मधेपुरा वासियों ने डॉ.मनीष मंडल के आईजीआईएमएस के उपनिदेशक बनने पर जमकर बधाइयां दी

चिकित्सा के क्षेत्र में इतिहास रचने वाले, ग्रीन कॉरिडोर सिस्टम तैयार कर कोलकाता में दिल तथा दिल्ली में लिवर प्रत्यारोपण में सफलता प्राप्त करने वाले आईजीआईएमएस के तत्कालीन अधीक्षक डॉ.मनीष मंडल न केवल मधेपुरा को बल्कि राष्ट्रीय स्तर पर बिहार को भी गौरवान्वित किया है।

आज की तारीख में डॉ.मनीष को आईजीआईएमएस का उपनिदेशक बनाए जाने पर मधेपुरा के प्रसिद्ध समाजसेवी-साहित्यकार डॉ.भूपेन्द्र नारायण यादव मधेपुरी सहित मुरहो-मधेपुरा के बुद्धिजीवियों, शिक्षाविदों एवं व्यापारियों ने मधेपुरा के सच्चे सपूत न्यायमूर्ति आर पी मंडल के पौत्र एवं सुप्रसिद्ध शिशु रोग विशेषज्ञ चिकित्सक डॉ.अरुण कुमार मंडल के सुपुत्र को कोटि-कोटि साधुवाद प्रेषित किया है। डॉ.मंडल को बधाई देने वालों का तांता लगा हुआ है जिनमें प्रमुख हैं- कौशिकी क्षेत्र हिन्दी साहित्य सम्मेलन के अध्यक्ष व पूर्व प्रति कुलपति डॉ.केके मंडल, जूलॉजी के एचओडी फर्जी कवि प्रोफेसर (डॉ.)अरुण कुमार, राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय उद्घोषक पृथ्वीराज यदुवंशी, टीपीएस के निदेशक श्यामल कुमार सुमित्र, प्रोफेसर चंद्रशेखर एवं प्रोफेसर रीता कुमारी आदि।

 

सम्बंधित खबरें


विराट का विराटतम स्वरूप

क्रिकेट प्रेमी भारतीयों को ऐसा लगने लगा है कि इस बार विश्वकप में भारतीय क्रिकेट टीम साउथ अफ्रीका की जमीन से ट्रॉफी लेकर ही भारत लौटे का। भला क्यों नहीं, आरंभ से ही विराट कोहली का यह विराटतम स्वरूप दुनिया को नजर आने लगी है।

जानिए कि विराट कोहली टी20 विश्व कप में सर्वाधिक रन बनाने वाले बल्लेबाज बन गए हैं। विराट ने एक दिन पहले बांग्लादेश के खिलाफ मैच में यह उपलब्धि हासिल की। विराट ने श्रीलंका के पूर्व कप्तान महेला जयवर्धने का रिकॉर्ड तोड़ा। विराट कोहली के कुल रन 1065 जबकि जयवर्धने के 1016 रन है।

अंतिम ओवर के रोमांच के बाद भारत ने 5 रनों से बांग्लादेश से मैच जीतकर भारतीयों को विश्वास से भर दिया कि कदाचित भारत इस बार विश्व कप विजेता बनकर लौटेगा।

सम्बंधित खबरें


सनरूफ वाली कार इन दिनों आने लगी है सबको पसंद

आजकल अपनी-अपनी कार में सनरूफ लगवाने का ट्रेंड सर्वाधिक देखने को आ रहा है। कार कंपनियां भी कई कारों में सनरूफ देकर उपभोक्ताओं को लुभाने में लगी है। फिलहाल उपभोक्तागण सनरूफ कार के फायदे और नुकसान पर विचार करने में लगे हैं।

बता दें कि कोई भी व्यक्ति अपनी कार में सनरूफ होने को अपनी आन-बान में चार चांद लगना मानते हैं। यही कारण है कि इन दिनों लगभग हर नई कार में पैनोरमिक सनरूफ का फीचर मिल रहा है। जबकि पूर्व में मर्सिडीज़ व बीएमडब्ल्यू जैसी कारों में ही देखने को मिलता था। वर्ष 2019 में इस फीचर की कारों के प्रति लोगों का रुझान साफ तौर पर देखने को मिलने लगा था। उसी समय 25% लोगों ने सनरूफ कार लेने की बात कही थी। कारों की सनरूफ पर बिल्ट-इन सनरूफ, स्पॉयलर सनरूफ, सोलर सनरूफ, पॉपअप सनरूफ आदि भी इस्तेमाल होने लगी है। आप अपने सपनों को पूरा करने के लिए कौन सी गाड़ी लेंगे और कितना फायदा या नुकसान होगा यह तो आपकी समझदारी होगी।

 

सम्बंधित खबरें


संपूर्णता में प्रकृति की उपासना है यह छठ महापर्व- डॉ.मधेपुरी

प्रकृति से जुड़ने की सीख देने वाले लोक आस्था का महापर्व छठ। इस महापर्व में दूरदराज से लोग अपने-अपने घर पहुंचते हैं। इस पर्व मेंं रात और सुबह के समय तापमान में हल्की गिरावट के कारण ठंड महसूस होने लगती है।

छठ पर्व के दौरान छोटे-बड़े सभी शहरों में बड़े वाहनों की आवाजाही पर रोक लग जाती है। कई जगहों पर लोकगीत बनाए जाते हैं। प्रत्येक घाट पर सफाई सुरक्षा के साथ-साथ रोशनी की व्यवस्था रहती है। कहीं-कहीं तो पाटाखों पर रोक लगा दी जाती है ताकि पर्यावरण प्रदूषित ना हो।

इस बाबत पूछे जाने पर समाजसेवी-साहित्यकार डॉ.भूपेन्द्र मधेपुरी ने कहा कि छठ महापर्व में दिखता है भारत का अपूर्व लोक। यह महापर्व सूर्य की विराट प्रकाश में चेतना के प्रति कृतज्ञता का उत्सव है। उत्सव के केंद्र में कठिन तपस्या है। यह पर्व संपूर्णता में प्रकृति की उपासना है, आराधना है। हमारी संस्कृति है कि हम केवल उगते सूर्य को ही नहीं बल्कि डूबते सूरज को भी नमन करते हैं। विदेशों तक फैली है यह देश की संस्कृति। यह संपूर्ण समाजवादी पर्व है। इस महापर्व में आकाश में लगे नारियल के फल से लेकर धरती के नीचे फलने वाले आदि हल्दी, अलुुहा, सुथनी इत्यादि सब की पूजा होती है। यही एक पर्व है जिसमें ना तो कोई पंडित होता है और ना कोई पुरोहित। सभी जातियों एवं धर्म के लोग इस महापर्व की आरंभ से लेकर समापन तक सर्वोच्च स्वच्छता के साथ लगे रहते हैं।

सम्बंधित खबरें