मुजफ्फरपुर में मोदी की हुंकार: विपक्ष चार चरण में ही चित्त

मंगलवार को मुजफ्फरपुर के पताही हवाई अड्डा मैदान में एनडीए की विजय संकल्प रैली का भव्य आयोजन हुआ जिसमें प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, केन्द्रीय मंत्री रामविलास पासवान, उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी समेत एनडीए के कई बड़े नेता शामिल हुए। तेज धूप में भी भारी संख्या में लोगों की मौजूदगी निश्चित रूप से एनडीए के हौसले को बढ़ाने वाली थी। प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री समेत तमाम नेताओं के संबोधन में इसकी स्पष्ट झलक दिखी भी।
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अपने संबोधन में कहा कि चार चरणों के चुनाव के बाद विपक्षी दल चारों खाने चित्त हो चुके हैं। अब अगले चरणों में यह तय होना है कि विपक्ष की हार कितनी बड़ी होगी और एनडीए की जीत कितनी भव्य। प्रधानमंत्री ने कांग्रेस और राजद नेताओं पर निशाना साधते हुए कहा कि कुछ लोग जेल में हैं तो कुछ जेल के दरवाजे पर। जो बेल पर हैं और जो बेल के लिए कोर्ट-कचहरी का चक्कर लगा रहे हैं, वे एक मिनट भी केन्द्र में मजबूत सरकार को बर्दाश्त नहीं करेंगे। प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन में देश में हिंसा फैलाने वाली हर ताकत को उखाड़ फेंकने का संकल्प भी दोहराया और भीड़ से पूछा – आतंकवाद को कौन खत्म कर सकता है? जवाब आया – मोदी। प्रधानमंत्री ने कहा कि चाहे देश के भीतर हो या सीमा के उस पार, आतंकवाद की फैक्ट्री जहां भी होगी, हम घर में घुसकर मारेंगे। किसी हाल में छोड़ेंगे नहीं।
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अपने संबोधन में प्रधानमंत्री की तारीफ करते हुए कहा कि नरेन्द्र मोदी की सरकार ने देश का मान बढ़ाया है। आतंकवाद के बाद त्वरित कार्रवाई कर उन्होंने देश में ही नहीं विदेशों में भी भारत के नाम को शीर्ष पर रखा है। राज्य में हुए विकास में केन्द्र के योगदान की चर्चा करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि केन्द्र ने बिहार को सड़क और पुल-पुलिया बनाने के लिए पचास हजार करोड़ रुपए दिए हैं। अगर केन्द्र में फिर से एनडीए सरकार आती है तो बिहार के विकास को और गति मिलगी।
केन्द्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने इस मौके पर कहा कि कांग्रेस आतंकवाद के नाम पर मुसलमानों को डरा रही है। धर्म के नाम पर समाज में भ्रम फैलाया जा रहा है। मगर जनता कांग्रेस की चाल समझ चुकी है। कांग्रेस ने किसी भी धर्म और समाज के लिए कभी कुछ नहीं किया। मोदी सरकार ने पांच साल में देश की दिशा बदल दी है।
उधर उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि यह आरोप हास्यास्पद और गलत है कि लालू यादव को फंसाया गया है। सरकार ने नहीं, न्यायालय ने उन्हें भ्रष्टाचार का दोषी बताया है। एक नहीं कई बार सुप्रीम कोर्ट से भी उनकी बेल अर्जी खारिज हो चुकी है।
इस मौके पर सभी नेताओं ने मुजफ्फरपुर से भाजपा प्रत्याशी अजय निषाद, वैशाली से लोजपा प्रत्याशी वीणा देवी और सीतामढ़ी से जदयू उम्मीदवार सुनील कुमार पिन्टू को जिताने की अपील की।

सम्बंधित खबरें


प्रत्येक विश्वविद्यालय पुस्तकालय विकास हेतु राज्य सरकार द्वारा निर्गत की गई 5 लाख राशि

