भारत के टॉप 10 ब्रांड में जियो और एसबीआई के साथ पतंजलि

योगगुरु बाबा रामदेव का ब्रांड पतंजलि भारत के टॉप 10 प्रभावशाली ब्रांड में शामिल हो गया है। ग्लोबल रिसर्च फर्म इप्सोस (IPSOS) ने भारतीय बाज़ार में 100 से अधिक ब्रांड का मूल्यांकन करने के बाद टॉप 20 ब्रांड की रैंकिंग जारी की है, जिसमें मुकेश अंबानी की कंपनी रिलायंस जियो और पब्लिक सैक्टर के सबसे बड़े बैंक एसबीआई के साथ पतंजलि ने भी जगह बनाई है। सूची में सर्च इंजन गूगल पहले, माइक्रोसॉफ्ट दूसरे और सोशल नेटवर्किंग कंपनी फेसबुक तीसरे स्थान पर रही।

टॉप 10 ब्रांड में ई-कॉमर्स कंपनी फ्लिपकार्ट और उसकी प्रतिस्पर्द्धी कंपनी अमेजॉन भी शामिल हैं। हालांकि फ्लिपकार्ट इस बार तीन पायदान गिरकर 10वें स्थान पर पहुंच गई है, जबकि अमेजॉन इंडिया ने अपने रैंक में सुधार करते हुए छठे स्थान पर कब्जा जमाया।

इप्सोस की इस सूची में शीर्ष पर जगह बनाने की क्या अहमियत है, इसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि ऐपल, स्नैपडील, कैडबरी, अमूल और डिटॉल जैसे दिग्गज ब्रांड टॉप 10 में अपनी जगह नहीं बना सके। हालांकि ये टॉप 20 में जरूर शामिल हैं। गौरतलब है कि रैंकिंग जारी करने से पहले इप्सोस सारे ब्रांड को क्वालिटी, अनुभव और वैल्यू के पैमाने पर जांचने के साथ ही बाज़ार पर उनके प्रभाव का भी बारीकी से आकलन करती है।

बहरहाल, देश के टॉप 10 ब्रांड में शामिल होने के बाद बाबा रामदेव अब कुछ नया करने जा रहे हैं। जी हां, एफएमसीजी सेक्टर में पतंजलि की स्वर्णिम सफलता के बाद उन्होंने चालीस हजार करोड़ रुपये वाले प्राइवेट सिक्योरिटी मार्केट में भी दस्तक दे दी है। गुरुवार को उन्होंने हरिद्वार में पराक्रम सुरक्षा प्राइवेट लिमिटेड नाम से प्राइवेट सिक्योरिटी फर्म की शुरुआत की। ‘पराक्रम सुरक्षा, आपकी रक्षा’ के नारे के साथ आई इस कंपनी का 2017 के आखिर तक देशभर में शाखाएं खोलने का लक्ष्य है।

चलते-चलते बता दें कि पतंजलि की स्थापना बाबा रामदेव ने साल 2006 में की थी। महज 11 साल में इसके ग्रोथ के जादुई सफर का अंदाजा आप पिछले वित्त वर्ष में हासिल किए गए इसके राजस्व से लगा सकते हैं, जो 10,561 करोड़ रुपये का था।

 

सम्बंधित खबरें