पृष्ठ : बिहार अबतक

कोरोना पीड़ितों के लिए 7 करोड़ जुटाने में लगे हैं विराट और अनुष्का

कोरोना काल में मानवता की रक्षा के लिए सभी देशों ने भारत की मदद करनी शुरू की तो भारतीय खिलाड़ी, फिल्म सितारे और उद्योगपति भी मदद को सामने आने लगे। जब तेंदुलकर ने एक करोड़ की घोषणा की तो लगे हाथ विराट और अनुष्का ने दो करोड़ रुपए दान किए और 7 दिनों में 7 करोड रुपए जुटाने की योजना भी बना डाली है। कैंपेन की शुरुआत करते ही 2.5 करोड़ से अधिक राशि जमा हो गई।

बता दें कि 2 सप्ताह पहले भारत में ऑक्सीजन से लेकर वैक्सीन तक की डिमांड जीरो थी और आज 55 गुना बढ़ गई है। यही कारण है कि ऑस्ट्रेलिया में रह रहे भारतीय अपने परिजनों को ऑक्सीजन कंसंट्रेटर भेजने में लगे हैं। भारत में ऑक्सीजन की जबरदस्त किल्लत के कारण एनआरआई विदेशों से अपने रिश्तेदारों और दोस्तों के लिए ऑक्सीजन कंसंट्रेटर का इंतजाम कर रहे हैं। कईयों के माता-पिता भारत में अकेले हैं और वे चाहकर भी उन तक नहीं पहुंच सकते हैं।

जानिए कि कोरोना की दूसरी लहर से निपटने के लिए भारत सरकार ने फिलहाल मेडिकल इक्विपमेंट पर कस्टम ड्यूटी हटा दी है, लेकिन एक घर के लिए सिर्फ दो ऑक्सीजन कंसंट्रेटर को आयात करने की इजाजत दी है।

चलते-चलते यह भी कि भारत की राजनीतिक विपक्षी पार्टियों ने कोरोना की तीसरी लहर को रोकने हेतु जल्द से जल्द सर्वदलीय बैठक बुलाने पर जोर दे रही है। साथ ही यह भी कि कोरोना के सभी म्यूटेशन पर जल्द से जल्द सभी उपलब्ध वैक्सीन का टेस्ट अविलंब करने की प्रक्रिया आरंभ की जाए।

सम्बंधित खबरें


कोरोना के कारण माता-पिता को खोने वाले अनाथ बच्चों का चाइल्ड केयर रखेगा ख्याल

बिहार सरकार के कल्याण विभाग के निदेशक-सह-मुख्य कार्यपालक पदाधिकारी ने सभी जिले के जिलाधिकारियों को कोविड महामारी के कारण अनाथ हुए बच्चों की सुरक्षा हेतु आदेश जारी किया है।

नीतीश सरकार के समाज कल्याण विभाग ने कोरोना महामारी की दूसरी लहर से उत्पन्न परिस्थितियों को लेकर बेहतर स्वास्थ सुविधाएं उपलब्ध कराने हेतु गंभीरता दिखाई है। साथ ही कल्याण विभाग को कहा गया है कि वंचित समूहों को जिला स्तर पर पर्याप्त सुविधाएं उपलब्ध कराने हेतु तैयार रहें। कोरोना संक्रमण की स्थिति में यदि कोई बच्चा अनाथ होता है तो प्रभावित बालक और बालिका को अविलंब ‘चाइल्ड केयर होम’ में रखने हेतु जरूरी व्यवस्था की जाए।

बता दें कि सरकारी स्तर पर जहाँ ऐसी परिस्थितियों में ऐसे अनाथ बच्चों के ट्रैफिकिंग में वृद्धि होने की आशंका पर नियमित अनुश्रवण की आवश्यकता जताई गई है वहीं कोरोना संक्रमित माता-पिता की संतान को पका हुआ भोजन उपलब्ध कराने वाली ‘छत्रछाया’ और ऑक्सीजन सिलेंडर उपलब्ध कराने वाले ‘प्रांगण’ जैसी स्वयंसेवी संस्थाएं देश के प्रत्येक राज्य के प्रायः जिलों में क्रियाशील हैं। ऐसा करना इसलिए जरूरी है कि आस-पास के लोग भी ऐसे परिवार से दूरी बना लेते हैं। इस प्रकार की स्वयंसेवी संस्थाओं में जितने भी कोरोना वरियर्स समर्पित होकर मानवता की सेवा में लगे हुए हैं, उनके जज्बे को समाजसेवी डॉ.भूपेन्द्र नारायण मधेपुरी  सैल्यूट करते हैं तथा कोरोना प्रोटोकॉल के नियमों का सख्ती से पालन करने हेतु अनुरोध करते हैं।