भूपेन्द्र नारायण मंडल विश्वविद्यालय के केन्द्रीय पुस्तकालय विकास हेतु राज्य सरकार ने 5 लाख की राशि निर्गत कर दी है। साथ ही विश्वविद्यालय क्षेत्र के अंतर्गत सारे अंगीभूत कालेजों के लिए दो-दो लाख रूपये नैक कराने के मद्देनजर पुस्तकालय विकास हेतु निर्गत की गई है।

बता दें कि यह राशि विश्वविद्यालय एवं उसके अधीन सारे महाविद्यालयों को लाइब्रेरी मॉडिफिकेशन के लिए भेजी गई है। यदि विश्वविद्यालय एवं महाविद्यालय द्वारा पुस्तक खरीद प्रक्रिया में नियमों का पालन नहीं किया गया तो संबंधित कुलसचिव एवं कॉलेज के प्रधानाचार्यों पर विधि संगत कार्रवाई की जाएगी।

चलते-चलते यह भी बता दें कि राज्य सरकार एवं राज भवन की ओर से गठित समिति द्वारा सर्वसम्मति से निर्णय लिया गया कि विश्वविद्यालय एवं महाविद्यालयों के प्रधान को इस आशय का पत्र प्रेषित किया जाय कि इस राशि से केवल और केवल पुस्तकें ही क्रय की जाय और शीघ्रातिशीघ्र उपयोगिता प्रमाण-पत्र संबंधित पदाधिकारियों को उपलब्ध करा दिया जाय। क्योंकि महामहिम राज्यपाल लालजी टंडन ने कहा है कि बिहार में उच्च शिक्षा के विकास में वित्तीय सहायता में किसी प्रकार की कोई कमी नहीं होगी, लेकिन जो विश्वविद्यालय या महाविद्यालय अपने दायित्वों को नहीं समझेंगे तथा विकास प्रयासों को आगे बढ़ाने में लापरवाही करेंगे, उनके विरुद्ध कार्यवाही भी होगी।

 

सम्बंधित खबरें


अब मनचलों की खैर नहीं, दाँत खट्टे कर देंगी छात्राएँ

बिहार में विशेष रूप से छात्राओं के स्कूल आने-जाने के दौरान मनचलों द्वारा बढ़ रहे हमले एवं छेड़छाड़ की घटनाओं पर गंभीरतापूर्वक विचार करते हुए प्रदेश मुख्यालय के पटना जिला प्रशासन द्वारा इस साल से उच्च माध्यमिक विद्यालयों की 9वीं एवं 10वीं वर्ग की छात्राओं को सेल्फ डिफेंस की ट्रेनिंग दिलवाना आरंभ कर दिया गया है।

बता दें कि इस साल शुरू किये गए छात्राओं द्वारा इस सेल्फ डिफेंस कार्यक्रम के तहत पटना जिले के 120 माध्यमिक विद्यालयों की 4600 छात्राओं को ट्रेंड किया गया है। प्रशासन के कुछ उत्साहित एवं समर्पित अफसरों द्वारा इस कार्यक्रम को और अधिक विस्तार दिये जा रहे हैं।

यह भी जानिए कि छात्राओं को 46 मास्टर ट्रेनर्स द्वारा इस सेल्फ डिफेंस की ट्रेनिंग में जूडो-कराटे व ताइक्वांडो आदि विधाओं की ट्रेनिंग दी जा रही है जिससे सकारात्मक परिणाम सामने आ रहे हैं। ट्रेनिंग प्राप्त छात्राएं अब अपने स्कूल की दूसरी लड़कियों को सिखायेंगी। आधिकारिक जानकारी के अनुसार नए वित्तीय वर्ष में अलग से बजट स्वीकृत होते ही सेल्फ डिफेंस ट्रेनिंग का दूसरा शेड्यूल जारी कर दिया जाएगा। तब मनचलों की खैर नहीं रहेगी…. दाँत खट्टे कर देगी यह सेल्फ डिफेंस की ट्रेनिंग प्राप्त छात्राएं।

