बोले मधेपुरी जननायक कर्पूरी मेडिकल कॉलेज के छात्र बिना डेड बॉडी के क्या सीखेंगे ?

मधेपुरा के शिक्षाविद व समाजसेवी-साहित्यकार प्रो.(डॉ.)भूपेन्द्र नारायण यादव मधेपुरी ने जेएनकेटी मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल में एनाटॉमी विभाग में एक भी डेड बॉडी के नहीं होने पर आश्चर्य व्यक्त करते हुए इसे हास्यास्पद और विश्वास से परे बताया। डाॅ.भूपेन्द्र मधेपुरी ने खेद प्रकट करते हुए यह भी कहा कि नीतीश सरकार ने लगभग 1000 करोड रुपए खर्च कर मधेपुरा के में जन नायक कर्पूरी मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल स्थापित किया है, जिसमें डॉक्टरी पढ़ने वाले छात्र-छात्राओं को बिना डेड बॉडी के एनाटॉमी पढ़ाकर कुशल चिकित्सक बनाना वैसा ही है जैसे बिना नदी या स्विमिंग पूल के पानी में उतरे किसी को तैराकी सिखाना और कुशल तैराक बनाना। अब तक यहां का एनाटॉमी विभाग बिना डेड बॉडी के ही संचालित हो रहा है जबकि दर्जनों लावारिस लाश पोस्टमार्टम के बाद या तो फेंक दिए जाते हैं या जैसे-तैसे दफन कर दिए जाते हैं।

डॉ मधेपुरी ने जिला पदाधिकारी महोदय से या फिर विशेष रूप से पुलिस प्रशासन के मुखिया एसपी साहब से अनुरोध किया है कि कम से कम एक लावारिस लाश भी तो जननायक कर्पूरी मेडिकल कॉलेज को उपलब्ध कराने की कृपा करें ताकि छात्र एनाटॉमी की पढ़ाई कर कुशल चिकित्सक बन सके और देश की सेवा कुशलतापूर्वक कर सके। इस तरह की जानकारी मिलने पर एमसीआई भी नाराजगी व्यक्त करेंगी और नैक से मान्यता पाना भी कठिन होगा।

फॉरेंसिक जैसे अन्य कई मुख्य विभागों में एक भी प्राध्यापक चिकित्सक नहीं हैं। जो हैं भी वे नियमित रूप से उपस्थित नहीं रहते। पीएमसीएच के फॉरेंसिक विभाग में पटना जिले भर का पोस्टमार्टम होता है, परंतु जेएनकेटी में पोस्टमार्टम कब शुरू होगा किसी को पता नहीं। करोड़ों की जांच मशीन मौजूद, परंतु ऑपरेटर ऑपरेट करने वाला नदारद। विद्युत आपूर्ति नियमित, परंतु इंटीरियर, बिजली, पानी की व्यवस्था कमजोर।

स्वास्थ्य विभाग का ध्यान आकृष्ट करने हेतु डॉ.भूपेन्द्र मधेपुरी ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को लिखा पत्र।

सम्बंधित खबरें


श्री श्याम सखा संघ परिवार द्वारा विशाल भजन संध्या का आयोजन किया गया मधेपुरा में

चंद रोज कबल श्याम सखा मधेपुरा के अध्यक्ष आनंद प्राणसुखका की अध्यक्षता में श्याम बाबा का दरबार जीवन सदन में समारोह पूर्वक सजाया और मनाया गया। सवेरे सभी श्रद्धालु नर-नारियों द्वारा भूपेन्द्र चौक, सागर सेवा सदन से निशान यात्रा निकाली गई जो जीवन सदन तक पहुंचकर समाप्त हुई।

बता दें कि इस दरमियान समाजसेवी-साहित्यकार डॉ.भूपेन्द्रनारायण यादव मधेपुरी सहित शहर के समाजसेवी बंटी कुमार, अधिवक्ता आभाष झा, व्यापार संघ के सचिव रविंद्र यादव, संजय सुल्तनिया, विकास सर्राफ आदि भजनों की अमृत वर्षा में नहाते रहे और राधा कृष्ण की मनभावन जोड़ी के बीच आगे बढ़ते रहे। रास्ते में श्रद्धालुओं द्वारा शरबत, लस्सी, ठंडा आदि से निशान यात्रा में शामिल नर-नारियों का स्वागत रोक-रोक कर किया जाता रहा।

