सातवीं के छात्र ने तैयार किये वाहन चोरी रोकने वाले एप

सूबे महाराष्ट्र का एक छात्र है- बी.एस.रेवंत नम्बुरी जो माउंट लिटेरा जी स्कूल में सातवीं कक्षा में पढ़ता है | फिलहाल वह छात्र बी.एस रेवंत नंबूरी बमुश्किल 12 साल का है |

बता दें कि वह 12 वर्षीय छात्र नम्बुरी ने सड़क पर होने वाली दुर्घटनाएं तथा वाहनों की चोरी रोकने के लिए कुछ एप तैयार किए हैं जिसे पेटेंट कराने के लिए छात्र रेवंत नंबूरी ने अब तक 4 बार आवेदन कर चुका है |

यह भी बता दें कि भारत सरकार के केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने महाराष्ट्र के इस प्रतिभावान छात्र बीएस रेवंत नंबूरी से मुलाकात की तथा उस छात्र की प्रस्तुति को बड़े ही मनोयोग से देखा | केंद्रीय परिवहन मंत्री गडकरी ने सातवीं कक्षा के उस छात्र की प्रौद्योगिकी को व्यावहारिक रूप से इस्तेमाल में लाने में हरसंभव मदद का आश्वासन दिया है |

छात्र बीएस रेवंत नंबूरी ने केंद्रीय मंत्री गडकरी के समक्ष यातायात के नियमों के उल्लंघन पर पल-पल की तत्काल निगरानी के लिए तैयार किए गये एप की प्रस्तुति दी | उस छात्र नंबूरी ने एप में सीट बेल्ट सेंसर, ब्रीद एनालाइजर, हार्ट रेट एनालाइजर के साथ-साथ सीपीयू भी शामिल किया है, जो समस्त सूचनाओं को जमा करता है तथा अधिकारियों को सावधान करता है |

चलते-चलते यह भी बता दें कि इसी छात्र ने जो दूसरा एप तैयार किया है वह क्यूआर कोड पर आधारित है जो बिना नेटवर्क कनेक्टिविटी के कहीं भी डाटा या दस्तावेज का प्रिंट निकालने की सुविधा देता है | छात्र नंबूरी ने एक तीसरा एप भी तैयार किया है जो पेटेंट वाहनों की चोरी रोकने से संबंधित है | इस एप में एक key होती है जिसमें एक सिम लगा होता है |

सम्बंधित खबरें


राज्यसभा से भी पास हुआ तीन तलाक बिल

लोकसभा के बाद राज्यसभा में भी तीन तलाक को अपराध बनाने वाला बिल – मुस्लिम महिला (विवाह अधिकार संरक्षण) विधेयक – पास हो गया। कई दलों के वॉकआउट करने या अनुपस्थित रहने की वजह से राज्यसभा में बिल का रास्ता आसान हो गया था। दरअसल जेडीयू, एआईएडीएमके, बीएसपी और टीआरएस जैसे बड़े दलों ने वोटिंग में हिस्सा नहीं लिया। एआईएडीएमके और जेडीयू जैसे दलों के वॉकआउट और बीजेडी के समर्थन से बिल पास कराने में सत्ताधारी दल को बड़ी मदद मिली। तीन साल की सजा और जुर्माने के प्रावधान वाले इस बिल को लोकसभा से 26 जुलाई को ही मंजूरी मिल चुकी है।

कहने की जरूरत नहीं कि केन्द्र की मोदी सरकार के लिए यह बिल प्रतिष्ठा का प्रश्न बन चुका था। इसे पास कराने के लिए भाजपा कोई कसर नहीं रखना चाहती थी। आज भी उसने अपने सांसदों के लिए व्हिप जारी किया था। दरअसल 242 सदस्यों वाली राज्यसभा में भाजपा के 78 और कांग्रेस के 48 सांसद हैं। बिल को पास कराने के लिए एनडीए को 121 सदस्यों का समर्थन चाहिए था। ऐसी स्थिति में अन्य दलों के सांसदों की अनुपस्थिति से ही सरकार की राह आसान हो सकती थी। ऐसे में एआईएडीएमके के 11, जेडीयू के 6, टीआरएस के 6, बीएसपी के 4 और पीडीपी के 2 सांसद की अनुस्थिति से भाजपा की स्थिति मजबूत हो गई। सपा के भी कुछ सांसद वोटिंग में शामिल नहीं हुए।