मधेपुरा अबतक द्वारा समाजसेवी-शिक्षाविद डॉ.भूपेन्द्र मधेपुरी से जूडो-कराटे के बाबत विशेष जानकारी हेतु पूछे जाने पर उन्होंने इतिहास को संदर्भित करते हुए कहा कि वर्ष 1932 में जापान ने चीन पर हमला कर कुछ क्षेत्रों पर कब्जा कर लिया था। युद्ध में चीनी सैनिकों के हाथ से हथियार छूट जाने पर हाथ (यानी ‘कर’) से ही अपनी सुरक्षा करने की विधियों की ईज़ाद की गई जिसे ‘कराटे’ नाम दिया गया। तभी से उस ‘कराटे’ शब्द को चायनीज हैंड एवं जापानी भाषा में ‘Empty Hand’ कहा जाने लगा। संक्षेप में उसी निहत्थे युद्ध प्रणाली को कराटे कहा जाता है जिसे ओलंपिक खेल में शामिल किये जाने हेतु डाॅ.मधेपुरी का प्रयास जारी है। यदि इस प्रयास में डाॅ.मधेपुरी को सफलता मिली तो मधेपुरा की कराटे-क्वीन सोनीराज एक-न-एक दिन ओलंपिक मेडल जीतकर मधेपुरा की शान बनेगी एवं परचम लहरायेगी….।

सम्बंधित खबरें


मधेपुरा में पाँच बूथों पर 100% मतदान जानिए कौन-कौन ?

मिथिलांचल और सीमांचल के बीच अवस्थित इस कोसी अंचल के मधेपुरा संसदीय क्षेत्र से चुनाव लड़ रहे कुल 13 प्रत्याशियों में से तीन के बीच कांटे की टक्कर दिखाई दे रही है। ये तीनों हैं- एनडीए प्रत्याशी दिनेश चन्द्र यादव, महागठबंधन प्रत्याशी शरद यादव और जनधिकार पार्टी की ओर से राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव।

जहाँ एक ओर एनडीए की एकजुटता अटूट नजर आती है वहीं गठबंधन के शीर्ष नेतृत्व अब तक एक मंच पर भी साथ-साथ नहीं दिखे…… फिर भी गठबंधन के नेताओं को जातिगत समीकरण का वोट शत-प्रतिशत अपने ही पक्ष में नजर आ रहे हैं। गठबंधन वाले  छोट-भैया नेता भी कहीं ‘माय समीकरण’ तो कहीं ‘मुनिया समीकरण’ (मुस्लिम-निषाद-यादव) पर ताल ठोक रहे हैं।

और हाँ ! जदयू से निकलकर राजद में शामिल होने की मंशा लिए……. अटल मंत्रिमंडल में एनडीए के संयोजक व मंत्री रह चुके शरद यादव मधेपुरा लोकसभा सीट से वर्तमान में राजद-कांग्रेस गठबंधन का प्रत्याशी बनकर भाग्य आजमा रहे हैं। हद तो तब हो गई जब इस बार किसान के अनेक गाँव प्यासे हैं और एनएच-106 एवं एनएच-107 की स्थिति जर्जर है फिर भी यहाँ ‘पानी और सड़क’ चुनावी मुद्दा नहीं बन पाया…… उल्टे जातिगत समीकरण चतुर्दिक हावी होता दिख रहा है। कोई साख बचाने की तो कोई नाक बचाने की लड़ाई लड़नेे मेें मशगूल है।

बता दें कि मधेपुरा की सीट पर इस बार जज्बातों की जंग में त्रिकोणीय संघर्ष का पटाक्षेप 23 अप्रैल को होते-होते पुनः सुलगने लगा है…. जब यह बात खुलकर सामने आ गई कि पाँच बूथों पर 100% मतदान हुआ। और मधेपुरा संसदीय क्षेत्र के सभी छह विधानसभा क्षेत्रों में अवस्थित 1940 मतदान केंद्रों में से 6 बूथों पर लगभग 90%……. 264 बूथों पर तकरीबन 80%…….. 840 मतदान केंद्रों पर लगभग 70%….. और 50 मतदान केंद्रों पर 40% से कम वोट डाले गये तथा …..।

