कोरोना के चलते सूबे की सारी दुकानें शाम 7:00 बजे तक हो जाएंगी बंद

बिहार की नीतीश सरकार ने कोरोना की दूसरी लहर से लड़ाई जीतने के लिए उच्च स्तरीय बैठक की। इसके बाद मुख्यमंत्री के निर्देश पर आपदा समूह की हुई बैठक में ये फैसले लिए गए- (1.) 30 अप्रैल तक राज्य की सारी दुकानें शाम 7:00 बजे तक ही खुली रहेंगी। (2.) सरकारी व निजी दफ्तरों में 33% कर्मी ही रोज आएंगे। (3.) मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारा और गिरजाघर बंद रहेंगे। (4.) पब्लिक ट्रांसपोर्ट व सिनेमा हॉल 50% क्षमता से चलेंगे। (5.) फिलहाल राज्य के सारे स्कूल-कॉलेज व कोचिंग संस्थान 18 अप्रैल तक बंद रहेंगे।

बता दें कि आपदा समूह द्वारा यह भी निर्णय लिया गया कि इस दौरान पूर्व से निर्धारित परीक्षाएं आयोजित की जाएंगी, परंतु इन परीक्षाओं में भी कोरोना बचाव के प्रोटोकॉल का अनुपालन सबों के लिए अनिवार्य होगा।

यह भी जानिए कि बकौल सीएम इस बार अनुमंडल स्तर पर ही बनेंगे क्वॉरेंटाइन सेंटर। उन्होंने कहा कि ट्रेन से बिहार आने वालों की रेलवे स्टेशनों पर ही जांच होगी। एयरपोर्ट पर भी कोरोना जांच की व्यवस्था की गई है।

चलते-चलते यह भी कि समाजसेवी-साहित्यकार डॉ.भूपेन्द्र  मधेपुरी ने कोरोना की दूसरी लहर की दोगुनी तेज रफ्तार पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि पहली लहर में जहां 100 दिन लगे थे 10 लाख  संक्रमितों की संख्या पहुंचने में, वहीं इस बार दूसरी लहर में मात्र 50 से 55 दिनों में ही यह  आंकड़ा पार हो गया है।  महाराष्ट्र समेत कई राज्यों में तो बेड की कमी सामने आने लगी है, जबकि कोरोना वायरस अब तक विश्व के 29 लाख से ज्यादा लोगों की जान ले भी लिया है। इस दूसरी लहर में कोरोना वायरस से ठीक होने वालों की दर में गिरावट आई है जो 97 फ़ीसदी से घटकर 91 फ़ीसदी तक आ गई है। डॉ.मधेपुरी ने विनीत अनुरोध किया है कि इस परिस्थिति में सभी भारतवासी मास्क पहने, सोशल डिस्टेंस मेंटेन करें तथा साबुन से समय-समय पर हाथ धोने में कभी भी लापरवाही ना करें। घर में रहें….. सुरक्षित रहें।

सम्बंधित खबरें