बहरहाल, राज्यसभा में इस बिल पर लगभग साढ़े चार घंटे बहस चली। इस दौरान विपक्ष ने बिल को सिलेक्ट कमिटी को भेजने का प्रस्ताव रखा। लेकिन यह प्रस्ताव 100/84 से गिर गया। इसके बाद विधेयक के लिए वोटिंग कराई गई जिसमें इसके पक्ष में 99, जबकि विपक्ष में 84 वोट पड़े। इस तरह राज्यसभा में आसानी से यह बिल पास हो गया।

सम्बंधित खबरें


मधेपुरा में अंतर जिला कबड्डी प्रतियोगिता का उद्घाटन

मधेपुरा के बीपी मंडल इंडोर स्टेडियम में रविवार को अंतर जिला कबड्डी प्रतियोगिता के उद्घाटन मैच में बालक वर्ग में सहरसा एवं बालिका वर्ग में मधेपुरा जिला ने जीत हासिल की | बालक वर्ग में जहाँ सहरसा ने अररिया को 7 अंक से हराया वहीं बालिका वर्ग में मधेपुरा ने यह मैच 23 अंक की बढ़त से अररिया को पराजित किया।

बता दें कि इस कबड्डी प्रतियोगिता का उद्घाटन बीएनएमयू के कुलसचिव डॉ.कपिलदेव प्रसाद यादव, मुख्य अतिथि डॉ.भूपेन्द्र मधेपुरी, जिला कबड्डी संघ के अध्यक्ष जय कांत यादव, सचिव अरुण कुमार एवं डीपीएस के निदेशक किशोर कुमार, वार्ड पार्षद रेखा देवी व ध्यानी यादव आदि ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्ज्वलित कर किया। आरंभ में मुख्य अतिथियों को अंगवस्त्रम व पुष्पगुच्छ देकर सम्मानित किया संघ सचिव अरुण कुमार ने जिनके प्रशंसनीय प्रयास के चलते कबड्डी ऊँचाइयों को प्राप्त करता जा रहा है।

इस अवसर पर उद्घाटनकर्ता कुलसचिव डॉ.के.पी.यादव ने कहा कि खेल से शारीरिक, मानसिक एवं बौद्धिक विकास होता है | कुलसचिव ने कहा कि मधेपुरा में कबड्डी की एक अलग पहचान बनी है। संघ अध्यक्ष जय कांत यादव सहित, निदेशक डॉ.किशोर कुमार, क्रिकेट संघ सचिव अमित कुमार आनंद, टीटी सचिव प्रदीप श्रीवास्तव आदि ने अपने संबोधन में यही कहा कि कबड्डी को यहाँ तक लाने में सचिव अरुण कुमार का बहुत बड़ा योगदान है।

Chief Guest Dr.Bhupendra Madhepuri addressing the audience & encouraging the Players at BP Mandal Indoor Stadium, Madhepura.
Chief Guest Dr.Bhupendra Madhepuri addressing the audience & encouraging the Players at BP Mandal Indoor Stadium, Madhepura.

मुख्य अतिथि डॉ.भूपेन्द्र मधेपुरी ने खिलाड़ियों को सर्वाधिक उत्साहित एवं प्रोत्साहित करते हुए यही कहा कि देश की एकता और अखंडता को मजबूती देते रहने में खिलाड़ियों का अहम योगदान है। भारतीय सिनेमा और भारतीय रेल की तरह भारतीय खेल भी मजहबों एवं जातियों के बीच की दीवारों को कमजोर करके देश को मजबूत करने में अहम भूमिका निभाता रहा है। डॉ.मधेपुरी ने चीन के खिलाड़ियों के संकल्पों की विस्तार से चर्चा करते हुए कहा कि जिले के खिलाड़ियों में प्रतिभा की कमी नहीं है। रियांशी गुप्ता दर्जनों बार टीटी नेशनल खेलने वाली खिलाड़ी भी तो मधेपुरा की ही बेटी है….. यदि हिट कर गई तो ओलंपिक के मैदान में ही दिखेगी।

चलते-चलते यह भी बता दें कि खेल आरंभ होने से पहले उद्घाटनकर्ता… अध्यक्ष एवं मुख्य अतिथि सहित अन्य गणमान्यों की उपस्थिति में नारियल फोड़कर खिलाड़ियों से परिचित हुए। निर्णायक की भूमिका में खेल शिक्षक मनीष कुमार, रितेश रंजन, गुलशन कुमार, प्रवीण कुमार, सुमित कुमार, अभिषेक कुमार, नीरज कुमार, मनीष कुमार एवं गौरी कुमार आदि थे। अंततक खिलाड़ियों का हौसला बढ़ाते रहे- निदेशक मृणाल कुमार, खेल शिक्षिका मीरा कुमारी, सविता कुमारी, वीरेंद्र कुमार विवेक, वरुण कुमार विशाल सहित अन्य खेल प्रेमीगण।

