शांत रहने की इच्छा न पालें, इच्छाओं को ही शांत करें- बीके रंजू

प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय सेवा केन्द्र मधेपुरा में आज श्रद्धालुओं के द्वारा बीके रंजू की अध्यक्षता में स्नेह मिलन समारोह का आयोजन किया गया जिसमें ब्रह्माकुमारी संस्थान की यज्ञमाता मातेश्वरी जगदम्बा सरस्वती की 54वीं पुण्य तिथि का सहजतापूर्वक आयोजन किया गया।

माल्यार्पण, पुष्पांजलि एवं दीप प्रज्ज्वलित कर कार्यक्रम का श्रीगणेश किया समाजसेवी साहित्यकार प्रो.(डॉ.) भूपेन्द्र नारायण यादव मधेपुरी ने। इन कार्यक्रमों में संयुक्त रूप से सम्मिलित रहे डॉ.अजय कुमार, डॉ.नरेश कुमार, भाई ओम प्रकाश, विनय वर्धन, किशोर भाई, जानकी बहन, दुर्गा बहन, विजय वर्धन..  .  सहित अध्यक्षता कर रही ब्रह्माकुमारी रंजू दीदी। मातेश्वरी जगदम्बा सरस्वती की याद में सबों ने 2 मिनट का मौन रखकर उन्हें भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की।

बता दें कि आयोजन की अध्यक्षता कर रही राजयोगिनी ब्रह्माकुमारी रंजू ने 54वें स्मृति दिवस के उपलक्ष में मातेश्वरी जगदम्बा सरस्वती की विशेषताओं का वर्णन करते हुए कहा कि उनकी मीठी पालना, कुशल प्रशासन एवं मधुर शिक्षाएं सदैव हमें प्रेरणा देती रहेंगी। बीके रंजू ने कहा कि ब्रह्माकुमारी संस्थान की स्थापना के कार्यों में तीव्रता लाते हुए सर्वाधिक मनोयोग से संपन्न करती रही और 24 जून 1965 को हमें अलविदा कह कर दुनिया छोड़ गई।

यह भी कि जहाँ मुख्य अतिथि के रूप में समाजसेवी डॉ.मधेपुरी ने अपने अंतर्मन से मातेश्वरी जगदंबा सरस्वती को पुष्पांजलि अर्पित करते हुए तथा उनकी बातों को स्मरण करते हुए कहा कि जीवन में सदा सच्चाई कायम रखें और सफाई को अपने दिनचर्या में शामिल कर निरंतर गतिशील रखें….. सदा खुश रहें और सदैव औरों के बीच खुशियाँ बांटते रहें। डॉ.मधेपुरी ने यह भी कहा कि इच्छाओं का परित्याग ही स्वस्थ जीवन जीने का एकमात्र सहज मार्ग है।

कार्यक्रम को सफल बनाने में इंस्पेक्टर संजीव कुमार, प्रो.सतीश कुमार सिंह, डॉ.विनोद कुमार, बैजनाथ यादव, रंजीत कुमार आदि श्रद्धालुओं का सहयोग सराहनीय रहा है। ब्रह्माकुमार भाई किशोर ने कार्यक्रम का कुशल संचालन किया। अंत में प्रसाद वितरण के बाद अध्यक्षा बीके रंजू ने कार्यक्रम समाप्ति की घोषणा की।

सम्बंधित खबरें