सरकारी अस्पतालों में कोरोना टीका मुफ्त, परंतु निजी केंद्रों पर ₹250 में मिलेगी “कोवैक्सीन” की पहली खुराक

भारत में पुनः कोरोना संक्रमण में बढ़ोतरी होने लगी है। मार्च चढ़ते ही 16 हजार से ज्यादा मामले प्रतिदिन सामने आने लगे हैं और 100 से अधिक लोगों की मौतें भी 24 घंटे में होने लगी है।

कोरोना से जंग जारी रखने के लिए केंद्रीय स्वास्थ्य विभाग ने 1 मार्च से 20 हजार निजी केंद्रों पर अधिकतम ₹250 में कोरोना वैक्सीन की एक डोज की कीमत तय किया है। इसमें ₹150 टीके की कीमत है और ₹100 सर्विस चार्ज के रूप में वसूलने की अनुमति दी गई है।

यह भी सूचित किया गया है कि 1 मार्च से 45 से 59 साल के ऐसे लोगों के लिए टीकाकरण शुरू किया जाएगा जो किसी गंभीर बीमारी से ग्रस्त हैं। वैसे लोगों को अपनी बीमारी से जुड़ा सर्टिफिकेट साथ में रखना होगा। साथ ही 60 साल या इससे अधिक उम्र के बुजुर्गों के लिए भी टीकाकरण शुरू किया जाएगा।

चलते-चलते यह भी जानिए कि अब तक देश में डेढ़ करोड़ के करीब टीकाकरण हो चुका है। दूसरे चरण के पहले दिन 1 मार्च को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अपने जन्मदिन पर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार सहित गृह मंत्री ने टीका लेकर जो सिलसिला शुरू किया उसे आगे मंगलवार को भी रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ.हर्षवर्धन आदि जारी रखते रहे। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने तो अपनी पत्नी के साथ एक प्राइवेट अस्पताल में स्वदेशी कोविड टीके “कोवैक्सीन” की पहली खुराक लिया और 250-250 रूपये भुगतान किए।

 

सम्बंधित खबरें