सम्बंधित खबरें


मधेपुरा के डॉ.एपीजे अब्दुल कलाम पार्क में उनकी 5वीं पुण्यतिथि मनी

27 जुलाई 2015 को शिलांग में आईआईटी के छात्रों को “धरती को रहने योग कैसे बनाया जाये” विषय पर व्याख्यान देते-देते मिसाइल मैन डॉ.कलाम दुनिया को अलविदा कह दिये। भारतरत्न डॉ.कलाम के करीबी रह चुके डॉ.भूपेन्द्र नारायण मधेपुरी ने नगर परिषद के सदस्यों के सहयोग से तत्कालीन डीएम मो.सोहैल (आईएएस) द्वारा 22 मार्च 2018 को डॉ.एपीजे अब्दुल कलाम पार्क का ओपन जिम के साथ उद्घाटन कराया था।

Dr.Madhepuri along with Dr.B.N.Bharti, Dhyani Yadav, Santosh Kumar Jha, Nirmal Tiwari, Chandrakant & others engaged in Swachhta Karyakram on the occasion of the 5th Punya Tithi of Bharat Ratna Dr.APJ Abdul Kalam at Kalam Park, Madhepura.
Dr.Madhepuri along with Dr.B.N.Bharti, Dhyani Yadav, Santosh Kumar Jha, Nirmal Tiwari, Chandrakant & others engaged in Swachhta Karyakram on the occasion of the 5th Punya Tithi of Bharat Ratna Dr.APJ Abdul Kalam at Kalam Park, Madhepura.

बता दें कि 27 जुलाई 2019 को प्रातः 7:00 बजे समाजसेवी डॉ.भूपेन्द्र नारायण मधेपुरी के नेतृत्व में भारतरत्न डॉ.कलाम के नाम वाले उसी पार्क में बच्चे, बड़े एवं बुजुर्गों सहित सृजन दर्पण के रंगकर्मियों द्वारा पार्क की सफाई कर उन्हें उनकी पाँचवीं पुण्यतिथि पर याद किया गया। मौके पर डॉ.बीएन भारती, संतोष कुमार झा, ध्यानी यादव, निर्मल कुमार तिवारी, चंद्रकांत, राजकुमार, मो.शब्बीर आदि उपस्थित लोगों से डॉ.मधेपुरी ने “कलाम साहब….. अमर रहे” के नारे लगवाये। डॉ.मधेपुरी ने इसी दौरान बच्चों से कहा-

शिक्षा का कोई महत्व वहाँ नहीं रह जाता जहाँ पढ़े-लिखे लोग सड़क पर कचरा फेंके और दूसरे दिन उसे अनपढ़ व्यक्ति साफ करे।

यह भी बता दें कि अपराह्न 2:00 बजे कौशिकी साहित्य सम्मेलन भवन में चल रहे टीपीएस स्कूल के छात्र-छात्राओं एवं शिक्षकों द्वारा आयोजित डॉ.एपीजे अब्दुल कलाम की पाँचवीं पुण्यतिथि समारोह में मुख्य अतिथि डॉ.भूपेन्द्र नारायण मंधेपुरी ने सर्वाधिक अनुशासित एवं उपस्थित रहने वाले छात्रों को पुरस्कृत करते हुए कहा कि डॉ.कलाम अंतिम साँस लेने तक शिक्षक की भूमिका निभाते रहे तथा ताजिंदगी वे विद्यार्थी बने रहे।

Chief Guest Dr.Bhupendra Madhepuri addressing the students & teachers of T.P.S. Madhepura on the occasion of 5th Death Anniversary of Dr.APJ Abdul Kalam at Ambika Sabhagar, Kaushiki Kshetra Hindi Sahitya Sammelan , Madhepura.
Chief Guest Dr.Bhupendra Madhepuri addressing the students & teachers of T.P.S. Madhepura on the occasion of 5th Death Anniversary of Dr.APJ Abdul Kalam at Ambika Sabhagar, Kaushiki Kshetra Hindi Sahitya Sammelan , Madhepura.