 

सम्बंधित खबरें


कोरोना की तीसरी लहर की ओर बढ़ता भारत

भारत में पहली, दूसरी और अब तीसरी लहर… कब तक चलेगा यह कोरोना का कहर ! सुप्रीम कोर्ट ने तीसरी लहर पर चिंता जताई है। न्यायमूर्ति चंद्रचूड़ ने कहा कि जब भारत कोरोना की दूसरी लहर नहीं संभाल पा रहा है तो तीसरी लहर कैसे संभालेगा ?

बता दें कि वैज्ञानिकों ने उद्घोषणा की है कि प्रथम लहर में 10 से 14 दिनों का समय मिलता था और इसमें प्राय: 45 से ऊपर के बुजुर्गों को ज्यादातर अपने गिरफ्त में लेता रहा करोना। दूसरी लहर में कोरोना ने 5 से 7 दिनों में प्रायः युवाओं को अपना शिकार बनाने लगा है।

अब कोरोना की तीसरी लहरा आने ही वाली है। वह लहर नहीं…. सुनामी होगी ! वैज्ञानिकों के अनुसार इस तीसरी लहर में कोरोना द्वारा प्राय: बच्चों को ही शिकार बनाया जाएगा। बकौल वैज्ञानिक इसमें कोरोना द्वारा 2 दिनों में ही बच्चों को गंभीर हालत में पहुंचा दिया जाएगा और डॉक्टरों को इलाज करने का समय तक नहीं मिलेगा। दो से तीन दिनों में मरीज को आईसीयू में पहुंचा देगी यह तीसरी लहर। कुछ-कुछ देश तो तीसरी लहर की तैयारी के तहत बच्चों के लिए वैक्सीन तैयार करने में भी जुट गए हैं।

समाजसेवी डॉ.भूपेन्द्र मधेपुरी ने विनम्र अनुरोध करते हुए देशवासियों से यही कहा कि कोरोना की दूसरी लहर तो जारी है और आगे तीसरी की बारी है। अभी भी देशवासी कोरोना प्रोटोकॉल के नियमों को लेकर बिल्कुल लापरवाह है। सरकार और जिला प्रशासन को जैसा सहयोग मिलना चाहिए वैसा नहीं मिल पा रहा है। जानिए कि कोरोना वायरस अब तेजी से अपना व्यवहार बदलने लगा है। तीसरी लहर में अधिक वेरिएंट होगा और कौन वैरीएंट किसे कब दबोचेगा, उसकी जानकारी किसी को नहीं होगी।

चलते-चलते यह भी बता दे कि भारत के लोग अब तक गलती पर गलती करते जा रहे हैं और इन्हीं गलतियों के कारण हम तीसरी लहर को भी आमंत्रित करने जा रहे हैं। जिस-जिस देश के लोगों ने गलती नहीं की उन्हें कोरोना ने माफ भी कर दिया है।

सम्बंधित खबरें


भारतरत्न डाॅ.कलाम के अभिन्न मित्र रक्षा वैज्ञानिक डॉ.मानस बिहारी वर्मा नहीं रहे

बिहार के रहने वाले पद्मश्री डॉ.मानस बिहारी वर्मा 35 वर्षों तक DRDO में एक वैज्ञानिक के रूप में कार्यरत रहे। वे लंबे समय तक मिसाइल मैन डॉ.एपीजे अब्दुल कलाम के साथ काम किए। वे एयरक्राफ्ट ‘तेजस’ के प्रोजेक्ट डायरेक्टर भी थे । भारतीय वायु सेना में तेजस का योगदान अविस्मरणीय है और रहेगा।

