कॉमनवेल्थ गेम्स 2018: बेटियों को सलाम

भारतीय महिला खिलाड़ियों ने कॉमनवेल्थ गेम्स में भारत की झोली में गोल्ड मेडल्स की बरसात कर दी है। इनमें से हालिया गोल्ड मेडल महिला टेबल टेनिस टीम ने जीता है। भारतीय टीम ने सिंगापुर को 3-1 से हराकर पहली बार इस इवेंट में गोल्ड मेडल हासिल किया है। लड़कियों के शानदार प्रदर्शन के कारण आज हर भारतीय इन लड़कियों पर गर्व कर रहा है। देशभर से उनको शुभकामनाएं मिल रही हैं।

कॉमनवेल्थ गेम्स 2018 में भारत के सुनहले सफर की शुरुआत वेटलिफ्टर मीराबाई चानू ने की। वेटलिफ्टर संजीता चानू ने इस सिलसिले को आगे बढ़ाया। वेटलिफ्टिंग में स्वर्ण का सफर यहीं नहीं रुका। सफलता की इस कहानी में अगला नाम जुड़ा वाराणसी शहर से करीब 7 किलोमीटर दूर बसे दादूपुर गांव में रहने वाली पूनम यादव का। कभी अभ्यास के बाद भूखे पेट सोने वाली पूनम यादव ने 69 किलोग्राम भार वर्ग में गोल्ड मेडल जीता। उधर निशानेबाजी में हरियाणा के झज्जर की बेटी मनु भाकर ने स्वर्णिम सफलता दिलाई तो महिला टेबल टेनिस के गोल्ड पर भी हमारी बेटियों ने कब्जा जमाया।

क्या आम और क्या खास, भारत की इन बेटियों ने सभी का सीना चौड़ा किया है और यही वजह है कि सभी इनको दिल खेलकर बधाइयां दे रहे हैं। सदी के महानायक बच्चन ‘यूनाइटेड नेशन्स गर्ल चाइल्ड’ के ब्रैंड ऐंबेसडर अमिताभ बच्चन ने भी ट्विटर पर इन विजयी लड़कियों की तस्वीर शेयर की है और बधाई दी है। उन्होंने लिखा है, ‘खेल की महानता और महिला ऐथलीट्स का गौरव कमाल कर रहा है। वेट लिफ्टिंग, शूटिंग, टेबल टेनिस, स्क्वैश… अद्भुत। आप हम भारतीयों का गौरव हैं।’

भारत की इन बेटियों को ‘मधेपुरा अबतक’ का सलाम..! आइये, हम सभी इन बेटियों को बधाई दें और प्रण करें कि अपनी बेटियों की नैसर्गिक प्रतिभा को निखारने में कोई कसर नहीं रखेंगे। याद रखें, हमारी आज की मेहनत ही कल सोना बनकर दमकेगी।

सम्बंधित खबरें