समारोह में स्वागताध्यक्ष की भूमिका में रहे प्राचार्य डॉ.हरिनंदन यादव व अध्यक्षता किया श्यामल कुमार सुमित्र ने। डॉ.कलाम को जिले के चौसा प्रखंड के महादेव लाल मध्य विद्यालय एवं मधेपुरा सदर स्थित समिधा ग्रुप के छात्र-छात्रा व शिक्षकों ने पाँचवीं पुण्यतिथि पर याद किया और श्रद्धांजलि दी।

सम्बंधित खबरें


कारगिल के शहीदों की शौर्य गाथा मधेपुरा में भी गूंजी

भारतीय सैनिकों ने अपने शौर्य एवं पराक्रम के बूते भारत-पाकिस्तान के बीच हुए कारगिल युद्ध में विजय पताका आज (यानी 26 जुलाई) के दिन ही फहराया था। उसी कारगिल विजय दिवस के उपलक्ष में स्थानीय बड़ी दुर्गा मंदिर में प्रांगण रंगकर्मी सुनीत साना, श्रीकांत राय एवं विक्की विनायक सरीखे जज्बाती देश भक्तों के नेतृत्व में शुक्रवार की शाम को बैठक आयोजित कर उन शहीदों को भावभीनी श्रद्धांजलि दी गई। इस दौरान उपस्थित सभी युवाओं ने कैंडल जलाकर कारगिल के शहीद सैनिकों के शौर्य को नमन किया।

बता दें कि मौके पर मधेपुरा के भीष्म पिता कहलाने वाले समाजसेवी-साहित्यकार एवं सुलझे सोच के इंसान डॉ.भूपेन्द्र नारायण यादव मधेपुरी ने कहा कि स्वाधीन भारत के लिए यह एक सर्वाधिक महत्वपूर्ण दिवस है। इसे प्रतिवर्ष 26 जुलाई को मधेपुरा के जज्बाती युवा देश प्रेमियों द्वारा मनाया जाता है।

डॉ.मधेपुरी ने कैंडल लहराते हुए अति भावुक होकर कारगिल युद्ध का संक्षिप्त इतिहास बताया तथा युवाओं से कहा कि कारगिल युद्ध हिंदुस्तान और पाकिस्तान के बीच लगभग 60 दिनों तक चला और 26 जुलाई 1999 को भारतीय सैनिकों ने जीत का परचम लहराया। तभी से प्रति वर्ष इसी दिन कारगिल युद्ध में शहीद हुए जवानों को याद किया जाता है। उन्होंने यह भी कहा कि कारगिल कश्मीर का एक जिला है जहाँ यह युद्ध लगभग 2 महीने चला। भारतीय सैनिक 32 हज़ार फीट की ऊँचाई वाले बर्फीले  पहाड़ पर चढ़कर युद्ध में जीत हासिल करने के लिए दुस्साहस पूर्ण शौर्य का प्रदर्शन किया था तथा पाक सैनिकों को वापस भागने पर विवश कर दिया था।

मौके पर प्रांगन रंगमंच के रीढ़ सुनीत साना, विक्की विनायक, कुंदन सिंह सोनू, मिथिलेश वत्स, श्रीकांत राय, अमर कुमार, विपुल भारती, सौरभ कुमार, शानू भारद्वाज, ठाकुर विवेश, आशीष सिंह, शेखर आकाशदीप, विष्णु कुमार, आर्या रोशन, सूरज कुमार सोनू , आशीष सत्यार्थी, कुंदन कुमार सोनी, सागर कुमार, राजा कुमार, आकाश कुमार, शशि भूषण आदि ने एक स्वर से कहा कि भारतीय सैनिक हमारा गौरव है, आन-बान और शान है….. हमें उनके सम्मान में हमेशा तैयार रहना है…… तत्पर रहना है।

सम्बंधित खबरें


बंद करें मृत्यु भोज यह सामाजिक कलंक है…. बुराई है…. अभिशाप है- डॉ.मधेपुरी

मधेपुरा जिले के सिंहेश्वर प्रखंड क्षेत्र अंतर्गत सुखासन पंचायत के सरकार भवन परिसर में वरिष्ठ नागरिक सेवा संगठन के चतुर्थ स्थापना दिवस पर वृहद समारोह सह सामाजिक कुरीति से जुड़े “मृत्यु भोज का औचित्य” विषय पर एक सेमिनार का आयोजन किया गया। इस आयोजन की रीढ़ बने सिंहेश्वर प्रखंड मुखिया संघ के अध्यक्ष सह मुखिया किशोर कुमार पप्पू।

