सुप्रीम कोर्ट की फटकार के बाद बंगला खाली करेंगे तेजस्वी

बंगला खाली नहीं करने को लेकर सुप्रीम कोर्ट की फटकार खाने के बाद आखिरकार आरजेडी नेता और बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी प्रसाद यादव को शनिवार को कहना पड़ा कि वह इस आदेश का सम्मान करेंगे और बंगला खाली करेंगे।

गौरतलब है कि तेजस्वी ने उपमुख्यमंत्री के लिए निर्धारित सरकारी बंगला खाली करने के पटना हाई कोर्ट के आदेश को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी। सर्वोच्च अदालत ने तेजस्वी की यह अर्जी खारिज कर दी थी और उन्हें विपक्ष के नेता के लिए आवंटित आवास में जाने का आदेश दिया था। यही नहीं, सुप्रीम कोर्ट ने उच्च न्यायालय की दो पीठों से अर्जी खारिज होने के बाद भी अपना मुकदमा शीर्ष अदालत तक लाने के कारण उन पर 50 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया।

बहरहाल, तेजस्वी जहां एक ओर सर्वोच्च अदालत से माफी मांग रहे हैं वहीं दूसरी ओर बंगला आवंटन को लेकर राज्य सरकार पर द्वेषपूर्ण व भेदभावपूर्ण रवैया अपनाने का आरोप भी लगा रहे हैं और इसके खिलाफ ‘लोकतांत्रिक’ संघर्ष जारी रखने की बात कह रहे हैं। कोर्ट के इतने स्पष्ट आदेश आने, आदेश ही नहीं फटकार लगाने और उसके उपरांत माफी तक मांग चुकने के बाद तेजस्वी के आरोपों का खोखलापन स्वत: उजागर हो जाता है, फिर भी वे इस मुद्दे के राजनीतिकरण से बाज नहीं आ रहे।

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने तेजस्वी को 5, देशरत्न मार्ग का बंगला खाली करने को कहा था ताकि उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी वहां रह सकें। जुलाई 2017 में नीतीश कुमार के महागठबंधन से अलग होने के बाद तेजस्वी उपमुख्यमंत्री की कुर्सी गंवा बैठे थे।

सम्बंधित खबरें