इस बार नीतीश कुमार मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे सातवीं बार

बिहार राज्य के मुख्यमंत्री पद पर इस बार सातवीं बार शपथ लेंगे नीतीश कुमार। वे बिहार के  37वें  मुख्यमंत्री बनकर इतिहास रचने जा रहे हैं। कोरोना के दरमियान हुए विधानसभा चुनाव में एनडीए द्वारा 243 में से 125 सीटों पर जीत दर्ज की गई और विपक्ष 110 सीट जीते। आगे मतगणना के समय इस कदर शुरू हुआ रुझान कि पहले छाई मायूसी…. फिर लौटी मुस्कान।

यह भी बता दें कि पहली बार नीतीश कुमार 2005 में मुख्यमंत्री बने और 2014 तक मुख्यमंत्री बने रहे उन्होंने 2005 से पूर्व भारत सरकार में कभी भूतल परिवहन मंत्री, कभी कृषि मंत्री तो कभी रेल मंत्री बनकर देश की सेवा की।

जानिए कि नीतीश कुमार ने भारतीय आम चुनाव, 2014 में अपनी पार्टी के खराब प्रदर्शन की जिम्मेदारी लेते हुए मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देकर दलित वर्ग के जीतन राम मांझी को सीएम बनाने की पेशकश की। श्री माँझी लगभग 8 महीने मुख्यमंत्री रहे भी। आगे राजनीतिक संकट गहराने के चलते फरवरी 2015 में पुनः नीतीश कुमार ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली और नवंबर 2015 में बिहार विधानसभा चुनाव जीतकर पुनः मुख्यमंत्री बने।

वर्तमान में  2020 के विधान सभा चुनाव में भी एनडीए ने नीतीश कुमार को ही मुख्यमंत्री का चेहरा बनाया। एनडीए जीत का परचम तो लहराया सही लेकिन बहुमत के आंकड़े (122) से 3 सीट ही अधिक ला पाया।

यह  भी  जानिए कि एनडीए के एक सहयोगी की महत्वाकांक्षा के चलते नीतीश के जदयू में विधायकों की संख्या में अच्छी-खासी कमी आने के कारण वे द्वंद में फंसे थे। बावजूद इसके सुशील कुमार मोदी, नित्यानंद राय, भूपेन्द्र यादव, संजय जायसवाल आदि वरिष्ठ एनडीए नेतागण द्वारा मुख्यमंत्री नीतीश के आवास पर जाकर उनके अंदर चल रहे द्वंद को दूर किया गया और गृह मंत्री एवं प्रधानमंत्री द्वारा चलभाष पर शुभकामनाओं के साथ-साथ आगे भी मुख्यमंत्री बने रहने की सहमति जताई गई। भला क्यों नहीं, बीजेपी नीतीश कुमार को ही पुनः मुख्यमंत्री पद देने के अपने फैसले पर पूरी तरह कायम है। महामहिम राज्यपाल फागू चौहान के निर्देशानुसार विधिवत तैयारियां की जा रही हैं। दीपावली और छठ के बीच बिहार के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे नीतीश कुमार… सातवीं बार ।।

चलते-चलते, बकौल जदयू के नेता एवं  समाजसेवी शिक्षक प्रो.(डॉ.)भूपेन्द्र नारायण यादव मधेपुरी….  इस बार उन्होंने गुरुवत् शुभाशीष देते हुए अपने छात्र आलमनगर के विधायक व मंत्री नरेन्द्र नारायण यादव को सातवीं बार विधायक बनने एवं मधेपुरा में एमएलसी ललन सर्राफ के घर ठहरे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से मिलने के क्रम में सातवीं बार मुख्यमंत्री बनने की शुभकामना व्यक्त की थी। एक शिक्षक के शुभाशीष एवं उनकी शुभकामना को ईश्वर ने सुन ली….. इससे बड़ी और क्या बात होगी !

सम्बंधित खबरें