बता दें कि आयोजन के उद्घाटनकर्ता पूर्व प्रमुख उपेंद्र नारायण यादव, अध्यक्ष डॉ.शिव नारायण यादव, मुख्य वक्ता डॉ.भूपेन्द्र नारायण मधेपुरी, विशिष्ट अतिथि प्रो.शचिंद्र, प्रो.श्यामल किशोर यादव आदि ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्ज्वलित कर कार्यक्रम का श्रीगणेश किया। आरंभ में स्कूली बच्चियों ने नृत्य के साथ स्वागत गान की प्रस्तुति दी।

सर्वप्रथम उद्घाटनकर्ता ने मृत्यु भोज को गरीब तबके के लोगों के लिए सत्यानाश बताते हुए कहा कि मृत्यु भोज के जाल में फसकर गरीब जीवन भर के लिए कर्ज के बोझ से लद जाता है। इस अंधविश्वास को मिटाने के लिए वरिष्ठ नागरिक सेवा संगठन के अध्यक्ष दुर्गानंद विश्वास, सचिव भरत चंद्र भगत एवं विश्व नशा उन्मूलन को समर्पित संत गंगादास को तत्पर देखे जाते हैं। अध्यक्षता करते हुए डॉ.शिव नारायण यादव ने समाज के सभी वर्गों से मृत्यु भोज के अपव्यय एवं व्यर्थ के आडंबर से धीरे-धीरे मुख मोड़ने की अपील की।

इस आयोजन के मुख्य वक्ता समाजसेवी-साहित्यकार डॉ.भूपेन्द्र नारायण मधेपुरी ने अपने विस्तृत संबोधन में अध्यात्म और विज्ञान दोनों ही दृष्टिकोण से ‘मृत्यु भोज के औचित्य’ का विश्लेषण करते हुए यही कहा कि मृत्यु भोज सामाजिक कलंक है ….बुराई है….. अभिशाप है। डॉ.मधेपुरी ने बार-बार समाज को लीक से हटकर इस कुप्रथा को जड़ से समाप्त करने हेतु विचार करने को कहा। साथ ही आँखें मूंदकर अंधविश्वास के मकड़जाल में नहीं जीने के लिए लोगों से उन्होंने अपील की…. और यही कहा कि मानव-विकास के रास्ते में ऐसी गंदगी कैसे पनप गई….. यह समझ से परे है। मरने पर सगे-संबंधी भोज करें, उसमें मिठाइयाँ बांटे एवं खुद मिठाइयाँ खाएं- यह तो एक सामाजिक बुराई है जिसके खात्मा के लिए हम सभी को जागरूक होना पड़ेगा।

मौके पर प्रो.शचिंद्र, प्रो.श्यामल किशोर यादव, डॉ.शेखर कुमार, उपेंद्र रजक, शशि सिन्हा आदि ने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि मृत्यु भोज का परित्याग हो। इस बावत आयोजन में उपस्थित हरिप्रसाद टेकरीवाल, सोहन कुमार वर्मा, ब्रह्मदेव यादव, सुबोध शर्मा, अशोक मेहता, मोहन मिश्रा, राजेश कुमार रंजन, शिवचंद्र चौधरी, तनीक चौधरी, राहुल कुमार आदि उपस्थित जनों ने माता-पिता व श्रेष्ठ जनों की सेवा करने तथा मृत्यु भोज न करने की शपथ ली।

सम्बंधित खबरें


मंडल विश्वविद्यालय के नॉर्थ कैंपस में होगा हर्बल गार्डन का निर्माण

भूपेन्द्र नारायण मंडल विश्वविद्यालय में वन महोत्सव माह में जहाँ कालेजों में लगेंगे ढेर सारे पौधे और मनाये जाएंगे वृक्षारोपण सप्ताह…… वहीं विश्वविद्यालय में इस महोत्सव का आयोजन 1-15 अगस्त तक किया जाएगा। इस बाबत मंडल विश्वविद्यालय के पदाधिकारियों एवं वन विभाग के अधिकारियों की एक संयुक्त बैठक कुलपति डॉ.अवध किशोर राय की अध्यक्षता में हुई।

बता दें कि वन महोत्सव वह सप्ताहिक पर्व है जिसे कुलपति डॉ.के.एम.मुंशी द्वारा जनमानस के बीच “वन संरक्षण एवं पौधरोपण” के रूप में वर्ष 1950 के जुलाई माह में सर्वप्रथम आरंभ किया गया था। यह महोत्सव लोगों के बीच वनसंरक्षण एवं नये पौधरोपण के प्रति जागरूकता फैलाने के लिए शुरू किया गया था।