उन्हें दर्जनों पुरस्कार से नवाजा गया। साइंटिस्ट ऑफ द ईयर, टेक्नोलॉजी लीडरशिप अवार्ड…. आदि के संग-संग पद्मश्री सम्मान से भी सम्मानित किया गया। वे रिटायर्ड करने के बाद से बिहार के दरभंगा जिले के घनश्यामपुर प्रखंड के छोटे से पैतृक गांव बाऊर में रह रहे थे। पिताश्री ए.के.एल दास व माताश्री यशोदा के घर 29 जुलाई 1943 को जन्मे ऋषि (बचपन का नाम) सहित तीन भाई व चार बहनें हैं। बिहार को अपनी कर्मभूमि बनाकर बच्चों के प्रायोगिक ज्ञान को विकसित करने हेतु कई संस्थाओं का निर्माण भी उन्होंने किया।

अंतिम दिनों में वे दरभंगा-लहेरिया सराय में अपनी बहन के घर में रहने लगे। वहीं 78 वर्ष की उम्र में उन्होंने 3 मई (सोमवार) की देर रात अंतिम सांस ली। समस्त भारत एवं विदेशों में उनके चाहने वालों के बीच उनके निधन से शोक की लहर दौड़ गई है। चारों तरफ लोग उनकी आत्मा की चिर शांति हेतु ईश्वर से प्रार्थना कर रहे हैं।

यहां तक कि मधेपुरा के समाजसेवी-साहित्यकार एवं डॉ.कलाम के अत्यंत करीबी रहे भौतिकी के प्रोफेसर डॉ.भूपेन्द्र नारायण यादव मधेपुरी ने उस ऋषि तुल्य वैज्ञानिक मानस बिहारी के प्रति शोक व्यक्त करते हुए कहा- “आज 2005 के दिसंबर महीने का अंतिम सप्ताह मेरी नजर के सामने से गुजरने लगा है। महामहिम राष्ट्रपति डॉ.एपीजे अब्दुल कलाम के बिहार आगमन को लेकर उनके साथ दसकों तक एक लैब में कार्यरत वैज्ञानिक डॉ.अरुण कुमार तिवारी का फोन आता है मुझे। डॉ.तिवारी साहब मुझसे कहते हैं…. मधेपुरी साहब आपको दरभंगा नजदीक है या पटना….. महामहिम को 30 दिसंबर को दरभंगा में उद्घाटन कार्यक्रम है, साथ ही उन्हें डॉ.मानस बिहारी वर्मा साहब से भी मिलना है…. चाहें तो आप वहीं आकर महामहिम से मिल लें या फिर पटना में राजभवन, एसके मेमोरियल हॉल, महावीर कैंसर संस्थान या वापस दिल्ली जाते समय रात में हवाई अड्डे पर भी मिल सकते हैं…. मिला तो रात के लगभग 9:00 बजे पटना हवाई अड्डे के विशाल प्रसाल में जहां महामहिम की गरिमामय उपस्थिति का आलोक पूरे परिवेश में फैला हुआ था। वहां मौजूद थे महामहिम के साथ उनके प्रिय शिष्य व सहयोगी डॉ.अरुण तिवारी, वरुण मित्रा और मैं। बस एक शख्स की कमी महसूस हुई मुझे…. और वे थे डॉ.मानस बिहारी वर्मा।

 

सम्बंधित खबरें


मई दिवस को भी कोरोना वायरस ने संक्रमित कर दिया

यूं तो श्रम एवं श्रमिकों का सम्मान करना हमारी संस्कृति का अंग है। जिसे आरंभ में मजदूर दिवस के रूप में मनाया जाता था और बाद में 1 मई को मई दिवस के रूप में मनाया जाने लगा। परंतु, कोरोना ने गांव से लेकर संपूर्ण प्रदेश एवं देश के साथ-साथ संसार के श्रमिकों की रीढ़ तोड़ दी है।

बता दें कि कोरोना काल से पहले पूरे प्रदेश एवं देश में ‘मई दिवस’ भव्यता के साथ मनाया जाता था। बेहतर काम करने वाले श्रमिकों को प्रखंड स्तर से लेकर राज्य एवं राष्ट्रीय स्तर तक सम्मानित भी किया जाता था। विद्यालय एवं महाविद्यालय से लेकर विश्वविद्यालय तक में छुट्टियों के साथ-साथ कार्यक्रमों की धूम मची रहती थी।

इस वर्ष कोरोना की दूसरी लहर के कारण सीएम से लेकर पीएम तक मई दिवस के अवसर पर प्रदेश व देश के सभी श्रमिक भाई बहनों को शुभकामनाएं दी है। श्रमिकों को शहर छोड़कर अपने अपने गांव की ओर लंबी दूरियां तय कर आने-जाने में भीषण कष्ट उठाना पड़ता है।

