जिले के जांबाज़ कैप्टन आशुतोष को मरणोपरांत मिला शौर्य चक्र सम्मान

स्मरणीय है 9 नवंबर 2020 का वह दिन जब मधेपुरा जिले वाले घैलाढ प्रखंड के जागीर गांव का जांबाज बेटा कैप्टन आशुतोष जम्मू-कश्मीर में एलओसी के पास आतंकवादियों के छक्के छुड़ाते हुए शहीद हो गए। भारत माता की रक्षा में शहीद उस जांबाज बेटा आशुतोष को मरणोपरांत शौर्य चक्र से सम्मानित किया गया। राष्ट्रपति भवन में महामहिम राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने यह सम्मान शहीद आशुतोष के पिता रविंद्र भारती व माता गीता देवी को एक  दिन कबल सौंपा।

बता दें कि कैप्टन आशुतोष सहित कुल छह को मिला शौर्य चक्र सम्मान। आशुतोष के अलावा मेजर अरुण कुमार पांडे, मेजर रवि कुमार चौधरी, कैप्टन विकास खत्री, राइफलमैन मुकेश कुमार और सिपाही नीरज अहलावत को यह प्रतिष्ठित शौर्य चक्र दिया गया।

जानिए कि मधेपुरा के शहीद पार्क में लगी शहीद पट्टिका में भी शहीद कैप्टन आशुतोष का नाम स्वर्ण अक्षरों में अंकित कराया है मधेपुरा के समाजसेवी डॉ.भूपेन्द्र नारायण मधेपुरी ने। डॉ.मधेपुरी शहीद दिवस पर उन वीरों को नमन करते हैं और बच्चों के बीच उनकी बहादुरी की गाथा सुनाते हैं।

 

सम्बंधित खबरें