फिर देर रात तक जीवन सदन परिसर में कोलकाता की रितिका खन्ना, विकास अग्रहरि म्यूजिकल ग्रुप एवं मनोरम झांकियों द्वारा गायन-वादन के साथ श्रद्धालुओं को खाटू श्याम के रस में डुबोया जाता रहा। भूख लगने पर लोगों को रुचि पूर्ण भोजन की भी व्यवस्था की गई थी।

अनुमंडल पदाधिकारी नीरज कुमार, समाजसेवी मनीष सर्राफ सहित शहर के गणमान्य शुरू से अंत तक खाटू श्याम की संगीत संध्या का रसास्वादन करते रहे।

 

सम्बंधित खबरें


सिविल सेवा दिवस पर सीएम ने योजनाओं के निरीक्षण हेतु डीएम को रात में भ्रमण करने का दिया निदेश

सिविल सेवा दिवस पर 21 अप्रैल को अधिवेशन भवन में आयोजित समारोह को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सभी डीएम को जिला प्रबंधन परामर्श केंद्रों में जा जाकर वहां आम लोगों के लिए होने वाले कामकाज को लेकर बेहतर व्यवस्था सुनिश्चित करने हेतु हाथ उठाकर संकल्प दिलाया।

बता दें कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने स्वास्थ्य, शिक्षा एवं अन्य अलग-अलग क्षेत्रों में उत्कृष्ट कार्यो के लिए आईएएस अधिकारियों को सम्मानित भी किया। सूबे के सीएम ने सभी आलाधिकारियों से कहा कि विधायिका तो नियम बनाती है, परंतु उसको कार्यान्वयन का अधिकार तो अधिकारियों को ही दिया गया है। सीएम ने सर्वे सेटेलमेंट में तेजी लाने का निर्देश दिया तथा योजनाओं के निरीक्षण हेतु डीएम को रात में भ्रमण का भी।

 

सम्बंधित खबरें


कोरोना की चौथी लहर को लेकर मधेपुरा जिला कंट्रोल रूम सक्रिय

कोरोना की चौथी लहर की संभावना को लेकर जिला स्वास्थ्य विभाग निरंतर 50 से लेकर 100 व्यक्तियों का प्रतिदिन कोरोना जाँच कराता है और अखबार के माध्यम से लोगों को जानकारी दी जाती है कि अब तक एक भी कोरोना पॉजिटिव केस नहीं मिला है। जबकि दिल्ली एवं अन्य कई स्थानों पर चौथी लहर अपना पैर पसारने लगा है।

बता दें कि आज सुबह स्थानीय डॉ.एपीजे अब्दुल कलाम पार्क में गांधीयन मिसाइल मैन डॉ.कलाम के अत्यंत करीबी रह चुके समाजसेवी-साहित्यकार प्रो.(डॉ.)भूपेन्द्र नारायण यादव मधेपुरी अपने शिष्य प्रो.(डॉ.)भूपेन्द्र कुमार (प्राचार्य, जेएनकेटी मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल) से टहलने के दौरान “कोरोना की चौथी लहर” पर चर्चा कर रहे थे।

बता दें कि प्राचार्य ने कहा कि आइसोलेशन वार्ड, बंद पड़े ऑक्सीजन जेनरेशन प्लांट तथा ऑक्सीजन कंसंट्रेटर आदि सब को रेडी किया जा रहा है। प्राचार्य ने सावधानी बरतने के बाबत यही कहा कि कोविड-19 के प्रोटोकॉल यानी “दो गज दूरी, मास्क है जरूरी” का अनुपालन बुजुर्गों को अवश्य करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि कोरोना वैक्सीनेशन की रफ्तार बढ़ाने का निर्देश सिविल सर्जन आदि को भी दिया जा रहा है।

