अब प्राइमरी विद्यालयों के छात्र स्थानीय भाषा में पढ़ाई करेंगे- शिक्षा मंत्री विजय चौधरी

आंचलिक कथा शिल्पी फणीश्वर नाथ रेणु की शताब्दी जयंती के साथ ही बिहार विधानसभा में शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी ने घोषणा की कि अब प्राइमरी विद्यालयों के छात्रों को स्थानीय भाषा यानि  मैथिली, अंगिका, बज्जिका, मगही, भोजपुरी सहित अन्य भाषाओं में शुरुआती शिक्षा दी जाएगी। श्री चौधरी ने कहा कि यह व्यवस्था जल्द ही शुरू हो जाएगी जिसकी तैयारी कर ली गई है।

शिक्षा मंत्री श्री चौधरी ने कहा कि यह वर्ष विश्व विख्यात आंचलिक कथाकार फणीश्वर नाथ रेणु की जन्मशती वर्ष है। फलस्वरूप शिक्षा विभाग ने रेणु जन्मशती एवं बापू के आदर्शो को आधार बनाते हुए स्कूली शिक्षा में यह बड़ी पहल की है।

शिक्षामंत्री ने यह भी कहा कि इन दोनों महापुरुषों का मानना था कि बच्चों को उनकी अपनी भाषा में शुरुआती शिक्षा देने से उन्हें ज्ञान अर्जित करने में काफी सहूलियत होगी। महापुरुषों की ऐसे विचारों से प्रभावित होकर समाजसेवी-साहित्यकार प्रो.(डॉ.)भूपेन्द्र नारायण यादव मधेपुरी दोबारा अपनी भावना को पंख लगाते हुए कहा कि वर्तमान नीतीश सरकार द्वारा विश्वविख्यात आंचलिक कथा शिल्पी फणीश्वर नाथ रेणु के नाम पर पूर्णिया विश्वविद्यालय का नाम करने हेतु उनके जन्म शताब्दी वर्ष पर सकारात्मक विचार का श्रीगणेश हो…।

 

सम्बंधित खबरें