चलते-चलते बता दें कि 100% मतदान वाले बूथों में 4 बूथ हैं आलमनगर विधानसभा के- बूथ संख्या 17 (नवटोल), बूथ संख्या- 144 (फोरसाही), बूथ संख्या- 223 (सुखाड़ घाट) व बूथ संख्या- 235 (गंगापुर) तथा बिहारीगंज विधान सभा के एक बूथ संख्या- 173 (रही वाँया भाग में) सौ फ़ीसदी मतदान रिकॉर्ड किया गया।

सम्बंधित खबरें


इस बार भाजपा को मुस्लिमों का भारी समर्थन मिलेगा: राजनाथ सिंह

भाजपा के वरिष्ठ नेता व केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री राजनाथ सिंह की मानें तो पिछले चुनाव की तुलना में इस बार भाजपा को मुस्लिमों का भारी समर्थन मिलेगा। उन्होंने कहा कि विपक्ष ने डर का माहौल पैदा करने की असफल कोशिश की है, जबकि हम ‘सबका साथ सबका विकास’ के सिद्धांत पर चलते आए हैं।
राजनाथ सिंह ने आगे कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने जिस तरह से राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर देश का नेतृत्व किया है, उससे स्पष्ट है कि भाजपा दो-तिहाई बहुमत से सत्ता में लौटेगी। लोग चाहते हैं कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सरकार का बेहतरीन शासन बना रहे।

भारत के गृहमंत्री ने नक्सलवाद के संदर्भ में कहा कि पहले जहां देश के 126 जिलों में नक्सली सक्रिय थे, वहीं अब वे सिमट कर छह से सात जिलों में रह गए हैं। देश में नक्सली हिंसा में भी कमी आई है। आने वाले दिनों में नक्सलवाद का पूरी तरह से सफाया हो जाएगा। राजनाथ सिंह ने कहा कि गृहमंत्री के तौर पर मैंने बहुत कुछ किया है। साल 1971 के बाद से हम इस समय बेहतर स्थिति में हैं। पूर्वोत्तर में उग्रवाद लगभग खत्म हो गया है।

गौरतलब है कि राजनाथ सिंह समाचार एजेंसी पीटीआई से बात कर रहे थे। इस दौरान उन्होंने यह भी कहा कि उन्होंने जम्म-कश्मीर की समस्या का दीर्घकालिक समाधान तलाशने की कोशिश की, लेकिन इच्छित परिणाम नहीं मिल पाया। अब समय आ गया है कि अनुच्छेद 370 और 35ए की समीक्षा हो। यह समझा जाए कि इन विशेष प्रावधानों से राज्य को क्या फायदा-नुकसान हुआ।

सम्बंधित खबरें


मधेपुरा के 8 लाख लोगों की जिन्दगी खतरे में

आई एम ए यानी इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के रिपोर्ट के अनुसार कोसी के लोग खून की कमी से बुरी तरह जूझ रहे हैं। खान-पान में अनियमितता के कारण एनीमिया पीड़ित लोगों की संख्या में लगातार वृद्धि हो रही है। कुल मिलाकर यहां लगभग 40% से अधिक लोग एनीमिया से ग्रसित हैं।

बता दें कि इस इलाके में 3 लाख महिलाएं रक्तअल्पता की शिकार हैं। साल लगते-लगते 140 लोग मौत के मुंह में धीरे-धीरे समाते चले जा रहे हैं। स्थिति भयावह है। प्रतिदिन बद् से बद्तर होती जा रही है। चिकित्सकों द्वारा मौत होने के कारण को रक्त अल्पता ही बताया जाता है।