चलते-चलते अंत में यह भी जानिए कि विकास, औद्योगिक विकास एवं उत्पादकता को बढ़ाने में श्रमिकों की मेहनत, संघर्ष एवं ताकत की बड़ी भूमिका रही है। संवेदनशील समाजसेवी डॉ.भूपेन्द्र मधेपुरी कोरोना काल से पहले अपने आवासीय परिसर वृंदावन में बेहतर काम करने वाले श्रमिक को बुके व शाॅल देकर सम्मानित भी किया करते थे।

 

सम्बंधित खबरें


1 मई से 18 पार वालों को टीका नहीं लगेगा बिहार में

बिहार में 1 मई से नहीं होगा 18 साल से अधिक वालों का टीकाकरण। ऐसा इसलिए कि कई राज्यों ने दिए ऑर्डर तो सिरम ने हाथ खड़े कर दिए और कहा कि एक साथ सबों को आपूर्ति करना संभव नहीं।

बता दें कि बिहार की नीतीश सरकार ने पुणे की सिरम इंस्टीट्यूट आॅफ इंडिया को एक करोड़ वैक्सीन सप्लाई करने का आर्डर दिया है। जबकि सूबे बिहार में 18 से 44 वर्ष की उम्र वालों की संख्या 5 करोड़ 47 लाख है।

जानिए कि राज्य स्वास्थ्य समिति के कार्यपालक निदेशक मनोज कुमार ने यह जानकारी दी है कि वैक्सीन की डोज निर्धारित होने और प्राप्त होने के बाद 18 से 44 आयु वालों के टीकाकरण की नई तिथि का ऐलान किया जाएगा। इस बीच 18 से 44 वर्ष की आयु वाले युवजनों का रजिस्ट्रेशन चलता रहेगा, परंतु उन्हें रजिस्ट्रेशन के वक़्त सेंटर और टीका लगने की संभावित तिथि की सूचना नहीं दी जाएगी…..  फिलहाल 1 मई से नहीं शुरू होगा 18 साल से अधिक उम्र वालों का टीकाकरण…..  बिहार में।

 

सम्बंधित खबरें


कोरोना सरीखे राष्ट्रीय आपदा के समय मूकदर्शक बन नहीं बैठा सुप्रीम कोर्ट

भारत को कोरोना की दूसरी लहर के दरमियान खतरनाक दौर से गुजरते देख सुप्रीम कोर्ट चुप नहीं रह सका। शीर्ष अदालत ने कहा कोरोना महामारी के चलते पैदा हुए राष्ट्रीय संकट की घड़ी में हम मूकदर्शक बन कर नहीं रह सकते। शीर्ष अदालत ने कहा-

“कोरोना महामारी के चलते पैदा हुए राष्ट्रीय संकट की घड़ी में हम मूकदर्शक बन बैठे नहीं रह सकते। राष्ट्रीय मुद्दे पर हमारा दखल देना महत्वपूर्ण है।”

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार से यह भी जानकारी देने की बात कही कि देश की जनता को दिए जाने वाली मेडिकल सुविधाएं, ऑक्सीजन सप्लाई और वैक्सीनेशन प्रोग्राम आदि की विस्तृत जानकारियां सार्वजनिक की जाए। कोविड टीकों की अलग-अलग कीमतों के तर्क के बारे में भी जानकारी मांगी। राज्यों से भी इस महामारी से निपटने हेतु बुनियादी व्यवस्था की रूपरेखा के बारे में अविलंब बताने को कहा। जानिए कि सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को एक याचिका पर सुनवाई करते हुए केंद्र सरकार से पूछा कि इस कोरोना महामारी से निपटने के लिए आपकी राष्ट्रीय योजना क्या है ? सुनवाई की शुरुआत में ही न्यायालय ने कहा कि हमें लोगों की जिंदगी बचाने की जरूरत है। जब भी हमें जरूरत महसूस होगी, हम दखल देंगे।