जानिये कि कुलपति डॉ.एके राय की अध्यक्षता में यह निर्णय लिया गया कि मंडल विश्वविद्यालय के नॉर्थ कैंपस में एक हर्बल गार्डन का निर्माण किया जाएगा। साथ ही यह भी कि विश्वविद्यालय के अधीनस्त सारे अंगीभूत एवं संबद्ध महाविद्यालयों में भूमि की उपलब्धता के अनुसार पौधे लगाये जाएंगे।

इस बाबत अहम निर्णय यह लिया गया कि 1 दिन बाद विश्वविद्यालय के पदाधिकारीगण तथा वन विभाग के अधिकारीगण विश्वविद्यालय के क्षेत्रान्तर्गत विभिन्न महाविद्यालयों में संयुक्त रूप से जा-जाकर नए पौधरोपण के लिए स्थल चिन्हित करेंगे तथा विश्वविद्यालय मुख्यालय के नार्थ कैंपस में हर्बल गार्डन निर्माण हेतु कार्य योजना तैयार करेंगे।

यह भी बता दें कि लंबी चली इस बैठक में कुलपति डॉ.राय ने कोसी क्षेत्र की जैव विविधता को संरक्षित करने हेतु ठोस प्रयास करने के तहत एक कार्यशाला के आयोजन का भी सुझाव दिया जिसे DSW डॉ.शिवमुनि यादव, CCF मनोज कुमार सिंह (पूर्णिया), DFO सुनील कुमार (सुपौल), RFO पी.आर.सहाय (मधेपुरा), प्रिंसिपल डॉ.संजीव कुमार सिंह (बीएसएस कॉलेज सुपौल) सहित NSS समन्वयक डा.अभय कुमार यादव आदि ने सर्वसम्मति से हर्ष के साथ पारित किया।

सम्बंधित खबरें


समस्त भारत को नई ऊर्जा से भर दिया है चन्द्रयान- 2

इसरो द्वारा 22 जुलाई (सोमवार 2:43 बजे दोपहर) को श्रीहरिकोटा के सतीश धवन स्पेस सेंटर से चन्द्रयान-2 की सफल लाँचिंग के गवाह बने महामहिम राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री तथा दोनों सदनों के सदस्यगण सहित समस्त भारतवासी। आज 130 करोड़ भारतीय नर-नारियों की उम्मीदों को चाँद के ऐतिहासिक सफर पर निकले चन्द्रयान-2 ने पंख लगा दिया है।

इस चंद्रयान-2 मिशन में 5 हज़ार महिला वैज्ञानिकों ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। इसरो के इतिहास में पहली बार चंद्रयान-2 मिशन में परियोजना निदेशक एवं मिशन डायरेक्टर की महत्वपूर्ण जिम्मेदारी दो महिलाओं बी.मुथैया एवं रितु करिधाल को सौंपी गई है। सही मायने में भारत को नारी शक्ति ने ही बना दिया है अंतरिक्ष विज्ञान की हस्ती। जहाँ नासा में अबतक 15% महिलाओं ने ही ग्रहीय अभियानों में योगदान दिया है वहीं इसरो के अभियानों में लगभग 30% महिलाओं ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

बता दें कि भारतरत्न डॉ.कलाम के करीबी रह चुके भौतिकी के प्रोफेसर डॉ.भूपेन्द्र नारायण मधेपुरी के अनुसार कभी इसरो-प्रमुख रह चुके गाँधीयन मिसाइल मैन डॉ.एपीजे अब्दुल कलाम ने 2008 में चंद्रयान-1 की लांचिंग से चन्द घंटे पहले यही कहा था-

“चन्द्रयान के जरिये चंद्रमा पर की गई खोज समस्त भारत के युवा, वैज्ञानिकों एवं बच्चों को नई ऊर्जा से भर देगी….. बाहरी दुनिया की खोज में यह चन्द्रयान-1 शुरुआत भर है”

आज इसी इसरो के वर्तमान प्रमुख एवं अंतरिक्ष विभाग के सचिव के.सिवन की टीम द्वारा 2020 की पहली छमाही के अंतर्गत चाँद के बाद सूरज मिशन की तैयारी आदित्य एल-1 के जरिये शुरू की जाएगी। जानिए की आदित्य एल-1 द्वारा सूरज के कोरोना यानि बाहरी परत का अध्ययन किया जाएगा जो कई हजार किलोमीटर के क्षेत्र में फैली हुई है।

चलते-चलते यह भी बता दें कि इसरो प्रमुख के.सिवन ने पिछले महीने प्रेस कॉन्फ्रेंस में मधेपुरा अबतक से यही कहा था-