यह भी जानिए कि डॉक्टरों के अनुसार यहाँ के लोगों की स्थिति प्राय: चाय-कॉफी एवं अन्य मिलावटी पदार्थों के सेवन से दिन-प्रतिदिन बिगड़ती जा रही है। हाल ही में 2000 लोगों की जाँच किए जाने के बाद 80% लोगों के शरीर में खून की कमी पाई गई। यहाँ तक कि 40% लोगों में 10 ग्राम से भी कम खून पाया गया।

चिकित्सकों के अनुसार रक्त अल्पता के लक्षणों को लोग खुद भी महसूस सकते है। जब कभी किसी भी व्यक्ति को कमजोरी होने लगे, थकावट महसूस होने लगे तथा यादाश्त में तेजी से कमी होने लगे तो उसे शीघ्रातिशीघ्र मान लेना चाहिए कि उसके शरीर में रक्त की कमी होने लगी है। इसके अतिरिक्त समय से पूर्व चमड़ी में झुर्रियों के साथ-साथ मामूली कामों में भी सांसे फूलने लगे, घाव हो जाने पर ठीक होने में अधिक समय लगने लगे और दिल की धड़कने बढ़ने लगे तो शरीर को खून की कमी की बीमारी से ग्रसित मान कर तुरंत डॉक्टर से संपर्क साधना चाहिए। यदि किसी कारण से डॉक्टर से मिलने में विलंब हो तो तत्काल रक्त अल्पता से बचाव हेतु बिल्कुल बंद कर दें- चाय-कॉफी एवं अम्ल विरोधी खाद्य पदार्थों का उपयोग……… और शुरू कर दें हरा मटर, चना, अंडा, मछली, दूध, पालक, अखरोट, हरी सब्जी, दाल, काजू-किशमिश एवं बादाम, खजूर आदि।

सम्बंधित खबरें


इसे कहते हैं मजबूत लोकतंत्र के लिए मतदान के प्रति समर्पण

लोकसभा चुनाव को लेकर तीसरे चरण में कोसी क्षेत्र के मधेपुरा एवं सुपौल के मतदाताओं द्वारा मतदान के प्रति अटूट समर्पण देखने को मिला। मतदाताओं में मतदान के प्रति अजीबोगरीब जोश देखा गया….. कोई चचरी पर तो कोई नाव से नदी पार कर बूथ पर गए…… तो कोई स्ट्रेचर या ट्रैक्टर पर सवार होकर मतदान केंद्र तक पहुंच गए….।

यह भी बता दें कि सुपौल के एक परिवार के सर्वाधिक वृद्धजन के निधन हो जाने के बावजूद शेष सभी जन चल दिए पहले करने मतदान…… और बाद में गए श्मशान। उन लोगों ने तो “पहले मतदान फिर जलपान” जैसे स्लोगन को भी मात दे दिया।

जानिए कि अबतक 22 राज्यों के 302 लोकसभा सीटों पर चुनाव संपन्न हो चुका है। तीसरे फेज में जहां सबसे अधिक मतदान 80.74% के करीब असम में हुआ वहीं सबसे कम 12.86% वोटिंग जम्मू-कश्मीर के अनंतनाग सीट पर हुई। और तो और, जहां कोसी क्षेत्र के मधेपुरा व सुपौल क्षेत्र में हल्की-फुल्की बारिश के बीच सुहावने मौसम में मतदाताओं ने अपने मताधिकार का निर्भीकतापूर्वक जमकर प्रयोग किया वहीं केरल में वोटिंग के दौरान बेशुमार गर्मी से 8 मतदाताओं की मौत हो गई तथा 4 पोलिंग अफसर बेहोश हो गए। देश के विकास के लिए वोटरों ने खूब बहाया अपना पसीना।