सम्बंधित खबरें


जो करेंगे मधेपुरा को गौरवान्वित डॉ.मधेपुरी करेंगे उन्हें सम्मानित

वर्षों से करते आ रहे इस कार्यक्रम के तहत समाजसेवी-साहित्यकार प्रो.(डॉ.)भूपेन्द्र नारायण यादव मधेपुरी ने बिहार दिवस के अवसर पर सूबे बिहार की क्विज प्रतियोगिता के टॉपर राहुल कुमार एवं काजल कुमारी को सदर विधायक व पूर्व आपदा प्रबंधन मंत्री प्रोफेसर चंद्रशेखर के कर कमलों द्वारा क्रांतिवीर शिवनंदन प्रसाद मंडल की 132वीं जयंती के अवसर पर विद्यालय सभागार में समारोह पूर्वक सम्मानित किया। दोनों जगजीवन आश्रम स्कूल के आठवीं के छात्र हैं और विद्यालय प्रधान डॉ.चंदा कुमारी की देखरेख में तैयारी की थी। जहां राहुल कुमार की माता लालती देवी और पिता मधेपुरा सिविल कोर्ट के चपरासी सुभाष कुमार गुप्ता हैं वहीं काजल कुमारी की मां फूलमाला देवी और पिता जयनंदन मेहतर हैं। एक दिन कबल कौशिकी द्वारा सम्मानित करते हुए कुलपति डॉ.आरकेपी रमण ने कहा था कि राहुल और काजल बच्चों के लिए प्रेरणा स्रोत बनेंगे।

गरिमा उर्वीशा व सुनीत साना भी हुए सम्मानित

इस अवसर पर मधेपुरा में ऑक्सीजन गर्ल के रूप में प्रख्यात गरिमा उर्वीशा एवं आपदा ग्रस्त लोगों को रक्तदान कर प्राण रक्षा करने वाले रक्त वीर सुनीत साना को पूर्व मंत्री व विधायक प्रोफ़ेसर चंद्रशेखर एवं डॉ.मधेपुरी ने भरपूर सम्मान देते हुए “इतिहास पुरुष शिवनंदन प्रसाद मंडल” पुस्तक भी भेंट की।

एसएनपीएम स्कूल में पहली बार समारोह पूर्वक क्रांतिवीर शिवनंदन प्रसाद मंडल की 132वीं जयंती प्राचार्य डॉ.संतोष कुमार की अध्यक्षता में मनाई गई। इस अवसर पर उद्घाटनकर्ता सदर विधायक व पूर्व मंत्री प्रोफेसर चंद्रशेखर, मुख्य अतिथि डॉ.मधेपुरी एवं स्वागताध्यक्ष मोहम्मद शकील अहमद थे।

18अप्रैल को घंटों चले इस कार्यक्रम में उद्घाटनकर्ता, मुख्य अतिथि सहित पूर्व उपाध्यक्ष नगर परिषद रामकृष्ण यादव, विनीता भारती, डॉ.आलोक कुमार, प्राचार्य डॉ.सुरेश भूषण सहित स्कूल के शिक्षकों ने शिवनंदन बाबू के प्रति अपने उद्गार व्यक्त किए। इस अवसर पर स्कूल में बेहतर करने वाले सभी छात्र-छात्राओं को सबों के द्वारा सम्मानित किया गया।

सम्बंधित खबरें


साहित्यकार डॉ.रवि एवं डॉ.शलभ कौशिकी के धरोहर बने रहेंगे- डॉ.मधेपुरी 

कौशिकी क्षेत्र हिन्दी साहित्य सम्मेलन संस्थान के अंबिका सभागार में कोरोना के कारण लंबे अरसे बाद रविवार को तीन सत्रों में कार्यक्रमों का आयोजन कौशिकी के अध्यक्ष डॉ.केके मंडल की अध्यक्षता में आयोजित की गई।

इस अवसर पर बीएन मंडल विश्वविद्यालय के कुलपति सह कौशिकी के संरक्षक प्रो.(डॉ.)आरकेेपी रमण ने कहा कि कोरोना ने कौशिकी के दो विभूतियों डॉ.रवि एवं डॉ.शलभ को हमसे छीन लिया। इनके स्मरण, संस्मरण एवं साहित्यिक अवदानों की चर्चा अवश्य होनी चाहिए। उन्होंने बिहार दिवस पर आयोजित क्विज प्रतियोगिता में सूबे के टॉपर हुए मधेपुरा के जगजीवन आश्रम स्कूल की काजल कुमारी एवं राहुल कुमार को प्रोत्साहित करने के लिए कौशिकी के सचिव डॉ.भूपेन्द्र मधेपुरी द्वारा सम्मान समारोह आयोजित किए जाने की सराहना करते हुए कहा कि सभी बच्चों के लिए काजल और राहुल प्रेरणास्रोत बने रहेंगे।

