पाकिस्तान में भी मनाई जाती है होली

आमतौर पर जब पाकिस्तान की चर्चा होती है, तब हमारे जेहन में भारत के लिए वहां के सियासतदानों के कटुता भरे बयान, हाफिज सईद जैसे आतंकियों की नापाक हरकतें, सीमा पर आए दिन होने वाली गोलीबारी या फिर क्रिकेट के मैदान की प्रतिद्वंद्विता की तस्वीर उभरती है। ऐसे में क्या आप इस बात पर यकीन कर सकते हैं कि रंगों के त्योहार होली के दिन वहां भी जमकर अबीर-गुलाल उड़ता है, हिन्दी फिल्मों के गानों पर धमाल मचता है और वहां रह रहे अल्पसंख्यक हिन्दुओं के साथ मुस्लिम समुदाय के लोग भी इसमें शामिल होते हैं..!

जी हां, मुस्लिम मुल्क पाकिस्तान में हिंदू बिरादरी के लोग धूमधाम से होली मनाते हैं। इस दिन सारे रिश्तेदार बहन-भाई मंदिरों में इकट्ठा होते हैं और एक दूसरे पर रंग डालते हैं। वहां के लोग बताते हैं कि होली के जश्न में उनके मुस्लिम दोस्त भी शामिल होते हैं और होली भी खेलते हैं। होली के मौके पर हिंदुस्तान की तरह पाकिस्तान में भी विशेष व्यंजन बनाए जाते हैं। आपको जानकर खुशी होगी कि कुछ साल पहले तक यहां होली की छुट्टी नहीं होती थी, लेकिन अब होली पर यहां सार्वजनिक अवकाश हुआ करता है।

गौरतलब है कि पाकिस्तान में 2 प्रतिशत अल्पसंख्यक आबादी है। इनमें हिंदुओं के अलावा ईसाई और दूसरे सम्प्रदाय के लोग भी हैं। पाकिस्तान के सिंध प्रांत में हिंदुओं की आबादी ज्यादा है, इसलिए स्वाभाविक तौर पर यहां होली की धूम अधिक होती है। वैसे कराची भी इस मामले में पीछे नहीं। इस बार हिन्दुओं ने वहां धूमधाम से भव्य होली फेस्टिवल का आयोजन किया, जिसमें बड़ी संख्या में लोगों ने भाग लिया और एक-दूसरे को शुभकामनाएं दीं।

सच तो यह है कि दोनों देशों के बीच जो दूरी आज दिखती है, वो चंद स्वार्थी तत्वों के कारण। नहीं तो इंसानियत के रंग, खुशियों के रंग, मुहब्बत और उम्मीदों के रंग भारत हो या पाकिस्तान या फिर दुनिया का कोई और मुल्क, हर जगह एक है। रही बात होली की, तो ये त्योहार ही रंगों का है, इस दिन कोई ‘बेरंग’ या ‘बदरंग’ रहे भी तो कैसे..?

मधेपुरा अबतक के लिए डॉ. ए. दीप 

सम्बंधित खबरें