और तो और…. जहां गुजरात के जूनागढ़ लोकसभा सीट के बाणेज गाँव में मात्र 1 मतदाता के लिए एक मतदान केंद्र बनाया गया वहीं छत्तीसगढ़ के शेरडांड गांव में बनाए गए एक बूथ पर मात्र 4 मतदाताओं ने आधे घंटे में ही 100% मतदान का रिकॉर्ड बना लिया। इन दोनों बूथों पर वोट डालते हुए देखने के लिए देश ही नहीं विदेश से भी पत्रकार पहुचे थे… लाइव कवरेज भी किया गया जिसे सारा संसार देखता रहा।

यह भी बता दें कि पिछले लोकसभा चुनाव की तरह इस बार भी मतदान करने में महिलाएं पुरुषों से आगे रहीं जबकि पहली बार वोट डालने वाली युवा मतदाताओं ने मधेपुरा अबतक को बताया कि धर्म, जाति एवं क्षेत्रीयता से ऊपर उठकर देश की मजबूती के लिए उन्होंने मतदान किया है। सुहावने मौसम में वे 6:00 बजे प्रातः से ही वोटिंग के लिए पंक्ति में लग गई जबकि कहीं-कहीं ईवीएम में खराबी के चलते घंटे-डेढ़ घंटे तक मतदान प्रभावित रहा। उनकी शिकायत पर डीएम सह जिला निर्वाचन पदाधिकारी नवदीप शुक्ला द्वारा जानकारी मिलते ही मधेपुरा प्रखंड के बूथ नंबर 121 पर उसे बदल दिया गया। मतदान शुरू होने के दौरान ही 26 बैलट यूनिट एवं 22 वी वी पेट में खराबी आने के कारण बदला गया। कुल मिलाकर मतदान शांतिपूर्ण रहा। अपनी-अपनी जीत के दावे करने वाले तीनों प्रत्याशियों सहित मतदाताओं, चुनाव कर्मियों एवं जिला प्रशासन के शीर्ष पदाधिकारी डीएम नवदीप शुक्ला एवं एसपी संजय कुमार को मधेपुरा अबतक की ओर से कोटि-कोटि साधुवाद।

सम्बंधित खबरें


तीसरे चरण में मधेपुरा समेत पांच सीटों पर मतदान संपन्न

बिहार में लोकसभा चुनाव के तीसरे चरण की पांच सीटों – मधेपुरा, सुपौल, अररिया, खगड़िया और झंझारपुर – के लिए मतदान शांतिपूर्वक संपन्न हो गया। छिटपुट घटनाओं को छोड़ इस दौरान कहीं कोई अप्रिय घटना नहीं हुई। इन सीटों पर कुल मिलाकर 60 प्रतिशत मतदाताओं ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया। अलग-अलग देखें तो मधेपुरा में 59.12 प्रतिशत वोटिंग हुई, जबकि सुपौल में मतदान का प्रतिशत 62.80, अररिया में 62.34, खगड़िया में 58.83 और झंझारपुर में 56.92 रहा।

बता दें कि इन पांचों लोकसभा क्षेत्रों में 89.09 लाख से ज्यादा मतदाताओं के लिए 9,076 मतदान केन्द्र केन्द्र बनाए गए थे। सुरक्षा के दृष्टिकोण से खगड़िया लोकसभा क्षेत्र के नक्सल प्रभावित सिमरी बख्तियारपुर, अलौली एवं बेलदौर विधानसभा क्षेत्रों में मतदान चार बजे ही समाप्त हो गया था, जबकि अन्य सभी क्षेत्रों में मतदान का कार्य शाम छह बजे तक जारी रहा। इस चरण के मतदान को लेकर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए थे। सभी मतदान केन्द्रों पर अर्धसैनिक बलों और बिहार सैन्य बल की तैनाती की गई थी और मतदान के लिए 58 हजार से ज्यादा मतदानकर्मियों को लगाया गया। हालांकि प्रारंभ में कुछ स्थानों पर ईवीएम खराब होने की सूचना मिली थी, जिसे बाद में ठीक कर लिया गया।