मुख्य अतिथि प्रो.शचीन्द्र ने कौशिकी के संस्थापक पंडित युगल शास्त्री प्रेम एवं साहित्यानुरागी अध्यक्ष शिवनेश्वरी प्रसाद की स्मृति को काव्य गोष्ठी के जरिए बनाए रखने को सराहते हुए कहा कि साहित्कार डॉ.रवि व डॉ.शलभ दोनों कौशिकी के धरोहर बने रहेंगे।

कौशिकी के अध्यक्ष पूर्व प्रतिकुलपति डॉ.केके मंडल ने विस्तार से दोनों साहित्यकारों के साहित्यिक अवदानों की भरपूर चर्चा करते हुए सचिव डॉ.मधेपुरी के इस आयोजन की सराहना की। उन्होंने यह भी कहा कि कौशिकी के साहित्यकारों की आवाज बने रहेंगे डॉ.रवि और डॉ.शलभ।

इस अवसर पर कौशिकी के सदस्य सह बीएनएमयू के पीजी जंतु विज्ञान के विभागाध्यक्ष प्रो.(डॉ.)अरुण कुमार, प्रखर साहित्यकार व विभिन्न साहित्यिक मंचोंं पर समादृृत सियाराम यादव मयंक सहित अधिवक्ता साहित्य सेवी संतोष कुमार सिन्हा, डॉ.आलोक कुमार, डॉ.भूपेन्द्र भूप, रेखा यादव, रंगकर्मी विकास कुमार, डॉ.अजय कुमार, राहुल के पिता एवं काजल के चाचा, फर्जी कवि डॉ अरुण कुमार आदि ने विचार व्यक्त किया एवं कवि गोष्ठी में भी भाग लिया।

अंत में धन्यवाद ज्ञापित करते हुए सम्मेलन के सचिव डॉ.भूपेन्द्र नारायण यादव मधेपुरी ने उप सचिव श्यामल कुमार सुमित्र आदि के सहयोग की सराहना करते हुए कहा कि भारतरत्न डॉ.कलाम की तरह मधेपुरा की बेटी काजल और इस माटी का बेटा राहुल सदैव मधेपुरा को गौरवान्वित करते रहे और आगे बढ़ते रहे। राहुल और काजल के स्कूल की प्रधान डॉ.चंदा कुमारी को भी सम्मानित किया गया है। मौके पर एडवोकेट सदस्य गणेश कुमार उर्फ हेलो जी, डॉ.अर्जुन कुमार, रिटायर्ड टीचर बाल कृष्ण यादव तथा डीपीएस के निदेशक सह कौशिकी के उप सचिव श्यामल कुमार सुमित्र आदि मौजूद थे।

सम्बंधित खबरें


वंचितों के मसीहा थे डॉ.अंबेडकर- डॉ.मधेपुरी

जिले में धूमधाम से मनाई गई डॉ.अंबेडकर की जयंती। समाहरणालय से लेकर सभी पार्टी कार्यालयों में लोगों ने उनकी तस्वीर पर पुष्पांजलि की और नमन किया। बाबा साहब भीमराव अंबेडकर वंचितों के मसीहा तो थे ही बल्कि अभी भी वे भारत वासियों के लिए ध्रुव तारा की तरह हैं जो समुद्र में भटके हुए नाविक को ध्रुव तारा बनकर दिशा का बोध कराता है और सही दिशा में आगे बढ़ने के लिए संविधान रूपी पतवार थमाता है।

ये बातें गुरुवार को समाहरणालय स्थित डॉ.अंबेडकर की प्रतिमा पर माल्यार्पण करने के बाद समाजसेवी-साहित्यकार डॉ.भूपेन्द्र नारायण यादव मधेपुरी ने पत्रकारों को संबोधित करते हुए कही। मौके पर प्रभारी डीएम सह डीडीसी नितिन कुमार सिंह, एडीएम शिव कुमार शैव, एनडीसी राजीव रंजन, मुख्यालय डीएसपी अमरकांत चौबे व अन्य पदाधिकारी कर्मचारीगण मौजूद थे।

Samajsevi Shikshavid Dr.Bhupendra Narayan Yadav Madhepuri, Adyaksha Manju Devi and others paying homage to Baba Saheb Bhim Rao Ambedkar at JDU office, Madhepura.
Samajsevi Shikshavid Dr.Bhupendra Narayan Yadav Madhepuri, Adyaksha Manju Devi and others paying homage to Baba Saheb Bhimrao Ambedkar at JDU office, Madhepura.