सुनवाई के दौरान जस्टिस एसआर भट्ट ने यह भी कहा कि सेना एवं रेलवे के डॉक्टर्स जो केंद्र के अंतर्गत आते हैं, को क्वारंटीन, वैक्सीनेशन व अन्य कार्यो में इस्तेमाल में लिया जा सकता है। इस पर कोई राष्ट्रीय योजना होने की जानकारी भी मांगी कोर्ट ने। अगली सुनवाई 30 अप्रैल को होगी।

अंत में सुप्रीम कोर्ट द्वारा केंद्र व राज्यों के लिए वैक्सीन की कीमतें अलग-अलग रखने पर सवाल उठाने एवं कोविड प्रबंधन मामले में मदद करने हेतु वरिष्ठ एडवोकेट जयदीप गुप्ता एवं मीनाक्षी अरोड़ा को न्याय मित्र के रूप में नियुक्त करने पर मधेपुरा के अदालत में कार्यरत एडवोकेट सुधांशु शेखर एवं मधेपुरा के संवेदनशील समाजसेवी डॉ.भपेन्द्र नारायण यादव मधेपुरी ने देश के सुप्रीम अदालत के प्रति कृतज्ञता ज्ञापित की है।

चलते-चलते यह भी घोषणा अदालत ने की कि कोरोना ने देश में चिंताजनक स्थिति पैदा कर दी है। चीफ जस्टिस एनवी रमना की अध्यक्षता वाली पीठ ने कहा कि मौजूदा परिस्थितियों को देखते हुए मार्च- 2021 तक समाप्त हो रहे “पीरियड ऑफ लिमिटेशन” को अगले आदेश तक बढ़ाया जाता है।

सम्बंधित खबरें


देश के सभी जिला अस्पतालों में लगेंगे ऑक्सीजन प्लांट

कोरोना की दूसरी लहर की लड़ाई में जीत दर्ज कराने के लिए जहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दी ‘पीएम केयर्स फंड’ से 551 करोड़ और आॅक्सीजन प्लांट लगाने को मंजूरी, वहीं मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने राज्य में बढ़ते कोरोना संक्रमण को देखते हुए तत्काल सभी 534 ब्लॉक में एक-एक एमबीबीएस डॉक्टरों की नियुक्ति का फैसला किया है।

यह भी जानिए कि जहां प्रधानमंत्री के पीएम केयर्स फंड से प्लांट लगाने की मंजूरी तो दे दी गई, परंतु ऑक्सीजन प्लांट लगाने के लिए जमीन का आवंटन तो राज्य सरकारों को ही करना होता है।

वहीं कोरोना से फाइट करने के लिए सीएम नीतीश कुमार ने तकनीकी सेवा आयोग से आग्रह किया है कि पूर्व से घोषित जिन पदों की परीक्षा पूरी हो चुकी है और सिर्फ काउंसलिंग बाकी है उसे शीघ्र पूरा करें ताकि डॉक्टरों के रिक्त पदों पर नियुक्ति की जा सके। कोरोना को परास्त करने हेतु विभाग द्वारा डॉक्टरों के रिक्त पदों को भरने की दिशा में काम शुरू कर दिया गया है। डॉक्टरों के साथ-साथ 861 एएनएम की बहाली होगी।

अंत में संवेदनशील समाजसेवी डॉ.भूपेन्द्र नारायण यादव मधेपुरी ने बिहार वासियों के साथ-साथ देशवासियों से भी विनम्र अनुरोध किया है कि कोरोना के इस महायुद्ध में कोरोना प्रोटोकॉल का सख्ती से अनुपालन करें यानि मास्क लगाएं, दो गज की दूरी बनाए रखें और साबुन व सैनिटाइजर का निरंतर इस्तेमाल करने के अलावा वैक्सीन लगाने में लापरवाही ना करें।

 

सम्बंधित खबरें


बिहार विधान सभा सचिवालय में आज से कोरोना कंट्रोल रूम काम करने लगा

बिहार विधानसभा के अध्यक्ष विजय कुमार सिन्हा के निर्देशानुसार सचिवालय में एक कोरोना कंट्रोल रूम स्थापित किया गया है। कोरोना कंट्रोल रूम अहर्निश क्रियाशील रहेगा।

बता दें कि सचिवालय स्थित कोरोना कंट्रोल रूम विधानसभा के सदस्यों सहित सभी पूर्व सदस्यों, सचिवालय में कार्यरत एवं सेवानिवृत्त सभी कर्मियों व परिजनों से जुड़े कोरोना से संबंधित प्राप्त काॅल के आधार पर बिहार के सभी जिलों के डीएम एवं वहां के कंट्रोल रूम तथा स्वास्थ्य विभाग से समन्वय स्थापित कर उन्हें सुविधा मुहैया कराने की पहल करेगा।

