित खबरें


मो.अज़ीज़ की आवाज के साथ हुआ राजकीय गोपाष्टमी महोत्सव का समापन

भारतीय संस्कृति का सांस्कृतिक वैभव तो यही है कि हम चार पैरों वाले बेजुबान पशु को आस्था और अराधना का केंद्र बनाकर ना जाने कबसे गोपाष्टमी मनाते चले आ रहे हैं | संवेदना और संस्कार की ऐसी समृद्ध गरिमा को 4 दिनों से इस चार दिवसीय प्रथम राजकीय गोपाष्टमी महोत्सव में लगातार गौरवान्वित करती आ रही है- अपनी सुरीली आवाज से एंकरिंग करती हुई गरिमा यादव……. और गरिमामयी एंकरिंग के चलते ही सजी हुई इस महफिल में चारों ओर सुनाई देती रही हैं तालियों की गड़गड़ाहट |

BN Mandal University Registrar Colonel Neeraj Kumar , Former Controller of Exams Dr.Madhepuri , SDM Vrindalal , SDPO Md.Wasi Ahmad , Dr.Rajneesh Rai and thousands of viewers enjoying Gopastmi Mahotsav at Madhepura.
BN Mandal University Registrar Colonel Neeraj Kumar , Former Controller of Exams Dr.Madhepuri , SDM Vrindalal , SDPO Md.Wasi Ahmad , Dr.Rajneesh Rai and thousands of viewers enjoying Gopastmi Mahotsav at Madhepura.

बता दें कि बिहार सरकार के कला संस्कृति विभाग एवं जिला प्रशासन मधेपुरा द्वारा आयोजित चार दिवसीय गोपाष्टमी महोत्सव (17-20 नवंबर) का उद्घाटन मंत्री रमेश ऋषिदेव और डीएम नवदीप शुक्ला (आईएएस) की टीम द्वारा दीप प्रज्वलित कर किया गया | प्रथम दिन यानी उद्घाटन के दिन प्रिया राज, अमर आनंद, स्वीटी व सिमरन की प्रस्तुति पर दर्शक थिरकते रहे | दूसरे व तीसरे दिन जहाँ राइजिंग स्टार व सारेगामापा के कलाकारों सहित भागलपुर-वाराणसी-प्रयागराज के शास्त्रीय गायन के कलाकारों की सुरीली आवाज से लेकर भिन्न-भिन्न प्रकार के नृत्यों पर सारे-के-सारे दर्शक सर्द भरी रातों में भी झूमते रहे, गाते रहे और गुनगुनाते रहे…… वहीं समापन को यादगार बनाने में लगे रहे कोलकाता से आई अर्पिता और बॉलीवुड में हजारों गीत के गायक हर दिल अजीज जनाब मो.अजीज | अजीज-अर्पिता की जोड़ी ने अपने सधे हुए सुरों से बनाया महोत्सव को गुलजार |

Bollywood Famous Singer Md.Aziz and Samajsevi Sahityakar Prof.(Dr.) Bhupendra Narayan Madhepuri dicussing National and Cultural activities of Guru Rabindranath Tagore , Mahatma Gandhi and Gandhian Missileman Dr.APJ Abdul Kalam at District Guest House , Madhepura.
Bollywood Famous Singer Md.Aziz and Samajsevi Sahityakar Prof.(Dr.) Bhupendra Narayan Madhepuri discussing National and Cultural activities of Guru Rabindranath Tagore , Mahatma Gandhi and Gandhian Missileman Dr.APJ Abdul Kalam at District Guest House , Madhepura.

यह भी जानिए कि समापन कार्यक्रम से पूर्व ही जिला अतिथिशाला में समाजसेवी-साहित्यकार डॉ.भूपेन्द्र नारायण मधेपुरी ने डॉ.एपीजे अब्दुल कलाम पर लिखी गई पुस्तक “छोटा लक्ष्य एक अपराध है ” भेंट करते हुए प्रसिद्ध बॉलीवुड गायक मो.अजीज से यही कहा-

मधेपुरा की यह धरती समाजवादियों के साथ-साथ साहित्यकारों कलाकारों एवं संगीतकारों, को भी सम्मान देने का काम करती रही है जिसे आप कार्यक्रम के दरमियान महसूसेंगे।

इन दोनों दिग्गजों डॉ.मधेपुरी एवं मो.अजीज के बीच राष्ट्रीय गान के रचनाकार रविन्द्रनाथ टैगोर, सत्य अहिंसा के पालक महात्मा गांधी एवं संपूर्ण भारतीय डॉ.एपीजे अब्दुल कलाम के बाबत देर तक चर्चाएं होती रहीं…..। बाद में मीडिया से रू-ब-रू होते हुए मो.अजीज ने कहा-

पहले के गीतकारों एवं संगीतकारों को हिन्दी व शायरी की अच्छी समझ होती थी | उस समय के गीत रूह को जगा देती थी……. अब हिन्दी कम होने लगी है…….. और हिंगलिश गानों का फैशन आकाश छूने लगा है | खेद प्रकट करते हुए यह भी कहा कि बॉलीवुड में भी राजनीति प्रवेश कर गया है | तभी तो इंग्लिश मीडियम के लोग हिन्दी गाना गा रहे हैं | युवा कलाकारों के लिए कहा कि संगीत में कामयाब होने के लिए अपनी बुनियाद को मजबूत करनी होती है |