“सूरज का कोरोना पृथ्वी से 15 लाख किलोमीटर दूर है…. जिसके बाहरी परत का अध्ययन करना इसलिए जरूरी है कि जलवायु परिवर्तन पर इसका बहुत बड़ा प्रभाव पड़ता है। आदित्य एल-1 के जरिए कोरोना के अलावे सूर्य के बाह्यमंडल एवं वर्णमंडल के भिन्न-भिन्न प्रकार के विश्लेषणों का भी पता लगाया जा सकता है।”

सम्बंधित खबरें


प्रबन्ध काव्य ‘सृष्टि का श्रृंगार’ का लोकार्पण

मधेपुरा की ऐतिहासिक धरोहर ‘जीवन सदन’ के सभागार में सुकवि मणिभूषण वर्मा द्वारा रचित स्वामी विवेकानंद की जीवनी पर आधारित प्रबन्ध काव्य ‘सृष्टि का श्रृंगार’ का लोकार्पण किया गया। भव्य लोकार्पण समारोह में उद्घाटनकर्ता के रूप में प्रगतिशील लेखक संघ के राष्ट्रीय महासचिव राजेंद्र राजन, अध्यक्षता कर रहे वरिष्ठतम प्राध्यापक डॉ.के.एन.ठाकुर, समाजसेवी-साहित्यकार डॉ.भूपेन्द्र नारायण यादव मधेपुरी, अभिषद सदस्य डॉ.रामनरेश सिंह, पीयू के हिन्दी विभागाध्यक्ष डॉ.सुरेंद्र नारायण यादव, साहित्यकार देव नारायण पासवान देव, प्रिंसिपल डॉ.अशोक कुमार आलोक, प्राचार्य श्यामल किशोर यादव एवं सिद्धहस्त मंच संचालक डॉ.के.के.चौधरी आदि ने संयुक्त रूप से ‘सृष्टि का श्रृंगार’ का लोकार्पण किया और किया दीप प्रज्ज्वलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ।

बता दें कि सर्वप्रथम कोसी के स्थापित गीतकार व संगीतकार प्रो.अरुण कुमार बच्चन एवं प्रो.रीता कुमारी द्वारा प्रबन्ध काव्य की पंक्तियों को लयबद्ध कर सुरुचिपूर्ण स्वर के साथ सुधी श्रोताओं के बीच परोसी गयी। तालियों की गड़गड़ाहट के बीच अतिथियों का भरपूर सम्मान मंच की ओर से किया गया। स्वागत भाषण प्रवीण कुमार ने दिया।

मौके पर ‘सृष्टि का श्रृंगार’ पुस्तक की महत्ता पर विस्तार से चर्चा करते हुए रचयिता प्रो.मणिभूषण वर्मा ने कहा कि आज हिन्दी अपने सर्वोच्च शिखर को छू रही है। जहाँ डॉ.सिद्धेश्वर कश्यप ने इस कृति के बाबत यही कहा कि इसमें राग और विराग, कर्म और सन्यास तथा काम और आध्यात्म का समन्वय है वहीं डॉ.विनय कुमार चौधरी ने इस कृति को मधेपुरा की सबसे बड़ी उपलब्धि कहा तथा पुस्तक में वर्णित विवेकानंद के चरित्र को नए विवेकानंद अर्थात युगीन विवेकानंद बताया।

उद्घाटन व लोकार्पण करने के बाद प्रलेस के राष्ट्रीय महासचिव राजेंद्र राजन ने अपनेे विस्तृत संबोधन में यही कहा कि स्वामी विवेकानंद के जीवन से हमें सीख लेने की जरूरत है तभी भारतीय युवाओं के अंदर नित नई-नई ऊर्जा का संचार होगा। श्री राजन ने कहा कि अपनी प्रतिभा, पौरुष व पुरुषार्थ के बल पर स्वामी विवेकानंद ने हमेशा भारत की गरिमा को देश और दुनिया में ऊँचाई देने का काम किया है।

जहाँ डॉ.सुरेंद्र नारायण यादव ने लोकार्पित पुस्तक के विभिन्न पक्षों को व्याख्यायित करते हुए इसे हिन्दी साहित्य जगत की विशिष्ट उपलब्धि करार दिया, वहीं डॉ.देव नारायण पासवान देव ने यही कहा कि यह कृति महाकाल, राग भैरव और प्रेम का समन्वय है।