गौरतलब है कि इस चरण की पांच सीटों के लिए पांच महिला उम्मीदवार सहित कुल 82 उम्मीदवार चुनावी मैदान में थे। मधेपुरा की चर्चित सीट के लिए जदयू के दिनेश चन्द्र यादव, राजद के शरद यादव और मौजूदा सांसद व जाप प्रमुख राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव के बीच मुकाबला है। मुकाबले के त्रिकोणीय होने से जदयू को लाभ होने की बात कही जा रही है। मधेपुरा के अलावे झंझारपुर में भी त्रिकोणीय मुकाबला होने की उम्मीद है। यहां जदयू के रामप्रीत मंडल, राजद के गुलाब यादव और निर्दलीय देवेन्द्र प्रसाद यादव के बीच दिलचस्प त्रिकोण बन रहा है। बाकी तीन सीटों सुपौल, अररिया और खगड़िया में आमने-सामने की लड़ाई है। सुपौल में जदयू के दिलेश्वर कामत और कांग्रेस की रंजीत रंजन, अररिया में भाजपा के प्रदीप सिंह और राजद के सरफराज आलम तथा खगड़िया में लोजपा के महबूब अली कैसर और विकासशील इंसान पार्टी के मुकेश सहनी के बीच सीधा मुकाबला है।

चलते-चलते बता दें कि बिहार की 40 लोकसभा सीटों के लिए सभी सात चरणों में मतदान होना है। पहले चरण में 11 अप्रैल को चार तथा दूसरे चरण में 18 अप्रैल को पांच लोकसभा क्षेत्रों में मतदान संपन्न हो चुका है। मतों की गिनती 23 मई को होनी है।

सम्बंधित खबरें


मधेपुरा ने बनाया भरपूर मतदान का मन

लोकसभा चुनाव 2019 के तीसरे चरण के मतदान के लिए बिहार के मधेपुरा, सुपौल, अररिया, खगड़िया, झंझारपुर समेत देश के अन्य क्षेत्रों में प्रचार का शोर थम गया है। सारे राजनीतिक दल प्रचार के दौरान अपने-अपने वादे कर चुके हैं। अब कल 23 अप्रैल को जनता की बारी है।

बता दें कि चुनाव में सुरक्षा की चाक-चौबंद व्यवस्था के साथ-साथ निष्पक्ष, भयमुक्त एवं शांतिपूर्ण मतदान कराने के लिए मधेपुरा जिला प्रशासन संकल्पित है। चुनाव से संबंधित गश्ती दल, फ्लैग मार्च एवं अन्य तैयारियों को लेकर मधेपुरा डीएम नवदीप शुक्ला एवं एसपी संजय कुमार ने मधेपुरा अबतक से कहा कि मतदातागण अपने वोट का भविष्य निर्भीकतापूर्वक खुद ही तय करेंगे। भयमुक्त मतदान का संकल्प दोहराते हुए जिला प्रशासन ने कहा कि जिले के सीमाक्षेत्र के साथ-साथ सीमा से सटी नदियों में भी गश्ती दल की तैनाती की जाएगी। विशेष जानकारी के लिए हेल्पलाइन नं. 1950 जारी किया गया है।

यह भी बता दें कि जिला प्रशासन ने चुनाव आयोग के निर्देशानुसार शतप्रतिशत मतदान कराने के उद्देश्य से मधेपुरा की ‘कराटे क्वीन’ सोनी राज को जिले की इलेक्शन आइकॉन बनाया है। आज सुबह अपने दायित्व-निर्वहन के क्रम में सोनी राज मधेपुरा के डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम पार्क पहुंची जहां बड़ी संख्या में शहर के स्त्री-पुरुष व बच्चे अपने-अपने खंडों के ओपन जिम में स्वास्थ्य लाभ कर रहे थे। वहीं मधेपुरा के कलाम कहे जाने वाले समाजसेवी-साहित्यकार डॉ. भूपेन्द्र नारायण यादव मधेपुरी के सहयोग से सोनी राज ने सबको एकत्रित किया और फिर उनसे अनुरोध किया कि वे कल के मतदान के लिए सबसे अपील करें।