समापन में स्थानीय गायक संजीव कुमार, रेखा यादव, सृजन दर्पण के विकास कुमार की टीम आदि ने खूब तालियां बटोरी | जब मंच पर उतरे मो.अजीज और उनकी अर्पिता तो गरिमा यादव की एंकरिंग ने मंच की गरिमा और बढ़ा दी……| दर्शक दीर्घा में बीएन मंडल विश्वविद्यालय के कुलसचिव कर्नल नीरज कुमार, पूर्व परीक्षा नियंत्रक, कुलानुशासक व कुलसचिव रह चुके प्रो.(डॉ.) भूपेन्द्र नारायण मधेपुरी, प्राचार्य प्रो.श्यामल किशोर यादव…..एसडीएम वृंदा लाल , एसडीपीओ मो.वशी अहमद तथा महोत्सव  को सफलतापूर्वक समापन तक ले जाने में लगे रहने वाले एनडीसी डॉ.रजनीश राय…..आदि ने अन्त तक रहकर  सभी कलाकारों को सम्मानित किया।

सम्बंधित खबरें


मधेपुरा के किसानों की चुनौतियाँ ही उनके लिए अवसर पैदा करेंगी

कोसी नवनिर्माण मंच के संस्थापक महेन्द्र यादव 2008 के राष्ट्रीय आपदा कुसहा-त्रासदी से लगातार कोसी के किसानों को जगाते रहे हैं और उनकी समस्याओं से अहर्निश जूझते रहे हैं। हाँ ! किसानों की चुनौतियों से जूझने में इन्हें समाजसेवी-साहित्यकार डॉ.भूपेन्द्र मधेपुरी सरीखे अनेक बुद्धिजीवियों एवं आद्यानंद यादव व शंभू शरण भारतीय जैसे किसानों के हित के लिए सकारात्मक सोच रखने वालों से निरंतर सहयोग मिलता रहा है।

बता दें कि भले ही राजनीतिक रूप से मधेपुरा जिला देश व प्रदेश में चर्चा में रहता हो परंतु इस जिले के किसानों को दोहरी चुनौतियों से जूझना पड़ता है। उनके जीवन से जुड़े सवाल राजनीतिक फलक पर नहीं आ पाते हैं। इसलिए यहाँ के किसानों को अपने अस्तित्व के लिए जीवन संघर्ष के साथ-साथ नवनिर्माण की नई इबादत अपने बल पर लिखनी होगी वरना किसानों का पलायन रुकने का नाम नहीं लेगा।

यह भी जानिए कि यहाँ के तकरीबन साढ़े चार सौ गाँवों में बसनेवाले किसान अपनी लगभग दो लाख एकड़ उपजाऊ जमीन पर खुद ही मेहनत के बल पर गेहूँ, धान, मक्का , मूंग , आलू , पटुआ आदि फसलें भारी पैमाने पर तो उगा ही लेते हैं परंतु छोटी खेती वाले लोग यूपी, पंजाब और हरियाणा में जाकर मौसमी मजदूरी करने लगते हैं। क्योंकि सीट के आधार पर न्यूनतम लाभकारी मूल्यों की बात तो दूर……. वर्तमान निर्धारित समर्थन मूल्य भी नहीं मिल पाता है किसानों को। तभी तो महंगी होती जा रही है खेती की लागत के बीच इस वर्ष के निर्धारित मक्के के बाजार मूल्य ₹9 प्रति किलो पर बेचने को किसान मजबूर होते रहे हैं।

जानिए कि ऐसी ही चुनौतियों के बीच अवसर पैदा करने की जरूरत है। किसान भाइयों ! संगठित होकर खेती आधारित उद्योगों को खड़ा करें और बाजार से मुकाबला करने का अवसर ढूंढ निकाले। सोचिए, किसानों के घर से छोटे व्यापारी धान लेजाकर बड़े व्यापारी को देते हैं जो चावल बनाकर पुनः बाजार में भेजते हैं। इस प्रक्रिया में कई जगह लोग मुनाफा कमाते हैं। यदि किसान फार्मर प्रोड्यूसर कंपनी या सहकारिता के माध्यम से ऐसा ही करें तो आधे दर्जन से अधिक जगहों पर तैयार फसल पर मुनाफा कमाने वाले व्यापारियों का मुनाफा रुक जाएगा। ऐसी ही छोटी-छोटी कोशिशें बड़ी-बड़ी संभावनाओं को जन्म दे सकती हैं।