यह भी जानिए की अध्यक्षता कर रहे डॉ.के.एन. ठाकुर सहित प्राचार्य डॉ.ए.के.आलोक व प्रो.श्यामल किशोर यादव एवं डॉ.रामनरेश सिंह व प्रो.शचिंद्र ने भी जहाँ इस कृति के प्रति उद्गार व्यक्त किया वहीं समाजसेवी डॉ.मधेपुरी ने धन्यवाद देने के क्रम में कौशिकी के अध्यक्ष हरिशंकर श्रीवास्तव शलभ सहित उनके गुरु परमेश्वरी प्रसाद मंडल दिवाकर एवं इंदुबाला सिन्हा व तारकेश्वर सिन्हा आदि को मणिभूषण वर्मा का मार्गदर्शक बताते हुए कहा कि लगभग 30 वर्षों से सुकवि मणिभूषण वर्मा की साहित्यिक प्रतिभा की गहराई को जानने के बाद से वे भी उन्हें निरंतर उत्साहित एवं प्रोत्साहित करते रहे हैं। डॉ.मधेपुरी ने सुकवि वर्मा को इस धरती का सफल शिक्षक, साहित्य साधक व सुकवि बताया। अतिथियों सहित मधेपुरा का नाम रोशन करने वाली बेटियों प्रो.रीता कुमारी, अधिवक्ता संध्या कुमारी, श्वेता कुमारी, प्रो.गणेश प्रसाद यादव, प्रो.शंभू शरण भारतीय, दशरथ प्रसाद सिंह, सुपौल से आए विश्वकर्मा जी, डॉ.अरविंद, डॉ.आलोक आदि को धन्यवाद देते हुए डॉ.मधेपुरी ने कहा कि चन्द पंक्तियाँ ही किसी कवि को अविस्मरणीय बना देती हैं….. वैसी ही हैं- “सृष्टि का श्रृंगार”  की ये पंक्तियाँ-

कितना भी हो तमस-जाल आलोक निकल आता है।

अंधकार को चीर धरा को उज्ज्व्ल कर जाता है।।

सम्बंधित खबरें


बिहार के 40वें महामहिम राज्यपाल बने फागू चौहान

चार नये गवर्नर के पदस्थापन और दो के स्थानांतरण की विज्ञप्ति जारी हुई राष्ट्रपति भवन से। जिन चारों राज्यों में नये राज्यपालों की नियुक्तियाँ की गई, वे हैं – बिहार, पश्चिम बंगाल, त्रिपुरा और नागालैंड।

बता दें कि जहाँ बिहार के 40वें राज्यपाल बनेंगे पिछड़ों के शीर्ष नेताओं में गिने जाने वाले 71 वर्षीय फागू चौहान, वहीं पश्चिम बंगाल के गवर्नर नियुक्त किये गये हैं हरियाणा के वरिष्ठ नेता और सुप्रीम कोर्ट के जाने-माने वकील 68 वर्षीय जगदीप धनकड़।

यह भी बता दें कि जहाँ त्रिपुरा के राज्यपाल बनाये गये पूर्व केंद्रीय मंत्री रमेश बैस, वहीं नागालैंड का गवर्नर बनाया गया राष्ट्रीय सुरक्षा उप सलाहकार आर.एन.रवि।

यह भी जानिए कि बिहार में बतौर 331 दिन गवर्नर रहकर जिनने कई बड़ी लकीरें खींची उसी लालजी टंडन का स्थानांतरण मध्य प्रदेश किया गया हैं….. जहाँ की राज्यपाल 77 वर्षीय आनंदी बेन पटेल को उत्तर प्रदेश के गवर्नर की जिम्मेदारी दी गई है।

नई पहल जो लालजी टंडन ने अपने सालभर से भी कम कार्यकाल में की , वे हैं- (1) राजभवन में संविधान दिवस का आयोजन (2) शंकराचार्य व मंडन मिश्र की तर्ज पर शास्त्रार्थ का आयोजन (3) राजभवन में उद्यान प्रदर्शनी का आयोजन (4) विश्वविद्यालयों को गाँवों को गोद लेने के लिए प्रेरित करना (5) संगीतज्ञों को सम्मान दिलाने की पहल और (6) चांसलर्स अवार्ड की शुरुआत की पहल….. जो प्रक्रियाधीन है।

अब देखना यह है कि यूपी के मऊ जनपद की घोसी विधान सभा सीट पर विभिन्न पार्टियों से 6 बार विधायक रह चुके तथा राज्य पिछड़ा वर्ग आयोग के चेयरमैन रह चुके फागू चौहान बिहार जैसे पिछड़े परंतु विकासोन्नमुखी राज्य के व्यापक सुधार हेतु क्या-क्या करते हैं……..?

सम्बंधित खबरें