चलते-चलते यह भी जानिए कि लोकसभा के अध्यक्ष ओम बिरला के परामर्शानुसार यह कंट्रोल रूम खोलने का निर्णय लिया गया है। विधानसभा के डिप्टी डायरेक्टर संजय सिंह ने कहा कि इस कंट्रोल रूम से विधानसभा चिकित्सक एवं पैरामेडिकल स्टाफ को भी जोड़ा जाएगा।

अंत में संवेदनशील समाजसेवी डॉ.भूपेन्द्र नारायण यादव मधेपुरी ने बिहार वासियों के साथ-साथ देशवासियों से भी विनम्र अनुरोध किया है कि कोरोना के इस महायुद्ध में कोरोना प्रोटोकॉल का सख्ती से अनुपालन करें यानि मास्क लगाएं, दो गज की दूरी बनाए रखें और साबुन व सैनिटाइजर का निरंतर इस्तेमाल करने के अलावा वैक्सीन लगाने में लापरवाही ना करें।

सम्बंधित खबरें


कोविड-19 के दरमियान कुछ लोगों की बुद्ध दृष्टि तो कुछ की गिद्ध दृष्टि

विश्व कोरोना से युद्धरत है और दूसरी ओर भारत में कोरोना की दवाइयों की कालाबाजारी और नकली दवाइयों का फ्रॉड आदि टॉप पर है। 3 लाख 52 हजार नए संक्रमितों की संख्या हो गई है। हजारों-हजार लोग कोरोना के कारण मौत को गले लगा रहे हैं। यह देखकर कुछ लोगों के अंदर का बुद्ध तो जाग उठता है वहीं इस अवस्था में भी कुछ गिद्ध दृष्टि गड़ाए कुछ कमाने में लगे रहते हैं। पूरे देश से यह शिकायत क्यों आ रही है कि टेस्ट नहीं हो रही है। टेस्टिंग के बाद भी बंगाल में कोरोना पॉजिटिव की संख्या बढ़ती क्यों जा रही है?

हाईकोर्ट ने चिंता जताते हुए कहा कि लोग जिंदगी के लिए संघर्ष कर रहे हैं और चुनावी राज्यों में कोरोना प्रोटोकॉल की धज्जियां उड़ाई जा रही है। ऐसा लगता है कि भारतीय निर्वाचन आयोग कभी-कभी दूसरे ग्रह पर चले जाते हैं। जहां से उन्हें कोरोना प्रोटोकॉल से संबंधित बहुत कुछ नहीं दिखता है। देश में सांसो पर सियासत क्यों हो रही है ?ऑक्सीजन की लूट आखिर कब तक चलेगी ?? आखिर कब तक हवा पर पुलिस पहरा करती रहेगी ??? नकली इंजेक्शन यानि दवा की जगह पानी देकर 30-30 हजार रुपये में बेचे जा रहे हैं जिसे देखने वाला कोई नहीं। ऑक्सीजन सिलेंडर भी आधी भरी फिर भी कीमत दोगुनी पर बेची जा रही है।

कोरोना की खतरनाक दौर तो अब रिश्तो को भी शर्मसार करने लगा है। लोग अपनों की मौत के बाद शव लेने से इनकार भी करने लगे हैं। यहां तक की बेटे भी मां का शव छोड़कर भागने लगे हैं। कोई-कोई तो शवों को दूसरे जिले की नदियों में फेंक कर अपनी जिम्मेदारी से भागते नजर आने लगे हैं।

अंत में संवेदनशील समाजसेवी डॉ.भूपेन्द्र नारायण यादव मधेपुरी ने बिहार वासियों के साथ-साथ देशवासियों से भी विनम्र अनुरोध किया है कि कोरोना के इस महायुद्ध में कोरोना प्रोटोकॉल का सख्ती से अनुपालन करें यानि मास्क लगाएं, दो गज की दूरी बनाए रखें और साबुन व सैनिटाइजर का निरंतर इस्तेमाल करने के अलावा वैक्सीन लगाने में लापरवाही ना करें।

 

सम्बंधित खबरें