सम्बंधित खबरें


अभूतपूर्व होगा जदयू का अतिपिछड़ा, अल्पसंख्यक और महिला सम्मेलन

21 जनवरी को जदयू के प्रमंडलीय अतिपिछड़ा सम्मेलन में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के सहरसा आगमन को लेकर कोसी प्रमंडल में पार्टी की तीनों इकाई – मधेपुरा-सहरसा-सुपौल – जोरशोर से तैयारी में जुटी है। इस सम्मेलन के अतिरिक्त भी मधेपुरा में जदयू के दो बड़े कार्यक्रम एक सप्ताह के भीतर होने हैं। गौरतलब है कि 18 नवंबर को जहां मधेपुरा के नगर भवन में जहां अल्पसंख्यक जिला सम्मेलन होगा, वहीं 24 नवंबर को स्थानीय जीवन सदन में जदयू महिला समागम का सम्मेलन होना तय है।
कहने की जरूरत नहीं कि 2019 का लोकसभा चुनाव निकट है और 2020 का विधानसभा चुनाव भी अधिक दूर नहीं। इन वजहों से मधेपुरा जदयू की इकाई इन सभी कार्यक्रमों, विशेषकर पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष व मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की उपस्थिति में होने वाले कार्यक्रम, को सफल बनाने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ना चाहती। इस परिप्रेक्ष्य में 15 नवंबर को स्थानीय शिवनंदन प्रसाद मंडल विधि महाविद्यालय के सभागार में मधेपुरा जिला जदयू की तैयारी बैठक हुई, जिसमें आलमनगर के विधायक व पूर्व मंत्री नरेन्द्र नारायण यादव, जदयू मीडिया सेल के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. अमरदीप, मधेपुरा के पूर्व विधायक मणीन्द्र कुमार मंडल उर्फ ओम बाबू, जिला प्रभारी अमर चौधरी उर्फ भगवान बाबू, प्रदेश प्रवक्ता निखिल मंडल, पूर्व प्रदेश महासचिव बीबी प्रभाकर, प्रदेश सलाहकार समिति के सदस्य सत्यजीत यादव, सुजीत कुमार मेहता, डॉ. नीलाकांत, राज्य महिला आयोग की पूर्व सदस्य गुड्डी देवी एवं वरीय नेता गोवर्द्धन मेहता मुख्य रूप से उपस्थित रहे। बैठक की अध्यक्षता पार्टी के जिलाध्यक्ष प्रो. बिजेन्द्र नारायण यादव ने की।
इस बैठक के संबंध में ‘मधेपुरा अबतक’ से बात करते हुए जदयू मीडिया सेल के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. अमरदीप ने कहा कि न केवल बिहार बल्कि देश की राजनीति में मधेपुरा ने हमेशा अग्रणी भूमिका निभाई है। समाजवाद को आकार देने की बात हो तो भूपेन्द्र नारायण मंडल, पिछड़ों को आवाज देने की बात हो तो मंडल कमीशन के जनक बीपी मंडल, भारतीय संविधान की रचना करने की बात हो तो संविधान सभा के सदस्य के रूप में चतरा के कमलेश्वरी प्रसाद यादव और राज्य की विधि व्यवस्था को सांचे में ढालना हो तो मधेपुरा के ही शिवनंदन प्रसाद मंडल याद किए गए। आज जबकि नीतीश कुमार के नेतृत्व में बिहार अपने विकास और वैभव की नई इबारत लिख रहा है, तब भी बिहार के अगुआ के साथ कदमताल करने में मधेपुरा ही सबसे आगे होगा। डॉ. अमरदीप ने कहा कि मधेपुरा के लोग अगर जग जाएं तो सहरसा का पटेल मैदान (जहां मुख्यमंत्री का कार्यक्रम हो रहा है) क्या, पटना का गांधी मैदान भी छोटा पड़ जाएगा। अल्पसंख्यक एवं महिला सम्मेलन भी अभूतपूर्व होगा।
तैयारी बैठक में सभी वक्ताओं ने एक स्वर से कहा कि चाहे महिलाओं की आधी आबादी हो, चाहे अतिपिछड़ा और अल्पसंख्यक समाज, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इन सबके उत्थान में कोई कसर नहीं छोड़ी है। यह हम सभी का नैतिक दायित्व है कि इन सभी कार्यक्रमों में अधिक से अधिक संख्या में अपनी उपस्थिति दर्ज कर अपने नेता का हौसला बढ़ाएं। बैठक में अतिपिछड़ा प्रकोष्ठ के जिलाध्यक्ष प्रदीप साह, अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के जिलाध्यक्ष मो. आजाद, महिला जदयू की जिलाध्यक्ष मीना देवी, व्यवसायिक प्रकोष्ठ के जिलाध्यक्ष अशोक चौधरी, दलित प्रकोष्ठ के जिलाध्यक्ष नरेश पासवान, युवा जदयू के जिलाध्यक्ष रूपेश कुमार गुलटेन, छात्र जदयू के जिलाध्यक्ष अमित आनंद मौजूद रहे। इनके अतिरिक्त कार्यक्रम में अपनी उपस्थिति दर्ज करने वालों में जदयू मीडिया सेल प्रदेश कार्यसमिति के सदस्य यादव उमेश कुमार, जिला मीडिया संयोजक प्रो. मनोज भटनागर एवं युवा जदयू के प्रदेश उपाध्यक्ष युगल पटेल प्रमुख हैं।

सम्बंधित खबरें