वहीं जिला जदयू कार्यालय में संविधान निर्माता बाबा साहब भीमराव अंबेडकर की तस्वीर पर अध्यक्ष मंजू देवी उर्फ गुड्डी देवी एवं वरिष्ठ जदयू नेता डॉ.भूपेन्द्र नारायण यादव मधेपुरी सहित उपस्थित सभी वरीय कार्यकर्ताओं ने पुष्पांजलि की। डॉ.मधेपुरी ने अंबेडकर के बारे में विस्तार से जानकारियां देते हुए कहा कि डॉ.आंबेडकर “Symbol of Knowledge” के प्रतीक के रूप में संपूर्ण संसार में प्रख्यात हैं और रहेंगे भी।

सम्बंधित खबरें


जन लेखक संघ में मनी ज्योतिबा फुले की जयंती

महात्मा ज्योतिबा फुले की 196वीं जयंती की पूर्व संध्या पर 10 अप्रैल को जन लेखक संघ द्वारा “सामाजिक परिवर्तन में महात्मा फुले का योगदान” विषयक परिसंवाद का उद्घाटन करते हुए बीएन मंडल विश्वविद्यालय के पूर्व कुलानुशासक व कुलसचिव प्रो.(डॉ.)भूपेन्द्र नारायण यादव मधेपुरी ने अपने संबोधन में कहा कि समाज सुधार के लिए समर्पित जीवन धारकों में अग्रणी नाम है- महात्मा ज्योतिबा फुले का। डॉ. मधेपुरी ने कहा कि महात्मा फुले का सामाजिक परिवर्तन को लेकर उनका सुधार आंदोलन व योगदान अतुलनीय है।

Samajsevi-sahityakar Prof.(Dr.) Bhupendra Narayan Yadav Madhepuri addressing at Janlekhak Sangh, Dr.Madhepuri Marg Madhepura on the eve of Jyotiba Phule 126th Jayanti.

डॉ.मधेपुरी मार्ग स्थित जन लेखक संघ के केंद्रीय कार्यालय में बीएनएमयू के जंतु विज्ञान स्नातकोत्तर विभागाध्यक्ष प्रो.(डॉ.)अरुण कुमार ने कहा कि महात्मा फुले समाज सुधारक के साथ-साथ वंचितों के बीच शिक्षा का अलख जगाने वाले आधुनिक भारत का पहला व्यक्ति था।

मुख्य अतिथि के रुप में बीएनएमयू के पूर्व कुलसचिव प्रोफेसर सचिंद्र ने कहा कि महात्मा फुले समाज में समता और बंधुत्व कायम करने वाला तथा अंधविश्वास मिटाने वाला पहला व्यक्ति था। राष्ट्रीय महासचिव डॉ.महेंद्र नारायण पंकज ने कहा कि ज्योतिबा विपरीत परिस्थितियों में भी समाज में सामाजिक न्याय को स्थापित कर सामाजिक परिवर्तन का आंदोलन चला रहे थे। वे आज भी प्रासंगिक हैं

मौके पर डॉ.विनय कुमार, डॉ अभय कुमार, डॉ.ओम प्रकाश ओम, शंभू शरण भारतीय, आद्यानंद यादव, शंभू क्रांति आदि ने भी विचार व्यक्त किए।

दूसरे सत्र में कोसी क्षेत्रीय “कवि सम्मेलन” संपन्न हुआ। जिसमें त्रिवेणीगंज के आलोक राई, विनीता राई, मधेपुरा के डॉ.भूपेन्द्र भूप, राकेश कुमार द्विजराज आदि ने कविता पाठ कर श्रोताओं को प्रेरित किया। अंत में बीएनएमभी कॉलेज के पूर्व प्रोफेसर गजेंद्र कुमार ने अपना अध्यक्षीय भाषण दिया एवं संघ के जिला सचिव डॉ.गजेद्र कुमार ने धन्यवाद ज्ञापन किया।