इस मौके पर डॉ. मधेपुरी ने कलाम पार्क में आए बैंक लीड ऑफिसर एके झा, संतोष कुमार झा, प्रो. उपेन्द्र प्रसाद यादव, शब्बीर अहमद, निर्मल तिवारी सहित उपस्थित तमाम लोगों से कहा कि लोकसभा का यह चुनाव देश के रहनुमाओं का चुनाव है। उन्होंने कहा कि हमें ध्यान रहना चाहिए कि नेताओं के पास पथ छोड़ कुपथ पर जाने के हजारों रास्ते हो सकते हैं, परन्तु उन्हें सुपथ पर लाने के लिए हमारे पास बस एक ही हथियार है, और वह है हमारा वोट।

डॉ. मधेपुरी ने सभी को ‘पहले मतदान, फिर जलपान’ का संकल्प दिलाया और कहा कि इवीएम का बटन दबाते समय हम यह अवश्य सोचें कि देश किन हाथों में सुरक्षित रहेगा और उन्हें ही अपना बहुमूल्य मत दें। आप अपने आसपास के सभी मतदाताओं को साथ लेकर मतदान केन्द्र पर जाएं और मतदान में भागीदार बनकर लोकतंत्र को मजबूत बनाएं और देश की प्रगति का हिस्सा बनें।

सम्बंधित खबरें


अभिनंदन के लिए ‘वीर चक्र’ की सिफारिश

बालाकोट में आतंकियों के ठिकानों पर एयर स्ट्राइक के बाद पाकिस्‍तानी विमानों की घुसपैठ का मुंहतोड़ जवाब देने वाले विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान अब किसी परिचय के मोहताज नहीं हैं। हाल ही में देश और दुनिया का ध्यान खींचने वाले और वीरता का पर्याय बन चुके अभिनंदन के लिए भारतीय वायुसेना ने ‘वीर चक्र’ की सिफारिश की है। इसके साथ ही खबर है कि भारतीय वायुसेना ने सुरक्षा कारणों के चलते उनका कश्‍मीर से तबादला भी कर दिया है। अभी वह श्रीनगर स्थित एयरबेस पर तैनात थे। बताया जाता है कि उन्‍हें पश्चिमी सेक्‍टर के किसी महत्‍वपूर्ण बेस पर ही तैनात किया जाएगा।

गौरतलब है कि बीते 26 फरवरी को बालाकोट एयरस्ट्राइक के बाद पाकिस्तानी वायुसेना ने 27 फरवरी की सुबह भारतीय सीमा में दाखिल होने की कोशिश की थी। पाकिस्तानी विमानों को खदेड़ते हुए विंग कमांडर अभिनंदन ने एक एफ-16 विमान को मार गिराया था। इसी क्रम में उनके मिग बाइसन विमान में भी आग लग गई थी और वह दुर्घटनाग्रस्त हो गया। इस दुर्घटना के बाद विंग कमांडर अभिनंदन विमान से इजेक्ट कर पैराशूट के सहारे सुरक्षित उतरने में कामयाब रहे, लेकिन वे पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर में उतरे जहां स्थानीय लोगों और पाकिस्तान की सेना ने उन्हें कब्जे में ले लिया।

पाकिस्तानियों के चंगुल में फंसने और बंदी बनाए जाने के बावजूद जांबाज अभिनंदन ने भारतीय वायुसेना के बारे में दुश्‍मनों को कुछ नहीं बताया था। आखिरकार, चौतरफा अंतरराष्‍ट्रीय दबाव के बाद पाकिस्‍तान को भारतीय पायलट अभिनंदन वर्धमान को वापस सौंपना पड़ा, जिसके बाद पूरे देश ने खुशियां मनाई थीं। आज एक बार फिर पूरा देश गौरवान्वित है अपने वीर पुत्र के सम्मान पर। उन्हें ‘मधेपुरा अबतक’ की ओर से ढेरों बधाई और शुभकामनाएं।

सम्बंधित खबरें