‘जनादेश अपमान यात्रा’ पर निकले तेजस्वी

9 अगस्त से जनादेश अपमान यात्रा शुरू करने के लिए लालू के छोटे बेटे व पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव घर से निकल गए हैं। उनकी मां व पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी ने आज आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के समक्ष तिलक लगाकर उन्हें विदा किया। तेजस्वी के साथ उनके बड़े भाई व पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तेज प्रताप यादव भी गए हैं।

यात्रा पर निकलने से पहले नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने मीडिया को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर हमला बोला और कहा कि कल तक वे संघमुक्त भारत की बात करते थे और आज आरएसएस युक्त बिहार की बात कर रहे हैं। भाजपा नेता व मौजूदा उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी के बारे में उन्होंने कहा कि उन पर कई मुकदमा है। ‘भाजपा भगाओ, देश बचाओ’ रैली में वे तर्क के साथ अपनी बात रखेंगे।

चम्पारण जाने के क्रम में जैसे-जैसे तेजस्वी का कारवां आगे बढ़ता गया, पार्टी समर्थकों ने हर जगह उनका स्वागत किया। यात्रा के हर पड़ाव पर तेजस्वी अपना अनुभव तस्वीरों के साथ ट्वीट करते रहे। अपने ट्वीट में उन्होंने जनता में आक्रोश होने की बात कही और नीतीश कुमार को चुनाव कराने की चुनौती दी।

बता दें कि तेजस्वी की इस यात्रा का उद्देश्य जनादेश के तथाकथित अपमान के बारे में जनता को बताना और आरजेडी की 27 अगस्त को प्रस्वावित रैली के लिए पटना बुलाना है। पर तेजस्वी से एक बात पूछे बिना नहीं रहा जाता कि आज इन सब बातों में वे जितनी ऊर्जा खर्च कर रहे हैं, उसका थोड़ा अंश उन्होंने अपने ऊपर लगे आरोपों पर ‘बिन्दुवार स्पष्टीकरण’ देने में क्यों नहीं खर्च किया? अगर वो ऐसा करते तो महागठबंधन टूटने की नौबत न आती और वो खुद न सही लेकिन उनकी पार्टी सरकार में बनी रहती।

सम्बंधित खबरें