 

सम्बंधित खबरें


बिहार विधान परिषद के भरे-पूरे 75 सीटों वाले सदन में सदस्य हैं माननीय मुख्यमंत्री इंजीनियर नीतीश कुमार भी

न्याय के साथ विकास करने वाले इंजीनियर नीतीश कुमार 2006 से लगातार बिहार विधान परिषद के माननीय सदस्य हैं। आज की तारीख में इस सदन के सभापति अवधेश नारायण सिंह भी इंजीनियर है।

बता दें कि उम्र के हिसाब से सबसे बुजुर्ग सदस्य भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के केदार पांडे, जदयू के प्रो.रामबचन राय और राजद के डॉ.रामचंद्र पूर्वे हैं, वहीं नवादा स्थानीय प्राधिकार से जीत कर आए अशोक यादव सदन में सबसे कम उम्र के सदस्य हैं।

यह भी जानिए कि फुल स्ट्रैंथ में इस बार आए बिहार विधान परिषद के 75 सीटों के माननीय सदस्यों में सबसे अधिक 22 सदस्य पीएचडी हैं। मुख्यमंत्री सहित 6 सदस्य इंजीनियर हैं। एक सदस्य एमबीबीएस तो 5 की योग्यता मेट्रिक से कम है। 15 सदस्य मास्टर डिग्री धारी (पीजी) हैं।

अंत में यह भी जान लें कि पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी सहित कुल 7 महिला इस बार सदन की सदस्य हैं जिनमें सीतामढ़ी से रेखा देवी, नालंदा से जदयू की रीना देवी तथा मधुबनी से निर्दलीय अंबिका गुलाब यादव इस बार जीत कर आई हैं। अगले सप्ताह नव निर्वाचित 24 सदस्यों को सदन की सदस्यता ग्रहण कराई जाएगी।

सम्बंधित खबरें


बिहार विधान परिषद में जदयू बना रहेगा सबसे बड़ा दल और राबड़ी अब बन जाएगी नेता प्रतिपक्ष

बिहार विधान परिषद की स्थानीय प्राधिकार कोटे की 24 सीटों में भाजपा को 7, राजद को 6, जदयू को 5 तथा कांग्रेस व लोजपा (पारस) को एक-एक सीट मिली और शेष निर्दलीय जीते।

बता दें कि जदयू के 23 सदस्य हैं अब बढ़कर 28, भाजपा के 15 सदस्य हैं जो बढ़कर 22, राजद के 5 सदस्य हैं जो बढ़कर 11….. हो जाएंगे।

यह भी जानिए कि जदयू प्रत्याशी दिनेश सिंह मुजफ्फरपुर से चौथी बार जीत दर्ज किए और पूर्णिया से लगातार तीसरी बार भाजपा प्रत्याशी डॉ.दिलीप कुमार जायसवाल ने रिकार्ड मतों से जीत दर्ज कर ली है। जहां कटिहार से भाजपा प्रत्याशी अशोक कुमार अग्रवाल ने तीसरी बार परचम लहराया वहीं नालंदा से जदयू प्रत्याशी रीना यादव एवं आरा से जदयू प्रत्याशी राधाचरण साह तथा रोहतास-कैमूर से भाजपा के संतोष कुमार सिंह ने दूसरी बार बाजी मारी।

चलते-चलते यह भी कि वैसे प्रत्याशीगण जिन्होंने अपनी सेवा के चलते दोबारा, तिबारा या फिर चौथी बार तक जीत दर्ज की है उन्हें समाजसेवी-साहित्यकार व जदयू के वरिष्ठ नेता प्रो.(डॉ.)भूपेन्द्र नारायण यादव मधेपुरी हृदय से साधुवाद देते हैं। विशेष रूप से डॉ.दिलीप कुमार जायसवाल को जिन्होंने कोरोना काल में लोगों की जान बचाने में अपना सब कुछ लगा दिया। उस दरमियान एमएलसी डॉ.जयसवाल नहाना, खाना, सोना भी कम कर दिए थे।

 

सम्बंधित खबरें